.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़ : विकास कार्यक्रमों में मण्डल एवं जनपदों की खराब रैंकिग बर्दाशत नहीं: मण्डलायुक्त

स्कूल बसों तथा इनके चालकों की नियमित चेकिंग कराई जाये- डीआईजी 

मण्डलीय समीक्षा बैठक में अनुस्थित पाॅंच अधिकारियों से स्पष्टीकरण, एक को प्रतिकूल प्रविष्टि

आज़मगढ़ 12 फरवरी -- मण्डलायुक्त जगत राज ने कहा है कि शासन के शीर्ष प्राथमिकता वाले कार्यक्रमांे से सम्बन्धित अधिकारी व्यक्गित ध्यान देते हुए पूरी निष्ठा और लगन से कार्य करें ताकि राज्य स्तर पर मण्डल की रैंकिंग अपगे्रड हो सके। उन्होंने कहा कि इन कार्यक्रमों में जनपदों की परफार्मेन्स किसी भी दशा में खराब नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने आगाह किया कि राज्य स्तर पर रैंकिंग में मण्डल तथा मण्डल के अन्तर्गत किसी भी जनपद की खराब रैंकिंग बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मण्डलायुक्त जगत राज ने मंगलवार को अपने कार्यालय के सभागार में विकास प्राथमिकता कार्यक्रमों, कानून-व्यवस्था, कर करेत्तर एवं अन्य राजस्व कार्यों, स्थानीय निकायों की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन कार्यक्रमों में जनपदों की स्थिति ठीक नहीं है उसकी नियमित रूप से मानीटरिंग करें लक्ष्य के सापेक्ष उपलब्धि हासिल करने हेतु अपने स्तर से कार्यवाही भी करेें। समीक्षा बैठक के दौरान परियोजना प्रबन्धक उप्र राजकीय निर्माण निगम वाराणसी इकाई (अब भदोही इकाई) व उप्र राजकीय निर्माण निगम बलिया इकाई, अधिशासी अभियन्ता प्रधानमन्त्री ग्राम सड़क योजना, संयुक्त आयुक्त उद्योग तथा एआर कोआपरेटिव आज़मगढ़ के अनुपस्थित रहने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इन अधिकारियों से स्पष्टीकरण तलब किया। इसके अलावा पंचायती राज विभाग द्वारा संचालित कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में शिथिलता, लापरवाही और उदासीनता मिलने पर जिला पंचायत राज अधिकारी आज़मगढ़ को प्रतिकूल प्रविष्टि दिये जाने का निर्देश दिया।
मण्डलायुक्त जगत राज ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान पाया कि जनपद बलिया में टीकाकरण, संस्थागत प्रसव सहित कई कार्यों की प्रगति ठीक नहीं है। इसके अलावा मऊ एवं बलिया में कई स्वास्थ्य उपकेन्द्र, पीएचसी, सीएचसी, एएनएम सेन्टर का निर्माण कार्य जो पहले ही पूर्ण हो जाना चाहिए था, अभी तक अपूर्ण हैं तथा कई परियोजनाओं पर कार्य भी प्रभावित है। इस पर उन्होंने अपर निदेशक स्वास्थ्य तथा सम्बन्धित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया कि इस ओर ध्यान देकर कार्य शीघ्र पूर्ण कराया जाये तथा यदि धनराशि की कमी है तो तत्काल शासन से मांग की जाय। उन्होंने आयुष्मान भारत के तहत आज़मगढ़ में 56771 के सापेक्ष लगभग 19 हजार एवं मऊ में 17106 (22 प्रतिशत) गोल्डेन कार्ड जारी किये जाने की स्थिति पर भी नाराजगी व्यक्त किया तथा निर्देश दिया कि इसमें और तेजी लाई जाय। उन्होंने यह भी कहा कि जिन अपात्रों को गोल्डेन कार्ड जारी कर दिये गये हैं उसके सम्बन्ध में भी तत्काल अग्रेतर कार्यवाही की जाय। मण्डलायुक्त ने पंचायती राज विभाग द्वारा संचालित कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान पाया कि आज़मगढ़ में शौचालय निर्माण हेतु बेसलाइन सर्वे में छूटे हुए लाभार्थियों (एलओबी) की स्थिति काफी खराब है तथा राज्य स्तर पर जनपद नीचे से 12वें स्थान पर है। बार-बार निर्देश दिये जाने के बावजूद जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इस पर मण्डलायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए डीपीआरओ आज़मगढ़ को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश दिया। इसी प्रकार ओडीएफ घोषित गांवों की जाॅंच में जनपद आज़मगढ़ में 55 प्रतिशत एवं बलिया में 60 प्रतिशत रिजेक्शन मिलने पर भी उन्होंने नाराजगी व्यक्त किया। उन्होंने तीनों जनपद में स्वच्छाग्रहियों के भुगतान की स्थिति पर भी असन्तोष व्यक्त करते हुए तत्काल भुगतान की कार्यवाही सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। मण्डलायुक्त ने सभी मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि महत्वपूर्ण कार्यक्रमों पर विशेष ध्यान दें तथा उसकी प्रतिदिन स्वयं मानीटरिंग करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि खराब कार्य करने वाले ग्राम पंचायत अधिकारियों को चिन्हित करंे तथा नियमित रूप से उनके कार्यों की समीक्षा करें, इसके बावजूद यदि सुधार नहीं होता है तो सम्बन्धित के विरुद्ध सीधे विभागीय कार्यवाही की जाय। उन्हांेने प्रधानमन्त्री किसान सम्मान योजना की अद्यतन स्थिति के सम्बन्ध में अवगत कराया गया कि आज़मगढ़ में लगभग 40 हजार, मऊ में 23 हजार एवं बलिया में 30 हजार की प्रतिदिन औसतन फीडिंग की जानी है। उन्होंने संयुक्त कृषि निदेशक के साथ ही तीनों जिलाधिकारियों से कहा कि इस ओर विशेष ध्यान देकर निर्धारित अवधि के अन्दर शत प्रतिशत फीडिंग करायें। मण्डलायुक्त जगत राज गोवंश आश्रय स्थल की स्थिति का जायज़ा लेते हुए सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि स्थायी कान्हा आश्रय स्थल का तत्काल चयन कर डीपीआर शासन को प्रेषित किया जाय। मण्डल में निराश्रित पशुओं को आश्रय स्थल तक पहुंचाने के सम्बन्ध में अवगत कराया गया है कि जनपद आज़मगढ़ में ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक 585 व शहरी क्षेत्रों में 172, मऊ में ग्रामीण क्षेत्र में 1954 व नगरीय क्षेत्र में 98 तथा बलिया में ग्रामीण क्षेत्रों में 1203 एवं नगरीय क्षेत्र में 370 निराश्रित पशुआंे को गोवंश आश्रय स्थल में पहुंचाया गया है। मण्डलायुक्त ने आज़मगढ़ में कम निराश्रित पशुओं के पकड़ने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए इसमें और तेजी लाने का निर्देश दिया। प्रधानमन्त्री आवास (ग्रामीण) के निर्माण कार्यों की समीक्षा में पाया गया कि आज़मगढ़ में 825, मऊ में 395 एवं बलिया में 1097 आवासों हेतु द्वितीय किस्त निर्गत नहीं की गयी है। इसी प्रकार इस योजना के तहत आज़मगढ़ में 71, मऊ में 65 तथा 93 लाभार्थियों को आवास की प्रथम किस्त नहीं दी गयी है। उन्होंने तीनों जनपदों में प्रथम एवं द्वितीय किस्त का भुगतान तत्काल शत प्रतिशत करने का निर्देश दिया।
बैठक में पुलिस उप महानिरीक्षक विजय भूषण ने बताया कि मण्डल में कुल 73 ऐसे मानवरहित स्थान हैं जहाॅं पर स्कूली बच्चों की बसें रेलवे लाइन को क्रास करती हैं, परन्तु वहाॅं पर कोई साइनेज भी नहीं लगा है, जिससे प्रायः हादसे का खतरा बना रहता है। इसके अलावा स्कूल बसों के चालकों द्वारा भी निरन्तर नियमों की अनदेखी कर वाहनों का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने संभागीय परिवहन अधिकारी को निर्देश दिया कि इन बसों तथा इनके चालकों की नियमित चेकिंग कराई जाये। उन्होंने यह भी कहा कि इसमें पुलिस विभाग का अपेक्षित सहयोग मिलता रहेगा। इसी प्रकार अवैध शराब बनाने के ठिकानों पर भी आबकारी एवं पुलिस विभाग की संयुक्त टीमों के माध्यम से छापेमारी करते हुए अवैध शराब के निर्माण और कारोबार को पूर्णतया बन्द कराने का निर्देश दिया।
इस अवसर पर जिलाधिकारी आज़मगढ़ शिवाकान्त द्विवेदी, जिलाधिकारी मऊ प्रकाश बिन्दु, जिलाधिकारी बलिया भवानी सिंह खंगारौत, पुलिस अधीक्षक आज़मगढ़ बबलू कुमार, पुलिस अधीक्षक मऊ सुरेन्द्र बहादुर, पुलिस अधीक्षक बलिया देवेन्द्र नाथ, सीडीओ आज़मगढ़ डीएस उपाध्याय, सीडीओ मऊ आशुतोष कुमार द्विवेदी, सीडीओ बलिया बीएन सिंह, वन संरक्ष अमर बहादुर, अपर निदेशक स्वास्थ एनएल यादव, मुख्य अभियन्ता विद्युत आरआर सिंह, उप निदेशक पंचायती राज/संयुक्त विकास आयुक्त जयदीप त्रिपाठी, आरटीओ दरोगा सिंह, उप आबकारी आयुक्त एसपी चैधरी, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) गुरू प्रसाद, मुख्य राजस्व अधिकारी आलोक कुमार वर्मा सहित अन्य मण्डलीय एवं जनपदीय अधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment