.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

संरक्षित, निराश्रित गोवंशों के साल भर खाने हेतु भूसा का स्टोर कराया जाय

जो सरकारी भवन खाली है, उसे भूसा बैंक के रूप में उपयोग करें
फसल अवशेषों को जलायें नही किसान बल्कि गोवंश आश्रय स्थलों हेतु भूसा को दान करें

आजमगढ़ 23 अप्रैल-- जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने बताया है कि वर्तमान समय मे कोविड-19 वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए दिनांक 03 मई 2020 तक शासन द्वारा लाकडाउन घोषित किया गया है। जिलाधिकारी ने जन सामान्य को अवगत कराया है कि उत्तर प्रदेश गो-संरक्षण एवं संवर्धन योजना के अन्तर्गत जनपद में 37 अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल एवं एक वृहद गो-संरक्षण केन्द्र संचालित है, जिसमे लगभग 2400 निराश्रित/बेसहारा गोवंश संरक्षित किये गये हैं। उत्तर प्रदेश सरकार/जिला प्रशासन मूक वधिर गोवंश के प्रति काफी संवदेनशील है और उनका सुचारू रूप से भरण-पोषण कराया जा रहा है, परन्तु मूक वधिर गोवंश के भरण-पोषण के कार्य में जन सामान्य की सहभागिता नितान्त आवश्यक है। वर्तमान समय में कृषकों द्वारा रबी फसल की कटाई/मड़ाई का कार्य किया जा रहा है। जनपद में संरक्षित, निराश्रित/बेसहारा गोवंशों को साल भर खाने हेतु भूसा का स्टोर कराया जाना है, जिसमें जन सामान्य की सहभागिता अपेक्षित है। उन्होने कहा कि गोवंश आश्रय स्थल के बगल में जो सरकारी भवन खाली है, उसे भूसा बैंक के रूप में उपयोग करें। जिलाधिकारी ने कृषकों से अपील किया कि फसल अवशेषों को जलायें नही, बल्कि गोवंश आश्रय स्थलों में पशुओं हेतु भूसा को दान कर दें। जिलाधिकारी ने जनपद में संरक्षित निराश्रित/बेसहारा गोवंश के खाने के लिए भूसा/हरा चारा/चूनी चोकर उपलब्ध कराये जाने हेतु जनपद के मा0 जन प्रतिनिधियों, सरकारी संगठनों, प्रतिष्ठित व्यक्तियों, औद्योगिक प्रतिष्ठान, गैर सरकारी संगठन एवं धर्मार्थ संस्थान, कृषकों/पशुपालकों व अन्य सम्मानित जनपदवासियों से अपील किया है कि अधिक से अधिक मात्रा में भूसा/हरा चारा, राशन अथवा अन्य सामग्री नजदीकी स्थायी/अस्थायी गोवंश आश्रय स्थलों पर दान दें।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment