.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: सोशल डिस्टेंस का ध्यान रख मनाई गई महाराणा प्रताप की जयंती

देश में धर्मनिरपेक्षता का एजेंडा चला ऐसे महापुरुषों के संघर्ष को दबाया जा रहा है - विजेंद्र सिंह, प्रमुख ,महाराणा प्रताप सेना

आजमगढ़। महाराणा प्रताप सेवा समिति के तत्वाधान में शनिवार को गरूण होटल के सभागार में वीर पुरुष महाराणा प्रताप की जयंती मनाई गई। इस मौके पर सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा गया। समिति के सदस्यों द्वारा महाराणा प्रताप के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया गया। महाराणा प्रताप सेना के सेना प्रमुख विजेंद्र सिंह ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
इस मौके पर बिजेन्द्र सिंह ने कहा कि इतिहासकारों के कारण महाराणा प्रताप के जीवन को कम करके पढ़ाया जाता है। उन्होंने कहा कि देश में धर्मनिरपेक्ष का एजेंडा चलाया जा रहा है। इसके चलते ऐसे महापुरुषों के संघर्ष को दबाया जा रहा है। महाराणा प्रताप का इतिहास पढ़े तो हमारी गलतफहमी दूर हो जाएगी।
अरूण सिंह साधु ने कहा कि भगवान श्री राम के बाद किसी महापुरुष का नाम आता है वह मर्यादा पुरुषोत्तम महाराणा प्रताप वीर पुरुषोत्तम कहलाएं जाते है। अनिल सिंह ने महाराणा प्रताप के जीवन पर प्रकाश डाला। हरिलाल यादव ने कहा कि वह खुद एक शिक्षक है।ं उन्हें इस बात का दुख है कि महाराणा प्रताप जैसे वीरों की कहानियां और पाठ्यक्रम में देखने को नहीं मिलती है। वीरभद्र प्रताप ने कहा कि शासन द्वारा जितने भी महापुरुषों की जयंती राजकीय सम्मान के साथ मनाई जाती है। उसमें महाराणा प्रताप का नाम नहीं होता है।
पत्रकार सूरज जायसवाल ने कहा कि कुछ लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए देश में धर्मनिरपेक्ष का एजेंडा चलाया जा रहा है बहस भी इसी पर हो रही है। फिल्मी सितारों के मरने के बाद हम आंसू जरूर बहातें हैं पर सीमा पर सीने पर गोली खाने वाले जवानों के लिए हमारी संवेदनाएं कम हो जाती है। कार्यक्रम की अध्यक्षता हरिवंश सिंह ने किया। इस मौके पर राणा प्रताप सिंह, संजय कुमार, जवाहरलाल, सुरेंद्र यादव, पवन चौहान, आलोक सिंह, जय सिंह, वीरेंद्र सिंह, शिवम तिवारी, शिवम शास्त्री मौजूद रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment