.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मुबारकपुर: विद्युत उपखण्ड के कनिष्ठ स्टाफ से लेकर वरिष्ठ अधिकारी पर होगी कार्यवाही

जाॅंच में अवैध धन वसूली, गलत ढंग से एफआईआर कराने के आरोप सही मिले,मंडलायुक्त ने भेजी संस्तुति

आज़मगढ़ 23 दिसम्बर -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने मुबारकपुर विद्युत उपखण्ड पर तैनात कनिष्ठ स्टाफ से वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा स्थानीय विद्युत उपभोक्ताओं से अवैध धन वसूली एवं अनियमित ढंग से एफआईआर दर्ज कराने पर सम्बन्धित विद्युत उपखण्ड के कनिष्ठ स्टाफ से लेकर वरिष्ठ अधिकारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही हेतु शासन को संस्तुति भेज दी गयी है। इस सम्बन्ध में मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने बताया कि गत दिवस मुबारकपुर निवासी एक व्यक्ति ने जन सुनवाई के दौरान इस आशय का प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया था कि उनके पास एक घरेलू एवं एक कामर्शियल विद्युत कनेक्शन है, परन्तु उस पर गलत मीटर से बिल जारी हो रहा है। उपभोक्ता द्वारा जब शिकायत की गयी तो उनके आवास पर जाकर विद्युत विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा डराया धमकाया जाने लगा तथा मीटर को गड़बड़ किया हुआ बताते हुए उपभोक्ता से अवैघ धन की मांग की जाने लगी। उपभोक्ता द्वारा धनराशि देने से इन्कार करने पर घरेलू मीटर उखाड़ ले गये। उन्होंने यह भी बताया कि शिकायकर्ता द्वारा अपने कथन के समर्थन में शपथ पत्र के साथ वीडियो क्लिप्स भी प्रस्तुत की गयी, जिसमें एक कर्मचारी द्वारा बीस हजार रुपये नहीं दिये जाने के फलस्वरूप काम के बिगड़ जाने का उल्लेख करते हुए एक अन्य उपभोक्ता से तीस हजार रुपये वसूलकर उसके कार्य को बना दिये जाने की स्वीकारोक्ति करते हुए स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ रहा है।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने प्रकरण की संवेदनशीलता को देखते हुए पूरे मामले की जाॅंच की जिम्मेदारी अपर आयुक्त (प्रशासन) धर्मेन्द्र सिंह को सौंपी। अपर आयुक्त ने अपनी जाॅंच रिपोर्ट में इस आशय का स्पष्ट उल्लेख किया है कि शिकायतकर्ता द्वारा अपने कथन के समर्थन में जो वीडियो क्लिप्स उपलब्ध कराई गयीं हैं उससे स्पष्ट होता है कि विद्युत कर्मियों द्वारा अवैध धनराशि की मांग की गयी है। अपर आयुक्त श्री सिंह ने अपनी रिपोर्ट में यह भी उल्लिखित किया है कि उक्त वीडियो क्लिप्स में कर्मचारी द्वारा शिकायतकर्ता के पुत्र से अवैध धनराशि की मांग करने तथा एक अन्य उपभोक्ता से 30 हजार रुपये लेकर उसके विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं किये जाने की स्वीकारोक्ति से स्पष्ट होता है सम्बन्धित उपखण्ड के अधिकारी एवं उनकी टीम अवैध धन वसूली जैसे अवैधानिक कार्यों में लिप्त हैं। उन्होंने यह भी कहा कि शिकायतकर्ता के पुत्र से विद्युत कर्मी द्वारा अवैध धनराशि की मांग करने का आरोप प्रथम दृष्टया सिद्ध होता है। श्री सिंह ने यह भी कहा कि ऐसे प्रकरणों से विभाग के उच्च अधिकारी अनभिज्ञ हों ऐसा नहीं माना जा सकता है, इसलिए शिथिल पर्यवेक्षण के लिए उच्च अधिकारी भी जिम्मेदार हैं। मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने इस स्थिति पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि इस प्रकार के कृत्यों से जहाॅं शासन एवं प्रशासन की छवि धूमिल होती हैं वहीं आम जन को भी अनावश्यक परेशानियाॅं एवं भाग दौड़ करना पड़ता है। श्रीमती त्रिपाठी ने इसे सीधे तौर पर उपभोक्ताओं का शोषण एवं शासन प्रशासन की छवि धूमिल करने वाला कृत्य मानते हुए मुबारकपुर विद्युत उपखण्ड के कनिष्ठ कर्मचारियों से लेकर वरिष्ठ अधिकारियों तक के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की संस्तुति शासन को भेज दी है। उन्होंने प्रकरण में सम्मिलित संविदा कर्मियों की सेवा को भी तत्काल समाप्त किये जाने का निर्देश दिया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment