.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: सरकारी ठेके से बिकती थी जहरीली शराब, सिपाही समेत 04 गिरफ्तार


पकड़े गए लोगों से पूछताछ के बाद चंगुल में आया कांस्टेबल अविनाश 

पुलिस ने माना कि जहरीली शराब से हुईं हैं मौतें, रैपर, ढक्कन, शीशियां बरामद

आजमगढ़ : जिले और पड़ोसी जनपद में जहरीली शराब से हुई मौतों पर पड़ा पर्दा उठा तो अब प्रशासन किसी को बख्शने के मूड में नही है । गिरफ्तार मौत के सौदागरों से पूछताछ में सिपाही अविनाश का नाम आने पर एसपी के निर्देश पर उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस की दबिश पड़ी तो भारी मात्रा में शराब की बोतलें, रैपर, ढक्कर इत्यादि बरामद हुए हैं। गुनहगारों की गिरफ्तारी के बाद लोगों के मन में राहत तो जरूर है, लेकिन अपनों के खोने गम उन्हें बेचैन कर रहा है।
एसपी सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि जहरीली शराब से आजमगढ़ में हुई मौतों के मामले में शशि प्रकाश साहू, राजेश अग्रहरी दोनो निवासी मित्तूपुर, दुर्ग विजय सिंह निवासी इमलीपुर पेटिया, अम्बेडकर नगर को पुलिस ने गिरफ्तार किया। मौत के सौदागरों से पूछताछ के बाद पवई थाने में तैनात रहे निलंबित कांस्टेबल अविनाश प्रसाद को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि वे पवई अंतर्गत मित्तूपुर की सरकारी ठेके की दुकान पर शराब बेचने का काम करते हैं। उसकी आड़ में अवैध शराब को बोतलों में भरकर लाइसेंसी दुकानों पर बेचने को देते थे। उन्होंने बताया कि कांस्टेबल अविनाश को इसकी जानकारी थी और वह उनसे धन उगाही करता था । पुलिस ने गिरफ्तार शशि प्रकाश साहू की निशानदेही पर उसके घर से विभिन्न ब्रांडों की रैपर लगी शीशियां, 850 से अधिक शीशियों के ढक्कन, अवैध तरीके से बनाई गई जहरीली शराब बरामद हुई है। मौतों के सौदागर गिरोह के कथित सरगना मोती को पुलिस रिमांड पर लेगी। पुलिस के दावे की माने ताे पूरे गिरोह का भंडा फोड करना चाहती है। जहरीली शराब पीने बीमार पड़े लोगों ने भी मोती लाल का नाम लिया है। उसके लोग 150 रुपये में शराब की शीशी बेचते थे। चूंकि लाॅकडाउन में पास-पड़ोस की कई दुकानें बंद थी, इसलिए जेब भरने के लिए जहरीली शराब बेच डाली गई।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment