.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

अधिवक्ताओं एवं वादकारियों के समक्ष आ रही समस्याओं को शीघ्र दूर किया जायः मण्डलायुक्त

मण्डलायुक्त से मिला दी डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन का प्रतिनिधि मण्डल, बताईं समस्यायें
आज़मगढ़ 26 फरवरी -- दी डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बुधवार को मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी से मिल कर अधिवक्ताओं एवं वादकारियों के समक्ष आ रही कई समस्याओं से अवगत कराया। मण्डलायुक्त ने अधिवक्ताओं की समस्याओं से पत्रक का गहनतापूर्वक अवलोकन करते हुए कहा कि पत्रक में उल्लिखित समस्यायें और शिकायतें गंभीर किस्म की हैं। उन्होंने कहा कि वादों के त्वरित निस्तारण हेतु इन समस्याओं का तत्काल निराकरण किया जाना अति आवश्यक है। इस सम्बन्ध में उन्होंने अपर आयुक्त (प्रशासन) अनिल कुमार मिश्र को उल्लिखित समस्याओं का बिन्दुवार परीक्षण कर आख्या उपलब्ध कराने तथा अभिलेखागारों का निरीक्षण किये जाने का निर्देश दिया। उल्लेखनीय है कि दी डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन आज़मगढ़ के अध्यक्ष सुबास राय एवं मन्त्री अरविन्द कुमार पाठक ने मण्डलायुक्त को प्रस्तुत पत्रक में मुख्य रूप से अभिलेखागार से सम्बन्धित विभिन्न समस्याओं का उल्लेख करते हुए अवगत कराया कि न तो मुआयने की दरखास्त को दर्ज किया जाता है और न ही किसी वकील मुहर्रिर से अभिलेखागार के मुआयना किये जाने के सम्बन्ध में लिखाया जाता है। पत्रक द्वारा, मुआयने का प्रमाण पत्र नहीं मिलने, रेवेन्यू टिकट नहीं लेने, सुरक्षा के नाम पर अधिक धनराशि लेने, रिकार्ड कीपर, हेड कापिस्ट द्वारा नकल बनाने के नाम पर अधिक धनराशि वसूल करने, नक्शा ट्रेसर की कमी आदि अन्य कमियों एवं समस्याओं की ओर मण्डलायुक्त का ध्यान आकृष्ट कराया गया है। बार एसोसिएशन द्वारा, जितने ग्रामों के अभिलेख सुरक्षा में रखे जाने का निर्देश हैं उसकी जानकारी देने, जनपद मऊ की भांति आज़मगढ़ में भी मशीन से नक्शे बनाये जाने, नकल भेजने के सवाल की दूसरी प्रति बनाकर आम लोगों के लिए अलग से रखे जाने, बस्ते का मुआयना पूर्व की भांति एक टिकट पर कराये जाने, मुआयना कक्ष में अधिवक्ताओं के बैठने के लिए अलग कुर्सी मेज की व्यवस्था किये जाने आदि की मांग की गयी है। इसके अलावा धारा 24, 30 एवं 38 की रिपोर्ट तहसीलों से नियत समय में मंगाये जाने, अमल दरामद में 15 दिन में अनिवार्य रूप से रिपोर्ट लगा दिये जाने, तहसील सदर में दो चकबन्दीकर्ता की तैनाती किये जाने भी मांग की गयी है।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने कहा कि पत्रक में उल्लिखित समस्यायें गंभीर प्रकृति की हैं तथा अधिवक्ताओं द्वारा की जा रही मांग बुनियादी हैं तथा जनहित से जुड़ी हैं। उन्होंने अपर आयुक्त (प्रशासन) को यह भी निर्देश दिया कि समस्याओं का बिन्दुवार परीक्षण कर आख्या उपलब्ध कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि अभिलेखागार में पत्रावलियों का रख रखाव सुदृढ़ करने हेतु समय समय पर उसका निरीक्षण भी किया जाय। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया कि इस सम्बन्ध में मण्डल के तीनों जनपदों के जिलाधिकारियों से भी पत्र व्यवहार कर समस्याओं का निराकरण कराया जाना सुनिश्चित किया जाय।
इस अवसर पर अपर आयुक्त (प्रशासन) अनिल कुमार मिश्र, सेन्ट्रल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्यारे मोहन श्रीवास्तव, सचिव नरेन्द्र सिंह, डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष ज़फर इकबाल, पूर्व मन्त्री जयप्रकाश यादव सहित अन्य अधिवक्तगण भी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment