.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़ : 50 हजार का ईनामी फरार अपराधी 14 वर्षों बाद अवैध देशी पिस्टल के साथ गिरफ्तार

अगस्त 2006 में न्यायालय पेशी से पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था अभियुक्त  

नाम पता बदल कर एनसीआर गाजियाबाद में लगातार जगह बदलकर रह रहा था अभियुक्त 

आजमगढ़ : पुलिस उपमहानिरीक्षक परिक्षेत्र आजमगढ़, जनपद-आजमगढ़ द्वारा फरार, वांछित व पुरस्कार घोषित वांछित अभियुक्तो के गिरफ्तारी हेतु चलाये जा रहे अभियान के क्रम में पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ प्रो0 त्रिवेणी सिंह के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक नगर श्री कमलेश बहादुर के नेतृत्व में आजमगढ़ पुलिस की कई टीम बनाकर फरार व पुरस्कार घोषित वांछित अभियुक्तो की गिरफ्तारी हेतु संभावित जगहों पर लगातार दबिश दिया जा रहा था। इसी क्रम में न्यायालय परिसर आजमगढ़ से पेशी पर आया अभियुक्त सूरज गौंड़ पुत्र श्याम प्यारे गौड़ निवासी सुरहूरपुर, थाना-मुहम्मदाबाद, जनपद-मऊ की गिरफ्तारी हेतु लगे पुलिस टीम के आरक्षी विनोद सरोज व आरक्षी चन्द्रजीत यादव, स्वाट टीम को जरिये मुखबीर द्वारा सूचना प्राप्त हुआ कि उपरोक्त अभियुक्त अपना नाम पता बदलकर सठियांव के पास रह रहा है, जो आज आजमगढ़ शहर में किसी घटना को अंजाम देने की नियत से रैकी कर वापस जा रहा है। यह वही अभियुक्त है, जो पुलिस अभिरक्षा से 2006 से फरार चल रहा है। शीघ्रता किया जाये तो अभियुक्त को गिरफ्तार किया जा सकता है। आरक्षीगण द्वारा मुखबीर की सूचना से प्रभारी स्वाट टीम को अवगत कराया गया, प्रभारी स्वाट टीम द्वारा प्रभारी निरीक्षक सिधारी व प्रभारी निरीक्षक कोतवाली की संयुक्त टीम को उपरोक्त सूचना देकर बताये हुए स्थान पर बुलाकर तत्काल एम्बुस (गाड़ाबन्दी) लगाकर अभियुक्त का इंतजार किया जा रहा था कि मुखबीर के इशारे पर सामने से आ रहे अभियुक्त को गिरफ्तार करने का प्रयास किया गया तो पुलिस टीम द्वारा खुद को घिरा हुआ देख अभियुक्त ने पुलिस बल को लक्ष्य कर जान से मारने की नियत से फायर कर दिया। पुलिस टीम द्वारा हिकमत अमली से अभियुक्त को गिरफ्तार कर नाम पता पूछा गया तो अपना नाम दिनेश पुत्र राम प्यारे बताया। कड़ाई से पूछताछ करने पर अपना जुर्म स्वीकार करते हुए अपना सही नाम सूरज गौड़ पुत्र श्याम प्यारे बताया।
अभियुक्त का संक्षिप्त विवरण
दिनांक-27.01.2006 को चोरी व गैगेस्टर के मामले में थाना कोतवाली आजमगढ़ द्वारा गिरफ्तार कर न्यायालय चालान किया गया था। दिनांक-18.08.2006 को न्यायालय आजमगढ़ पेशी से पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था। जो अपना नाम पता बदलकर गोपनीय तरीके से एनसीआर गाजियाबाद में लगातार जगह बदलकर रह रहा था। अभियुक्त के फरार होने के सम्बन्ध में थाना-कोतवाली में आरक्षी राम केबल के विरूद्ध मु0अ0सं0-1324/2006 धारा 224 भादवि पंजीकृत कर न्यायालय अभिरक्षा में भेज दिया गया था। अभियुक्त 50 हजार रूपये पुरस्कार अपराधी घोषित था।
1. दिनांक-18.08.2006 को कचहरी परिसर से फरार हुआ था।
2. नाम पता फर्जी दिनेश पुत्र राम प्यारे रखकर एनसीआर मे
3. फरार होने के बाद से घर वालो से सम्पर्क नही रखता था।
4. अचानक 2016 में प्रकट हुआ दुसरे लड़की से शादी कर नाम पता बदलकर रह रहा था।
5. फरार होने के बाद थाना कोतवाली में आरक्षी राम केबल के विरूद्ध मु0अ0सं0-1324/2006 धारा 224 भादवि पंजीकृत कर न्यायालय अभिरक्षा में भेज दिया गया था।
6. एनसीआर में समयावधि पूर्ण होने के पर वाहन को निकाले जाने के पर ये यहा आया था।
गिरफ्तार अभियुक्त
1. सूरज गौंड़ पुत्र श्याम प्यारे गौड़ निवासी सुरहूरपुर, थाना-मुहम्मदाबाद, जनपद-मऊ
बरामदगी
1. एक अदद मोटर साईकिल फर्जी नम्बर प्लेट सहित
2. एक अदद पिस्टल देशी व दो अदद कारतुस
3. दो अदद मोबाईल
अपराधिक इतिहास
1. मु0अ0सं0- 60/06 धारा 380/411 भादवि, थाना-कोतवाली, आजमगढ़ ।
2. मु0अ0सं0- 1452/05 धारा 380/411 भादवि, थाना-कोतवाली, आजमगढ़ ।
3. मु0अ0सं0- 215/06 धारा 2/3 गैगेस्टर एक्ट, थाना-कोतवाली, आजमगढ़ ।
4. मु0अ0सं0- 154/06 धारा 401 भादवि, थाना-कोतवाली, आजमगढ़ ।
5. मु0अ0सं0- 162/09 धारा 41सीआरपीसी 411/307/419/420/467/468 भादवि, थाना-सिधारी, आजमगढ़।
6. मु0अ0सं0- 163/09 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट, थाना-सिधारी,आजमगढ़।
गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम
1. प्रभारी निरीक्षक सिधारी श्री अनिल सिंह मय हमराह।
2. प्रभारी निरीक्षक कोतवाली श्री रत्नेश सिंह मय हमराह।
3. प्रभारी स्वाट विपिन कुमार सिंह मय स्वाट व सर्विलांस ।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment