.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मदरसा पोर्टल :: सत्यापन में 50 प्रतिशत मदरसे मानक के विपरीत मिले,मान्यता होगी निरस्त

दूकान, कटरे, गौशाला, भूसा घर में भी मदरसे का बोर्ड लगाकर हुआ है अवैध संचालन 

आजमगढ़ 13 मार्च 2018 -- जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी साहित्य निकष सिंह ने बताया कि शासन द्वारा मदरसों में गुणवत्ता परक शिक्षा के प्रोत्साहन के लिये विगत सितम्बर माह में मदरसा पोर्टल लागू किया गया है, जिसमें मदरसों को निर्धारित प्रारूप पर मदरसे से सम्बन्धित सभी सूचना अपलोड करनी थी। जनपद आजमगढ़ में कुल 675 मदरसों द्वारा अपनी सूचना मदरसा वेब पोर्टल पर अपलोड की गयी। जिसके उपरान्त जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी आजमगढ़ एवं वक्फ निरीक्षक द्वारा पोर्टल किये गये मदरसों का अभिलेखीय व स्थलीय सत्यापन किया गया। सत्यापन में जनपद के लगभग 50 प्रतिशत मदरसे मानक के विपरीत संचालित पाये गये। कुल 675 मदरसों के सापेक्ष 328 मदरसे ही मानक पूर्ण कर रहे थे। फलतः उनको डिजटली लाॅक कर दिया गया, वहीं 304 मदरसे मानक के विपरीत संचालित पाये गये। सत्यापन में ऐसे भी मदरसे मिले जिनकी मान्यता का स्तर प्राइमरी, जूनियर हाई स्कूल का था, जो केवल अलग मदरसा दिखाकर अलग-अलग लाभ लेने के लिये किया गया, साथ ही दूकान, कटरे, गौशाला, भूसा घर में भी मदरसे का बोर्ड लगाकर अवैध रूप में मदरसों का संचालन देखा गया, ऐसे समस्त मदरसे जिनकी संख्या 304 है उनकी मान्यता निरस्त करने की संस्तुति सहित पोेर्टल से डिलीट करने की संस्तुति करते हुये मदरसा बोर्ड को प्रेषित कर दिया गया है।
उन्होने आगे बताया कि जाँच मे मानक पूर्ण करने वाले ऐसे मदरसे बड़ी संख्या में भी मिले जिनके मानक तो प्रत्येक स्तर पर पूर्ण था, परन्तु सुरक्षित निधि व संदान निधि में निर्धारित शुल्क नहीं जमा था, जिसे तत्काल जमा करने के लिये मदरसे को निर्देश दिया गया है। अनुदानित मदरसों में भी जनपद में लगभग 100 से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति में विसंगति मिली, जिन सबका वेतन रोकते हुये प्रकरण शासन को संदर्भित कर दिया गया है। वहीं ग्राम समाज की भूमि पर संचालित एक अनुदानित मदरसा पाये जाने पर उसको भी ग्राम समाज की भूमि से संचालन बन्द करते हुये नवीन निजी भवन में संचालित कर दिया गया। पोर्टल पर लाॅक किये गये समस्त मदरसों का आधुनिकीकरण मानदेय वितरित कराया जा रहा है। अब आगामी शैक्षिक सत्र से इन मदरसों में वाट्सऐप आधारित अटेंडेंस प्रणाली लागू की जायेगी व समस्त अनुदानित मदरसों में बायोमेट्रिक उपस्थित प्रणाली लागू की जायेगी। इस प्रकार जनपद में मदरसा पोर्टल सम्बन्धित कार्य सम्पन्न हो गया है। जिसमें लगभग 50 प्रतिशत मदरसे जो मानक के विपरीत संचालित थे उनकी मान्यता निरस्त करने की संस्तुति की गयी है वहीं अनुदानित मदरसों में ग्राम समाज की भूमि खाली कराने एवं लगभग 100 अनुदानित शिक्षक जो अनियमित नियुक्त थे पर कार्यवाही की गयी है साथ ही एक मिनी आई0टी0आई0 मानक अनुरूप संचालित नही था, का भी संचालन समाप्त कर दिया गया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment