.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

प्रयास ने तिब्बती अध्यात्मिक गुरू दलाई लामा को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग की

प्रयास सामाजिक संगठन ने दलाई लामा का 85वां जन्मदिन मनाया 

आजमगढ़। तिब्बती अध्यात्मिक गुरू, शांति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित दलाई लामा का 85वां जन्मदिन प्रयास सामाजिक संगठन ने कुंवर सिंह उद्यान में मनाते हुए उन्हे भारत रत्न उपाधि से सम्मानित करने की मांग की। प्रयास सचिव ई. सुनील यादव ने बताया कि दलाई लामा विश्व में तिब्बत के प्रतीक है। तिब्बत की आजादी के लिए गांधीवादी सिद्धान्तो का अनुसरण करते हुए अहिंसक संघर्ष जारी रखने पर इन्हे 1989 में नोबेल शांति पुरस्कार प्रदान किया गया है। 14वें दलाई लामा तेनजिन ग्यात्सो तिब्बतियों के धर्मगुरू है। इनका जन्म 6 जुलाई 1935 को उत्तर-पूर्वी तिब्बत के ताकस्तेर क्षेत्र में रहने वाले ओमान परिवार में हुआ था। दो वर्ष की अवस्था में बालक ल्हामो धोंडुप की पहचान 13 वें दलाईलामा थुप्टेन ग्यात्सो के अवतार के रूप में की गयी। दलाई लामा एक मंगोलियाई पदवी है, जिसका मतलब होता है ज्ञान का महासागर। उन्होने कहा धर्मगुरू ने लागातार अहिंसा की नीति का समर्थन जारी रखा है। शांन्ति अहिंसा और हर सचेतन प्राणी की खुशी के लिए काम करना दलाई लामा के जीवन का सिद्धान्त है। भारत की पूर्व राजनयिक निरूपमा राव ने दलाई लामा को भारत रत्न देने की भारत सरकार से अनुसंशा की है जिसे सरकार को शीघ्र मान लेना चाहिए और सम्मान देने मे सरकार कोताही न करे।प्रयास के अध्यक्ष रणजीत सिंह ने कहा दलाई लामा का समपूर्ण जीवन मानवता शान्ति अहिंसा के लिए है। केवल तिब्बत में ही नहीं विश्व में उनके विचारां और कार्यो का सम्मान किया जाता है। दलाई लामा के वंशज करूणा और बुद्ध के गुणों के साक्षात रूप माने जाते है। दलाई लामा की उम्र 23 वर्ष की अवस्था में भारत ने उन्हे शरण दिया। भारत के धर्मशाला हिमांचल प्रदेश से चलने वाली तिब्बत की निर्वासित सरकार को भारत सरकार अविलम्ब मान्यता दें ताकि शरणागत का धर्म निभ सकें। दुनिया के सबसे सम्मानित आध्यात्मिक नेता अपने अहिंसा करूणा मानव प्रेम के चलते महात्मा गांधी, मार्टिनलूथर किंग, नेल्सन मण्डेला, लेचवालेसा की श्रेणी के अग्रगामी कड़ी है।
इस दौरान शीला विश्वकर्मा, प्रिया कुमारी, शिवांगी पाण्डेय, इंजी सुनील यादव, संजय सिंह, रामकेश यादव, धर्मेन्द्र सैनी, घनश्याम मौर्या, आशीष कुमार, सूर्यबली, हरिश्चन्द्र, अंगद साहनी, राजीव शर्मा, डा हरगोविन्द विश्वकर्मा, विशाल यादव, रामसूरत चौहान, शिवप्रसाद पाठक, डा विरेन्द्र पाठक आदि मौजूद रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment