.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

तरवां जा रहे सपा नेताओं को प्रशासन ने रोका, सड़क पर धरना दे नारेबाजी किया



कांग्रेस और भीम आर्मी के बाद अब सपा नेताओं को प्रशासन ने तरवां जाने से रोका

लॉकडाउन के दिन सड़क पर धरना प्रदर्शन करने पर प्रशासन सपा नेताओं पर कर सकता है कार्यवाही

आजमगढ़ : जिले के तरवां क्षेत्र में अनुसूचित जाति के प्रधान की हत्या के मामले में कांग्रेस और आजाद समाज पाटी (भीम आर्मी) के बाद शनिवार को अब समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल को प्रशासन ने बांसगांव जाते समय इटौरा में रोक दिया। इस दौरान नाराज सपाई वहीं सड़क पर धरने पर बैठ गए और जम कर नारेबाजी की । मौके पर एडीएम प्रशासन नरेंद्र सिंह के नेतृत्व में भारी फोर्स तैनात थी।
आजमगढ़ जिले के तरवां थाना क्षेत्र के बांसगांव में अनुसूचित जाति के प्रधान की हत्या और पुलिस की गाड़ी से किशोर की मौत के बाद राजनीति गरम है। दो दिन पहले प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने बांसगांव जाने की कोशिश की थी तो उन्हें सर्किट हाउस में नजरबंद कर दिया था। कांग्रेसियों ने वहीं धरना दिया था लेकिन उन्हें जाने नहीं दिया गया। वहीं, आजाद समाज पार्टी (भाम आर्मी) के प्रमुख चंद्रशेखर को अतरौलिया के लोहरा टोल प्लाजा रोका गया तो उन्होंने भी, वहीं धरना शुरू कर दिया। मामले में सौ से ज्यादा लोगों का 151 में चालान किया गया था। अगले दिन चंद्रशेखर समेत 10 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया था।
शुक्रवार को सपा जिलाध्यक्ष ने प्रतिनिधिमंडल के बांसगांव जाने की बात कही थी। इस पर प्रशासन की ओर से रोक लगाने की तैयारी कर ली गई थी। सुबह से ही इटौरा में भारी फोर्स तैनात कर दी गई थी। शनिवार की सुबह समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधिमण्डल पूर्व सांसद वरिष्ठ नेता बलिहारी बाबू के नेतृत्व में पूर्व सांसद दरोगा प्रसाद सरोज, वरिष्ठ नेता मिठाईलाल भारती, पूर्व मंत्री राजेन्द्र प्रसाद, पूर्व विधायक बेचई सरोज, वरिष्ठ नेता हरिनाथ राम, अशोक गौतम, पूर्व मंत्री चन्द्रदेव यादव, निवर्तमान जिलाध्यक्ष हवलदार यादव, पूर्व विधायक आदिल शेख, पूर्व अध्यक्ष अखिलेश यादव, पूर्व प्रत्याशी जयराम सिंह पटेल, वरिष्ठ स0पा0नेत्री सिंगारी गौतम, महिला सभा की अध्यक्ष बबिता चैहान, जिला पंचायत सदस्य वीरेन्द्र यादव, शिवसागर यादव आदि तरवां जाने को निकले तो इटौरा मोड़ पर पुलिस प्रशासन दीवार बन कर खड़ा नजर आया। रोके जाने से नाराज सपाइयों ने वही सड़क पर बैठ कर सरकार और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी । अधिकारियों ने उनका ज्ञापन लेकर उन्हें समझा बुझा कर रास्ता खुलवाया । वहीं धारा 144 और लॉक डाउन के बावजूद सपा नेताओं के द्वारा किये गए धरना प्रदर्शन पर प्रशासन गम्भीर है। एसपी सुधीर कुमार सिंह ने कहा कि सपा के धरना प्रदर्शन के वीडियो फुटेज का अवलोकन कर इन पर भी कार्यवाही की जा सकती है ।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment