.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़ : डीएम ने क्लास ले कर लेखपालों और सचिवों को जनसहायता का प्रशिक्षण दिया


शिक्षक की तरह बताया की योजनाओं से जरूरतमंद लोगों को किस प्रकार से लाभान्वित किया जाय  

होम क्वारंटाइन हुए प्रवासी मजदूरों की निगरानी करने के लिए प्रत्येक ग्रामों में निगरानी समिति बनी 

आजमगढ़ 06 मई-- कोविड-19 महामारी के दृष्टिग्त लाकडाउन की अवधि में आम जनमानस की सहायता हेतु जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह द्वारा तहसील मेंहनगर के सभागार में विकास खण्ड पल्हना, तरवाॅ, मेंहनगर व मुहम्मदपुर के राजस्व ग्रामों के लेखपालों व सचिवों को प्रशिक्षण दिया गया।
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने उपस्थित समस्त लेखपालों/सचिवों को ब्लैकबोर्ड पर सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं से जरूरतमंद लोगों को किस प्रकार से लाभान्वित किया जाय, इसके सम्बन्ध में विस्तार से बताया गया। उन्होने बताया कि सरकार द्वारा जनता के लिए जो नीति बनायी जाती है, उस नीति से जनता को जोड़ते हुए लाभान्वित करें।
जिलाधिकारी ने कहा कि प्रवासी मजदूर जो जनपद से बाहर से आ रहे हैं, यदि स्वास्थ्य परीक्षण में उनको सर्दी, बुखार, जुकाम आदि की लक्षण नही हैं तो उनको 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन हेतु भेजा जा रहा है, होम क्वारंटाइन हुए प्रवासी मजदूरों की निगरानी करने के लिए प्रत्येक ग्रामों में निगरानी समिति बनायी गयी है। निगरानी समिति के सदस्य आशा, आंगनवाड़ी कार्यकत्री, चैकीदार, युवक मंगल दल का सदस्य हैं, जो क्वारंटाइन हुए व्यक्ति के घर जाकर उसके बारे में जानकारी प्राप्त करते रहेंगे कि उसमें सर्दी, जुकाम, बुखार आदि के लक्षण तो नही है आये हैं, यदि लक्षण प्राप्त होता है तो संबंधित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सूचित करेंगे।
जिलाधिकारी ने लेखपाल/सचिवों से कहा कि जरूरतमंद लोगों को खाद्यान्न वितरित कराना, मनरेगा से जोड़कर कार्य उपलब्ध कराना, श्रम विभाग में श्रमिकों को पंजीकृत कराना, जिसके पास आधार कार्ड व राशन कार्ड नही उनका आधार व राशन कार्ड बनवाना, दिहाड़ी मजदूर हो तो उसको 1000 रू0 की सहायता उपलब्ध कराना, ऐसा व्यक्ति जो किसी भी प्रकार की योजनाओं से आच्छादित नही है, उसे सप्ताहवार लाकडाउन की अवधि तक राशन उपलब्ध कराते रहना आप सभी की जिम्मेदारी है।
जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि ऐसे व्यक्ति जिनके पास न अन्त्योदय कार्ड, न ही पात्र गृहस्थी कार्ड, न ही मनरेगा के सक्रिय जाब कार्डधाकर एवं न ही श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिक हैं और न ही उनके पास आधार व बैंक खाता हैं, ऐसे व्यक्तियों को एक-एक सप्ताह के लिए लाकडाउन की अवधि तक राशन उपलब्ध कराते रहें एवं इनका आधार नम्बर व बैंक खाता खुलवायें एवं राशन कार्ड बनवाने के लिए डीएसओ व आपूर्ति निरीक्षक से समन्वय स्थापित कर राशन कार्ड बनवायें। यह भी ध्यान रखें कि यदि ऐसे कोई व्यक्ति जो किसी भी योजनाओं से आच्छादित न हो उनको 1000 रू0 की अनुमन्य सहायता राशि उपलब्ध करायी जाय।
इसी के साथ ही जिलाधिकारी ने लेखपाल/सचिवों से यह भी कहा कि यदि कहीं भी आपदा के कार्य में कोई समस्या हो तो अपने संबंधित एसडीएम/तहसीलदार व खण्ड विकास अधिकारी को तुरन्त बतायें, जिससे कि समय से समस्या का निराकरण किया जा सके।
इस अवसर पर एसडीएम मेंहनगर राजीव रत्न सिंह सहित संबंधित विकास खण्डों के लेखपाल/सचिव उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment