.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: सीडीओ ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी से जवाब मांगा

सीडीओ आनंद शुक्ला

पशु चिकित्साधिकारी तरवां के निलंबन को पत्र भेजा

बेसहारा पशुओं के गोद लेने वाले पालकों को भरण पोषण धनराशि देने में लापरवाही मिली

आजमगढ़: सीडीओ आनंद कुमार शुक्ला ने शनिवार को मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. वीरेंद्र सिंह से तीन दिन के भीतर जवाब मांगा है। साथ ही पशु चिकित्साधिकारी तरवां डा. ईश्वरी नरायन यादव के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई करने के लिए प्रमुख सचिव पशुपालन विभाग को पत्र भेजा है। इन दोनों लोगों पर आरोप है कि सहभागिता योजना के तहत गोद लेने वाले लावारिस पशुओं के भरण पोषण के लिए शासन की तरफ से दी जाने वाली धनराशि पशु पालकों को देने में लापरवाही बरते हैं। सीडीओ की इस कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है। सीडीओ के मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. वीरेंद्र सिंह को दिए गए पत्र के मुताबिक 14 जनवरी को जिले के नोडल अधिकारी प्रमुख सचिव ने सरायमीर कस्बे में स्थित गोशाला का निरीक्षण किया था। इस दौरान विभिन्न विकास खंडों में सहभागिता योजना के तहत गो आश्रय स्थलों से गोवंश सुपुर्दगी के लाभार्थियों तथा उन्हें भरण पोषण के लिए दी जाने वाली धनराशि की अपेक्षा की गई। इसके अलावा गोआश्रय स्थलों से गोवंश की सुपुर्दगी में दिए गए गोवंश के लाभार्थियों को जुलाई माह से लेकर दिसंबर माह तक का भुगतान नहीं होना पाया गया। यह घोर लापरवाही है। तीन दिन के भीतर इसका कारण स्पष्ट करें। अन्यथा आपके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। इसी क्रम में पशु चिकित्साधिकारी तरवां ईश्वरी नरायन यादव के निलंबन की कार्रवाई के लिए प्रमुख सचिव पशु पालन विभाग को पत्र भेजा गया है। इन पर आरोप है कि गोवंश भरण पोषण के लिए देय बिल न प्रस्तुत कर माह अप्रैल 2021 से दिसंबर तक का भुगतान 13 जनवरी 2022 को उपलब्ध कराया गया है। इस प्रकार इनकी घोर लापरवाही उजागर हुई है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment