.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

सम्पूर्ण समाधान दिवस: मण्डलायुक्त एवं डीआईजी ने निजामाबाद में सुनी जन शिकायतें


अभियान चलाकर अविवादित वरासत के मामलों का किया जाय निस्तारण: मण्डलायुक्त

भूमि विवाद से सम्बन्धित मामलों के निस्तारण हेतु राजस्व एवं पुलिस की संयुक्त टीम भेजने में देर ना हो : डीआईजी

आज़मगढ़ 15 सितम्बर -- मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त एवं डीआईजी सुभाष चन्द्र दूबे ने सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर मंगलवार को तहसील निजामाबाद में आम जन से रू-ब-रू होकर कुल 34 लोगों की समस्याओं को पूरी गंभीरता से सुना तथा 6 मामलों का मौके पर निस्तारण किया। अधिकारीद्वय के समक्ष प्रस्तुत प्रार्थना पत्रों में राजस्व के 20, पुलिस के 10, आपूर्ति के 2, विद्युत एवं विकास के 1-1 मामले सम्मिलित थे। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने जन समस्याओं की सुनवाई के दौरान पाया कि तहसील के अन्तर्गत ग्रामों में बड़ी संख्या में अविवादित वरासत के मामले लम्बित हैं, जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मण्डलायुक्त ने इस स्थिति असन्तोष व्यक्त करते हुए उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया कि अभियान चलाकर अविवादित वरासत के मामलों का निस्तारण किया जाय। सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर विकास खण्ड मिर्ज़ापुर एवं मुहम्मदपुर के बीडीओ उपस्थित नहीं थे। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने इस स्थिति पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए एसडीएम को निर्देशित किया कि सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर सभी अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित कराई जाय, भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जो भी अधिकारी अवकाश पर रहें वे सम्बन्धित एसडीएम को इस सम्बन्ध में निवार्य रूप से अवगत करायें। इसी क्रम में उन्होंने सभी एडीओ पंचायत को निर्देशित किया कि रोस्टर बनाकर गांवों का भ्रमण करें तथा स्थानीय समस्याओं को संज्ञान में लेकर यथासंभव मौके पर ही उसका निराकरण करें। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने इस मौके पर ब्लैक पाटरी की मार्केटिंग आदि के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी लेते हुए उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया कि ब्लैक पाटरी से जुड़े लोगों से निरन्तर सम्पर्क बनाये रखें तथा उनके समक्ष आ रही समस्याओं का प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण किया जाय। उन्होंने कहा कि नाली, खड़ंजा, चकमार्ग पर कब्जा, पैमाइश आदि के छोटे-छोटे मामलों को नजर अन्दाज किया जाना उचित नहीं है, बल्कि राजस्व निरीक्षक, लेखपाल आदि की जिम्मेदारी तय करते हुए ऐसे मामलों का मौके पर ही तत्परता से निराकरण करायें। उन्होंने उपजिलाधिकारी को निर्देश दिया कि बकाया वसूली में तेजी लायें तथा बकाया रजिस्टर में अमीनवार आरसी दर्ज है या नहीं, उसका मुआयना करें। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने जन समस्याओं के निस्तारण के सम्बन्ध में कहा कि अधिकारी जब भी गांव में मौका मुआयना के लिए जाये ंतो शिकायतकर्ता को अवश्य सुनें। ग्राम ओरा निवासी लोगों संयुक्त रूप से प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराया कि गांव में बड़ी संख्या मेें अविवादित वरासत के मामले काफी दिनों से लम्बित हैं। इस पर मण्डलायुक्त ने निर्देशित किया कि उक्त गांव में सभी लम्बित वरासत के मामले निस्तारित करते हुए प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाय। इसी प्रकार ग्राम महुआर के साथ ही कई अन्य गांवों से आये फरियादियों से पैमाइश के सम्बन्ध में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया जिस पर मण्डलायुक्त ने शिकायतों के परिपे्रक्ष्य में राजस्व विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देशित किया कि पैमाइश फरियादियों के सामने करायें। उन्होंने कहा कि जो भी निस्तारित किये जायें वे गुणवत्तापूर्ण एवं स्थायी होने चाहिए ताकि पुनः उसी मामले को लेकर दुबारा आने की जरूरत न पड़े।ज न समस्याओं की सुनवाई के दौरान डीआईजी सुभाष चन्द्र दूबे ने कहा कि प्रायः छोटे-छोटे विवाद ही आगे चलकर बड़ी दुर्घटना का कारण बन जाते हैं, इसलिए विवाद के शुरुआती दौर में ही उसका ठोस निस्तारण किया जाना जरूरी होता है। उन्होंने एसडीएम एवं क्षेत्राधिकारी पुलिस को निर्देश दिया कि

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment