.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: बीजेपी को झटका,निजामाबाद से  डा.पियूष यादव बसपा से लड़ सकते हैं चुनाव


जिले में टिकट न मिलने से नाराज नेता अब अपने लिए नया ठिकाना तलाश रहे हैं

बीजेपी में भी घमासान, पियूष के समर्थकों ने पोस्टरवार भी शुरू कर दिया

आजमगढ़: यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की सरगर्मी चरम पर है। सत्ता की महत्वाकांक्षा में टिकट की होड़ इतनी बढ़ गई हैं कि राजनीतिक दलों की मुश्किल बढ़ती दिखाई दे रही है। एक तरफ टिकट को लेकर सपा और कांग्रेस में विद्रोह शुरू हो गया है तो दूसरी तरफ अब बीजेपी में भी घमासान साफ दिख रहा है। निजामाबाद से टिकट की दावेदारी कर रहे डा. पियूष यादव ने मनोज यादव को टिकट मिलने के बाद अपने लिए नए ठौर की तलाश शुरू कर दी है। सूत्रों की मानें तो पियूष यादव अब इसी सीट से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ेगे। पियूष लखनऊ में डटें थे लेकिन उनके समथर्को ने पोस्टरवार शुरू कर दिया है। बता दें कि पियूष यादव लंबे समय से निजामाबाद क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। वर्ष 2017 के चुनाव में भी उन्होंने निजामाबाद से टिकट मांगा था लेकिन उस समय पार्टी ने वरिष्ठ नेता विनोद राय को प्रत्याशी बना दिया था। वर्ष 2022 के चुनाव के लिए पियूष पूरी ताकत से मैदान में जुटे थे। क्षेत्र में उनकी गतिविधयों को देखते हुए माना जा रहा था उनका टिकट पक्का है। रक सप्ताह पूर्व जब बीजेपी ने छह सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा की तो पियूष यादव को बड़ा झटका लगा। कारण कि पार्टी ने पूर्व मंत्री अंगद यादव के भतीजे मनोज यादव को यहां से प्रत्याशी बना दिया। तभी से माना जा रहा है कि समर्थकों के दबाव के चलते डा० पियूष इस बार चुनाव जरूर लड़ेगे। पियूष के करीबी सूत्रों की मानें तो उनकी बसपा मुखिया से वार्ता हो चुकी है। बसपा के टिकट पर पियूष मैदान में उतर गए हैं। पियूष के समर्थकों ने शोषण मीडिया पर नीले झंडे के साथ उनके लिए कैंपेन भी शुरू कर दिया हैं। अगर पियूष को बसपा से टिकट मिलता है तो यहां चुनाव दिलचस्प होना तय है। कारण कि अब तक यहां बसपा ने कैलाश यादव को प्रभारी बनाया था और उनका टिकट पक्का माना जा रहा था। पियूष मैदान में उतरते हैं तो इस सीट पर तीन यादव और एक अल्पसंख्यक उम्मीदवार में सीधा मुकाबला होगा। कारण कि सपा ने विधायक आलमबदी को मैदान में उतारा है। वहीं कांग्रेस से अनिल कुमार यादव और बीजेपी से मनोज यादव मैदान में हैं। ऐसे में यहां मुस्लिम और अदर बैकवर्ड मतदाता निर्णायक की भूमिका में होंगे। वे जिसके साथ खड़े होंगे उसकी जीत लगभग पक्की होगी।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment