.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: विद्यालय सत्र 2021-22 के लिए शुल्क वृद्धि ना करें- डीआईओएस


बन्द गतिविधियों से सम्बन्धित किसी प्रकार का शुल्क एवं परिवहन शुल्क छात्रों से न लिया जाये

आजमगढ़ 22 मई-- जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ वीके शर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण उत्पन्न असाधारण परिस्थितियों के दृष्टिगत प्रदेश में संचालित समस्त शिक्षा बोर्डो के समस्त विद्यालयों द्वारा ली जाने वाली शुल्क को नियमित करने एवं विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक/शिक्षणेत्तर कार्मिकों को वेतन/पारिश्रमिक का भुगतान किये जाने के सम्बन्ध में निर्देश दिये गये हैl 
उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण कई परिवार आर्थिक रूप से प्रभावित हुए है। कोविड-19 वायरस के फैलाव एवं संक्रमण पर नियंत्रण करने हेतु यद्यपि कुछ समय के लिए विद्यालय बन्द किये गये, परन्तु ऑनलाइन पठन-पाठन का कार्य जारी है तथा विद्यालयों द्वारा छात्रों से शुल्क भी प्राप्त किया जा रहा है। विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के वेतन को भी सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है, जिससे कि उनके परिवारों में कोई आर्थिक कठिनाई उत्पन्न न हो। 
उक्त के सम्बन्ध में शासन द्वारा निर्देश हुआ है कि जनपद में संचालित समस्त शिक्षा बोर्डो के समस्त विद्यालयों के सम्बन्ध में शासन द्वारा सम्यक विचारोपरान्त छात्रहित एवं जनहित में कतिपयनिर्णय लिये गये हैl जिसके अंतर्गत उन्होंने कहा कि जनपद में संचालित समस्त शिक्षा बोर्डो के समस्त विद्यालयों द्वारा शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए शुल्क वृद्धि न की जाय तथा पिछले वर्ष की भॉति, शैक्षणिक सत्र 2019-20 हेतु लागू की गयी शुल्क संरचना के अनुसार ही शैक्षणिक सत्र 2021-22 में छात्र/छात्राओं से शुल्क लिया जाय। यदि किसी विद्यालय द्वारा शैक्षणिक सत्र 2021-22 में शुल्क वृद्धि करते हुए, बढ़ी हुई दरों से शुल्क लिया जा चुका है तो बढ़ी हुई अतिरिक्त शुल्क को आगामी महीनों के शुल्क में समायोजित किया जाय। जब तक विद्यालयों में भौतिक रूप से ऑफलाइन परीक्षा संपादित नहीं की जा रही है, तब तक परीक्षा शुल्क छात्रों से न लिया जाये। इसी प्रकार विद्यालय बन्द रहने की अवधि में जब तक कि क्रीडा, विज्ञान/प्रयोगशाला, लाइब्रेरी, कम्प्यूटर, वार्षिक फंक्शन इत्यादि सम्बन्धी गतिविधियां नही हो रही है, तब तक उक्त गतिविधियों से सम्बन्धित किसी प्रकार का शुल्क एवं परिवहन शुल्क छात्रों से न लिया जाये। किसी भी छात्र/अभिभावक को यदि 03 माह का अग्रिम शुल्क जमा करने में कठिनाई हो, तो छात्र/ अभिभावक के अनुरोध पर उनसे मासिक शुल्क लिया जाय तथा 03 माह का अग्रिम शुल्क जमा करने के लिए बाध्य न किया जाय। यदि कोई छात्र एवं उनके परिवार के सदस्य (माता, पिता, भाई, बहन) कोविड-19 से संक्रमित है तथा उन्हें किसी महीन के शुल्क को देने की कठिनाई हो रही है तो उनके लिखित अनुरोध पर विद्यालय द्वारा उस महीने का शुल्क, अग्रिम महीनों की शुल्क में किश्तों के रूप में समायोजित किया जाय। विद्यालयों में कार्यरत समस्त शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कार्मिकों का नियमित रूप से पारिश्रमिक/वेतन का भुगतान सम्बन्धित विद्यालय के प्रबन्धक/ प्रधानाचार्य द्वारा सुनिश्चित किया जाय। यदि शुल्क इत्यादि के सम्बन्ध में किसी बिन्दु विशेष पर कोई पक्ष क्षुब्ध है तो उ0प्र0 स्ववित्तपोषित स्वतंत्र विद्यालय (शुल्क विनियम) 2018 की धारा-8(1) के अन्तर्गत जिला विद्यालय निरीक्षक, आजमगढ़ के समक्ष दूसरे पक्ष द्वारा आवेदन पत्र प्रस्तुत किया जा सकता है। इस प्रकार प्रस्तुत आवेदन पत्र पर जिला नियामक समिति द्वारा एक सप्ताह में नियमानुसार निर्णय लिया जायेगा। 
यह निर्देश समस्त बोर्ड के समस्त माध्यमिक विद्यालयों पर लागू होगा तथा उपरोक्त निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जायेगा कि किसी भी छात्र एवं शिक्षक/शिक्षणेत्तर कार्मिक को किसी प्रकार की कठिनाई ना हो।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment