.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

सवाल ! संकट के दौरान व्यवसायिक बैंक कर्मियों को दी गई सुविधाएं ग्रामीण बैंको को क्यों नहीं

विरोध प्रदर्शन हेतु आल इंडिया ग्रामीण बैंक इम्प्लाईज एसोसिएशन ने कहा काली पट्टी बांध कार्य करेंगे 

व्यवसायिक बैंकों की तरह बीमा कवरेज,प्रोत्साहन राशि आदि ग्रामीण बैंक कर्मियों को क्यों नहीं -सुभाष चन्द्र तिवारी कुन्दन, प्रदेश अध्यक्ष

आजमगढ़: बड़ौदा यूपी बैंक के कर्मचारियों व अधिकारियों ने भेदभाव का आरोप लगाते हुए काला फीता बांधकर विरोध जताया। यूपी ग्रामीण बैंक अधिकारी एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चन्द्र तिवारी कुन्दन ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान काम करने वाले व्यवसायिक बैंकों के कर्मचारियों व अधिकारियों को 30 लाख का जीवन बीमा कवरेज 6 दिन काम करने पर एक दिन का अतिरिक्त वेतन की प्रोत्साहन राशि व एल्टरनेट डे कार्य करने की छूट आदि की सुविधाएं दी जा रही है। जबकि ग्रामीण बैंक के कर्मचारियों व अधिकारियां को कोरोना संकट सम्बन्धित कोई सुविधा नहीं दी गयी है। श्री तिवारी ने आगे बताया कि इधर बड़ौदा यूपी बैंक में समामेलन के पश्चात् पूर्ववर्ती काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक व पूर्वांचल बैंककर्मियों को पूर्व में मिल रही सुविधाओं में कटौती की गयी है। जिससे कर्मियों में आक्रोश व्याप्त है। लिहाजा इस विरोध प्रदर्शन हेतु इस सप्ताह आल इंडिया ग्रामीण बैंक इम्प्लाईज व आफिसर्स एसोसिएशन के आह्वाहन पर बैंककर्मी काला फीता लगाकर कार्य करेंगे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment