.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मण्डलायुक्त ने मेडिकल कालेज को एल-3 हास्पीटल बनाने की तैयारियों का लिया जायजा

जो आवश्यकतायें स्थानीय स्तर से पूरी हो सकती हैं उस पर सीएमओ तत्परता से कार्य करें- कमिश्नर 

वेन्टीलेटर ,डायलिसिस मशीनें और टेक्नीशियन की उपलब्धता पर हुआ मंथन 

आज़मगढ़ 11 मई -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने कोरोना वायरस (कोविड-19) ़के उपचार प्रबन्धन व प्रभावी रोकथाम हेतु राजकीय मेडिकल कालेज चक्रपानपुर में एल-3 श्रेणी उच्चीकृत किये जाने हेतु अब तक की गयी तैयारियों के साथ ही आवश्यकताओं की समीक्षा किया। इस दौरान उन्होंने कई अत्यन्त महत्पूर्ण आवश्यकताओं की तत्काल पूर्ति कराने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया। मण्डलायुक्त ने अपने कार्यालय कक्ष में सोमवार को आयोजित उक्त समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि जिन मशीनों को आपरेट करने के लिए प्रशिक्षण की आवश्यकता है उसे तत्काल दिलायें। बैठक में मण्डलायुक्त द्वारा एल-3 हास्पीटल के रूप में विकसित किये जाने हेतु मूलभूत आवश्यकताओं की जानकारी करने पर मेडिकल कालेज के प्रधानाचार्य डा. आरपी शर्मा ने बताया ने 20 वेन्टीलेटर की आवश्यकता है, जबकि 4 उपलब्ध हैं तथा 5 वेण्टीलेटर क्रय किये जाने की कार्यवाही प्रचलित है। इसपर उन्होंने सीएमओ डा. एके मिश्र को निर्देशित किया कि शेष 16 वेन्टीलेटर को प्राइवेट सेक्टर से लेकर उसमें शिफ्ट करा दें। इसी प्रकार आईसीयू वार्ड के सुगम एवं प्रभावी संचालन हेतु 8 एनेस्थेटिस्ट एवं 6 आइसीयू टेक्नीशियन की आवश्यकता है। इस सम्बन्ध में मण्डलायुक्त द्वारा निर्देश दिया गया कि फिलहाल उपलब्ध दो सरकारी एनेस्थेटिस्ट के साथ ही चार प्राईवेट सेक्टर के एनेस्थेटिस्ट की तत्काल ट्रेनिंग करायें तथा उनकी तैनाती करें। प्रधानाचार्य डा. शर्मा ने कहा कि कोविड-19 प्रभावित मरीज जो किडनी रोग या अन्य ऐसे रोग जिसमें डायलिसिस की आवश्यकता है, को देखते हुए कुल चार डायलिसिल मशीन स्थापित किया जाना है जिसमें 2 मशीन आ गयी है परन्तु उसमें आरओ प्लान्ट लगाना है जिसके लिए लगभग दो सप्ताह का समय लग सकता है। इस पर सीएमओ ने कहा कि दो डायलिसिस मशीनें और टेक्नीशियन उनके द्वारा उपलब्ध करा दिये जायेंगे। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने निर्देश दिया कि जिन अस्पतालों से मशीने अधिग्रहीत की जायें वहाॅं से 6 लोगों को ट्रेनिंग भी दिलायें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि विभिन्न उपकरणों के संचालन हेतु जिनकी ट्रेनिंग कराई जानी है उसका पूरा शिड्यूल तैयार कर उस पर तत्परता से कार्यवाही करना सुनिश्चित किया जाय। मेडिकल कालेज के प्रधानाचार्य ने एल-3 हास्पीटल के अनुरूप विकसित किये जाने के सम्बन्ध में अवगत कराया कि मेडिकल कालेज के अस्पताल के मुख्यभवन, जो 5 मन्जिला है, के ग्राउण्ड फ्लोर एवं प्रथम तल पर 100 बेड की व्यवस्था है जिसमें 80 आइसोलेशन के एवं 20 आईसीयू बेड होंगे। उन्होंने उच्च स्तर से उपलब्ध कराये गये गाइड लाइन के परिप्रेक्ष्य में एल-3 के रूप में विकसित किये जाने के सम्बन्ध में अन्य व्यवस्थाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि 2 नेफ्रालोजिस्ट/प्रशिक्षित फिजिशियन, 2 प्रसूति विशेषज्ञ, एक रेडियोलाजिस्ट, एक कार्डियोलाजिस्ट, एक आर्थोपेडिक सर्जन आदि की भी आवश्यकता है। इस पर सीएमओ द्वारा कहा गया कि अधिकांश स्टाफ की तैनाती उनके स्तर से कर दी जायेगी। इसके अलावा अन्य आवश्यक एवं उपलब्ध उपकरणों के सम्बन्ध में भी बैठक में विस्तार से चर्चा की गयी। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने कहा कि जो आवश्यकतायें स्थानीय स्तर से पूरी हो सकती हैं उस पर मुख्य चिकित्साधिकारी तत्परता से कार्य करें। इसके अलावा जिन उपकरणों की आवश्यकता शासन स्तर से पूरा किया जाना है उसके लिए निरन्तर सम्पर्क में रहें ताकि एल-3 हास्पीटल की स्थापना शीघ्र की जा सके। इस अवसर पर अपर आयुक्त (प्रशासन) अनिल कुमार मिश्र, अपर आयुक्त वंशबहादुर वर्मा, अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य डा. एनएल यादव, डा. राजेश कुमार, डा. दीपक पाण्डेय आदि भी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment