.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव एवं राष्ट्र निर्माण पर संगोष्ठी आयोजित हुई



ऋषि-महर्षियों ने समाज को कहीं भी विभक्त किए जाने की बातें नही की है - सुभाष जी

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तर प्रदेश प्राथमिक संवर्ग शाखा आजमगढ़ का आयोजन

आजमगढ़: राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तर प्रदेश प्राथमिक संवर्ग शाखा आजमगढ़ के तत्वावधान में स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव एवं राष्ट्र निर्माण विषयक संगोष्ठी का आयोजन नगर के सिधारी स्थित श्रीमन् मंगलम मैरेज हाल में सम्पन्न हुआ। जिसका शुभारंभ ज्ञानदायिनी मां सरस्वती और भारत माता के चित्र के समक्ष मुख्य अतिथि प्रांत प्रचारक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ गोरक्ष प्रांत श्री सुभाष जी, विशिष्ट अतिथि महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह जी, प्रांत कार्यवाह आरएसएस गोरक्ष प्रांत सुरेश शुक्ल जी, जिला विद्यालय निरीक्षक श्री उमेश कुमार त्रिपाठी द्वारा संयुक्त रूप से दीप-प्रज्जवलित व पुष्पाजंलि अर्पित कर किया गया। अध्यक्षता प्रदेशमंत्री डा अम्बरीश व संचालन डॉ हरिकेश ने किया।
संगोष्ठी को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि प्रांत प्रचारक राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ गोरक्ष प्रांत श्री सुभाष जी ने कहाकि अंग्रेजों ने हमको सिखाया कि भारत सोने की चिड़िया है, यह कहकर चीड़िया जैसे सूक्ष्म भारत की ओर हमारा ध्यान आकृष्ट कराया जाता था, जबकि हमारा भारत सोने का शेर है। हमारे ऋषि-महर्षियों ने हमारे समाज को कहीं भी विभक्त किए जाने की बात वर्णित नहीं किया, महर्षियों ने तो सर्वे भवंतु सुखिना की भावना से पूरे विश्व को अपना परिवार मानकर सबके हित की कामना किया। राष्ट्र निर्माण पर बोलते हुए कहाकि हम लोगों को एकजुट होकर ऋषियों-महर्षियों के बताए मार्ग को आत्मसात करना चाहिए और राष्ट्रनिर्माण में अहम योगदान देना चाहिए। बताया जाता है कि भारत की खोज 1498 में वास्कोडिगामा ने किया था, जो कि गलत है, हमारा संघर्ष 1498 से ही इसके विरोध में चल रहा है। 1498 के पूर्व भी हमारा भारत था, खोज तो उस वस्तु की की जाती है जो खो गया हो।
विशिष्ट अतिथि महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह ने कहाकि जिस आजादी के 75वीं वर्षगांठ हम सभी मना रहे है उसके पाने के लिए हजारों रणबाकुरों ने शहादत दिया। ऐसी आजादी जो वर्षो बाद मिली है उसे संजोकर रखना हम सबकी जिम्मेदारी है।
प्रांत कार्यवाह आरएसएस गोरक्ष प्रांत सुरेश शुक्ल जी ने कहाकि राष्ट्र को एक सूत्र में पिरोए रखने के लिए हम भी आगे आना चाहिए तभी एक श्रेष्ठ समाज की स्थापना कर सकेंगे।
अन्य वक्ताओं में डीआईओएस उमेश कुमार त्रिपाठी ने गुरूकुल, गौ पालन, गौ रक्षा कुटरी उद्योग, आयुर्वेदिक पद्धति को बढ़ावा देने पर बल दिया।
आंगुतकों के प्रति आभार जताते हुए जिलाध्यक्ष डॉ बजरंग बहादुर सिंह ने कहाकि राष्ट्र निर्माण में जहां कहीं भी राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ की आवश्यकता होगी संगठन के शिक्षक वहां अपना शत प्रतिशत योगदान देंगे। उन्होंने समाज के लोगों से कहाकि अपने बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ इतिहास की भी जानकारी जरूर दें। इस मौके पर बच्चों की सांस्कृतिक कार्यक्रमों को देखकर सभी मंत्रमुग्ध हो गए।
इस अवसर पर संयोजक मनोज कुमार सिंह, कार्याध्यक्ष रासबिहारी यादव, जिलामहामंत्री अनिल कुमार मिश्र, कोषाध्यक्ष सुजीत सिंह, रवीन्द्र यादव, विनय मिश्र, अतुल यादव, अमित सिंह, अरविन्द सिंह, अवनीश सिंह, अमित आनंद राय, सुनील राय, कौशल राय, प्रिसं राय, शेषनाथ गौड़, श्यामबिहारी वर्मा, एमएलसी विजयबहादुर पाठक, भाजपा जिलाध्यक्ष ध्रुव सिंह, ऋषिकांत राय, प्रेमप्रकाश राय, देवेन्द्र सिंह सहित संगठन सहित भाजपाजन मौजूद रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment