.

.

.

.
.

आजमगढ़: आहार, विहार व ध्यानयोग की बारीकियों से परिचित हुए एसकेडी के विद्यार्थी




रोजमर्रा की भागदौड़ में फिट रहने के लिए सभी योग को अपनाएं-रामजी चौहान, प्रधानाचार्य

आजमगढ़: जहानागंज क्षेत्र के धनहुंआ स्थित एसकेडी विद्या मन्दिर में बुधवार को आहार, विहार पर परिचर्चा के साथ योग प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न हुआ जिसमें अति उत्साह के साथ भाग लेते हुए छात्र/छात्राओं ने योग के विभिन्न पहलुओं और उससे होने वाले लाभ के बारे में जाना। आगामी बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए छात्र कैसी दिनचर्या अपनायें, उनका खान-पान कैसा हो जिससे स्वस्थ्य शरीर के साथ उनका मन भी स्वस्थ्य हो इस पर विधिवत चर्चा हुई।
कार्यक्रम की शुरूआत ओम् के उच्चारण एवं गायत्री महामंत्र के जाप के साथ हुई। योग के विभिन्न प्रकारों को बताते हुए योगाचार्य रवि प्रकाश यादव ने भस्त्रिका, कपालभाति, भ्रामरी और अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के तरीको को बारीकी से बताया। योग की विधाओं पर प्रकाश डालते हुए श्री यादव ने कहा कि योग चार प्रकार के होते हैं। कार्मयोग, राजयोग, भक्तियोग और ज्ञानयोग। राजयोग के आठ अंग हैं। यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारण, ध्यान और समाधि। प्रत्येक व्यक्ति को इन सभी को अपने जीवन में अपनाना चाहिए। उन्होनें सूर्य नमस्कार के बारहो आसनों को सरलता के साथ छात्रों को सीखाया। योग सीखने के प्रति छात्रों का जुनून देखते ही बन रहा था। जिसका जैसा अन्न रहता है उसी तरह का मन भी होता है। जब तक उचित आहार और एक निश्चित समय पर भोजन नहीं लिया जायेगा, प्राणायाम और ध्यान करने का लाभ नहीं मिलेगा।
अपने उद्बोधन में विद्यालय के प्रधानाचार्य रामजी चौहान ने कहा कि रोजमर्रा की भागदौड़ में फिट रहना सबके लिए बहुत जरूरी हो गया है। ऐसे में योग अपनाना सभी के लिए जरूरी है। केवल तन ही नहीं बल्कि मन भी योग करने से स्वस्थ रहता है। योग करने से शरीर की कई बीमारियों ठीक होती है। इससे हमारा शरीर लचीला होता है। दिल और फेफड़ों को शक्ति देने के साथ साथ रक्त भी शुद्ध होता है। कायक्रम को सफल बनाने में श्रीकान्त सिंह, विनीत सिंह, संतोष यादव, राजेश सिंह, नौशाद अंसारी, नवनीत मिश्रा, प्रमोद, रंजना, आदि की भूमिका महत्वपूर्ण रही।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment