.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

जे0ई0 टीकाकरण विशेष अभियान शुरू,टीकाकरण में चयनित एक भी बच्चा न छूटे -डीएम


जनपद मे इस समय 3 अभियान चलाये जा रहे हैं, जिसमे स्वच्छता से सिद्धी की ओर, जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) के विरूद्ध टीकाकरण तथा विशेष संचारी रोग नियन्त्रण पखवाड़ा शामिल है। 
आजमगढ़ 02 अप्रैल 2018 -- जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी द्वारा विशेष संचारी रोग नियन्त्रण पखवाड़ा, जे0ई0 टीकाकरण विशेष अभियान (2 अप्रैल 2018 से 16 अप्रैल तक) का उद्घाटन फीता काटकर व द्वीप प्रज्जवलित करने के साथ ही एक बच्चे को जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) का इन्जेक्शन दिलवाकर किया। इस अवसर उन्होने बताया कि जनपद मे इस समय 3 अभियान चलाये जा रहे हैं, जिसमे स्वच्छता से सिद्धी की ओर, जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) के विरूद्ध टीकाकरण तथा विशेष संचारी रोग नियन्त्रण पखवाड़ा शामिल है। जिलाधिकारी ने जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) के प्रति जनता मे जागरूकता पैदा करने के लिए शपथ दिलायी तथा इस बीमारी से बचाव के बारे मे विस्तार से बताया। 
जिलाधिकारी ने स्वच्छता से सिद्धी की ओर अभियान के अन्तर्गत बताया कि व्यक्तिगत साफ-सफाई रखें, स्वच्छ पानी का सेवन करें, नियमित शौचालय का प्रयोग करें, खुले मे शौच न करें, जानवरों के बाड़े रिहायशी इलाकों से दूर रखें, जिसमे सूअर बाड़े को रिहायशी इलाकों से 8 किलामीटर दूर रखें तथा उन्होने कहा कि अपने आस-पास की सफाई रखें तथा लोगों को भी स्वच्छता के प्रति जागरूक करें।
जिलाधिकारी ने जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) के बारे मे बताया कि यह एक जानलेवा बीमारी है, यह एक विशेष प्रकार के विषाणु से होता है। जे0ई0 टीकाकरण 1 से 15 वर्ष तक के बच्चों का किया जाता है। यह टीका सरकारी अस्पतालों मे मुफ्त उपलब्ध करायी जा रही है। 
उन्होने बताया कि जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) मच्छर एवं जल जनित रोगों से होता है। उन्होने बताया कि मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों के रोकथाम के लिए जहां कहीं भी पानी इकट्ठा हो उसमे मिट्टी भरकर मच्छर प्रजनन को रोका जा सकता है तथा घर के आस-पास झाड़ियों को साफ करने तथा परिवेश को साफ रखें तथा कोशिश करें कि सूअर व अन्य मवेशियों तथा आपके निवास स्थान साथ-साथ या बहुत करीब न हों। उन्होने कहा कि अगर आपके परिवार या पड़ोस मे किसी बच्चे को तेज बुखार है तो उसे नजदीक के अस्पताल मे ले जायें जहां उपचार एवं दाखिले की सुविधा हो।
इस अवसर पर जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी ने कहा कि इस अभियान का उद्देश्य है कि इसमे टीकाकरण से चयनित किया गया कोई भी बच्चा छूटने न पाये। जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) से बचाव के लिए हमे जागरूक होना पड़ेगा तथा स्वास्थ्य विभाग के सम्बंधित कर्मचारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि पूरी निष्ठा एवं लगन से कार्य करें। पर्यवेक्षक अधिकारियों का दायित्व बहुत बड़ा है अपना कार्य जिम्मेदारी के साथ ईमानदारी से करें यदि कोई कहीं से समस्या आती है तो समस्या से उच्चाधिकारी को अवगत करायें।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस0के0 तिवारी ने बताया कि जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) के टीकाकरण हेतु 1 से 15 वर्ष तक के कुल 86677 बच्चोें को लच्छित किया गया है, जिसमे 1 से 2 वर्ष तक बच्चों की संख्या 9888 तथा 2 से 15 वर्ष तक के बच्चों की संख्या 76789 है तथा इसके लिए 6175 स्थानो पर टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होने बताया कि आशा कार्यकत्री हर एक घर का दौरा कर दिमागी बुखार के प्रति लोगों को जागरूक करेंगी।
मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस0के0 तिवारी ने दिमागी बुखार रोकथाम के लिए बताया कि जैपेनीज इन्सीफ्लाइट्स (जे0ई0) का पहला टीका 9 माह से 12 माह के बच्चों और दूसरा टीका 16 माह से 24 माह के बच्चों को नियमित टीकाकरण के अन्तर्गत जरूर लगवायें। घरों के आस-पास स्वच्छता का ध्यान रखें, झाड़ियों को हटाते रहें, स्वच्छ पेय जल ही पीयें, अपने आस-पास जल-जमाव न होने दें, कुपोषित बच्चों को बचाने के लिए विशेष ध्यान रखें, खुले मे शौच न करें, साबुन से हाथ धोने की आदत डालें, रोजाना स्नान करें तथा व्यक्तिगत साफ-सफाई पर विशेष ध्यान रखें।
इस अवसर पर जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 संजय, मुख्य चिकित्साधिक्षिका डा0 अमिता अग्रवाल, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वाई0के0 राय, डा0 परवेज अख्तर, डब्लूएचओ के डा0 भवानी आदि सम्बंधित कर्मचारीगण उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा0 विनय ने किया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment