.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

अंतिम समय की राजनीति में खुद को ज़िंदा रखने को नई-नई नौटंकी कर रहें हैं रमाकांत -ब्रजेश यादव

आशा है की पूर्व सांसद सिर्फ नाम के आगे शूद्र लगाने से तक ही सीमित नहीं रहेंगे बल्कि शूद्रों की भलाई के लिए भी कुछ काम करेंगे -जिला उपाध्यक्ष , भाजपा 

आजमगढ़ :  पूर्व सांसद रमाकांत यादव द्वारा अपने नाम के आगे शूद्र जोड़ने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष ब्रजेश यादव ने इसे पूर्व सांसद द्वारा की जाने वाली नई नौटंकी कहां है । उन्होंने पूर्व सांसद पर तंज करते हुए कहा कि मैं रमाकांत यादव जी को अपने नाम के आगे शूद्र जोड़ने पर उन्हें बधाई देता हूं। आदरणीय पूर्व सांसद जी पुस्तकों के अध्ययन के बाद कम से कम भारतीय समाज के चार वर्ण ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शुद्र में से वे स्वयं को शूद्र मानते हैं यह सौभाग्य की बात है कि उन्होंने अच्छी किताबों से जानकारी हासिल की है।  अगर कहीं उनके हाथ में कुछ और किताबें पड़ गई होती तो वे स्वयं को किसी अन्य धर्म का भी बता सकते थे । रमाकांत यादव जी द्वारा स्वयं को शुद्र घोषित करने से शूद्रों का मनोबल बढ़ेगा और मुझे उम्मीद है कि आने वाले समय में पूर्व सांसद जी सिर्फ नाम के आगे शूद्र लगाने से तक ही सीमित नहीं रहेंगे बल्कि शूद्रों की भलाई के लिए भी कुछ काम करेंगे। उन्होंने कहा कि यह रमाकांत यादव जी की राजनीति अब अंतिम समय में है, इसलिए खुद को जिंदा रखने के लिए नई-पूर्व सांसद जी सिर्फ नाम के आगे शूद्र लगाने से तक ही सीमित नहीं रहेंगे बल्कि शूद्रों की भलाई के लिए भी कुछ काम करेंगे। नई नौटंकी करते रहते हैं, लेकिन इससे कुछ हासिल होने वाला नहीं है । उन्होंने कहा कि शायद पूर्व सांसद जी यह भूल गए हैं कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है यहां किसी के साथ धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव की इजाजत नहीं है। सभी लोग अपने धर्म और परंपराओं का पालन करने के लिए स्वतंत्र हैं।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment