.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

बिलरियागंज में CA.A. विरोधी प्रदर्शन में प्रशासनिक कार्यवाही को लेकर बसपा ने सौंपा ज्ञापन

बसपा नेताओं ने राष्ट्रपति और देश प्रदेश के महत्वपूर्ण पदों पर बैठे लोगों को सम्बोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा

आजमगढ़ : बिलरियागंज में CA.A. विरोधी प्रदर्शन में हुई प्रशासनिक कार्यवाही को लेकर बहुजन समाज पार्टी भी मुखर हो गई है। शनिवार को बसपा नेताओं ने राष्ट्रपति और देश प्रदेश के महत्वपूर्ण पदों पर बैठे लोगों को सम्बोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा। ज्ञापन में कहा की इस समय देश भर में CA.A., N.R.C. एवं N.P.R. को लेकर लोगों में विशेषकर अल्पसंख्यकों एवं दलित समाज में भय एवं आतंक का माहौल व्याप्त है जिसको लेकर पूरे देश में धरना प्रदर्शन एवं जुलूस आदि का आयोजन विभिन्न संगठनों एवं व्यक्तियों द्वारा किया जा रहा है। इसी क्रम में दिनांक 04.02.2020 को आजमगढ़ जनपद के बिलरियागंज थाना क्षेत्र के अर्न्तगत जौहर पार्क, बिलरियागंज, जनपद आजमगढ़ में महिलाओं द्वारा शान्तिपूर्वक अनिश्चितकालीन धरना का आयोजन किया गया जो पूरे दिन शान्तिपूर्वक चलता रहा किन्तु दिनांक 04-05/02/2020 की रात्रि में अचनाक पुलिस द्वारा बलपूर्वक महिलाओं को धरना स्थल से हटाने का प्रयास किया गया जिसमें पुलिस द्वारा लाठी चार्ज, आँसू गैस एवं पथराव करने की शिकायतें सामने आई एवं इस कार्यवाही में कई महिलाओं को गम्भीर चोटें भी आई हैं एवं एक महिला तो आजमगढ़ के एक निजी अस्पताल में भर्ती है एवं उसके सिर का आप्रेशन तक करने की नौबत आ गयी और वह महिला अभी भी जीवन मौत से संघर्ष कर रही हा इतना ही नहीं स्थानीय पुलिस द्वारा दर्जनों लोगों के खिलाफ गम्भीर धाराओं में मुकदमा भी कायम कर जेल भी भेज दिया गया है जबकि वे लोग धरने पर बैठी महिलाओं को समझा बुझाकर धरना समाप्त करने के लिए स्थानीय प्रशासन की सहायता भी कर रहे थे एवं कई अज्ञात लोगों की तलाश में पुलिस द्वारा छापेमारी की जा रही है साथ ही साथ कुछ छात्र नेताओं को तो ईनामी अपराधी भी घोषित कर दिया गया है जबकि उन छात्रों का किसी प्रकार का कोई अपराधिक इतिहास भी नहीं है। बहुजन समाज पार्टी पुलिस की इस बर्वतापूर्वक कार्यवाही की घोर निंदा करती है एवं मांग करती है की पुलिस द्वारा की गयी उपरोक्त कार्यवाही में जो लोग घायल हुए हैं उनके दवा-इलाज की व्यवस्था सरकार की ओर से किया जाय एवं शासन द्वारा उचित मुआवजा दिया जाय। घटना में जिन लोगों पर फर्जी मुकदमा कायम किया गया है उसे तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाय और जिन छात्र नेताओं को पुलिस द्वारा ईनामी अपराधी घोषित किया गया है जबकि उनका पूर्व में कोई अपराधिक इतिहास नहीं रहा है इसलिए उन्हें ईनामी अपराधी घोषित किये जाने के आदेश को रदद किया जाय। इसके अलावा बसपा नेताओं ने घटना की न्यायिक जाँच कराने की मांग रखते हुए कहा है की भारतीय संविधान के अनुसार हर व्यक्ति को अभिव्यक्ति की आजादी हैं लोकतान्त्रिक ढंग से अपना विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है ऐसे में संविधान में दिये गये अधिकारों को हनन न किया जाय।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment