.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: इथोपिया में बंधक बने लोगों के परिजनों ने डीएम से लगाई गुहार


जिले के 03 समेत 06 लोग इथोपिया के दुक्कम शहर में एक स्टील कंपनी में बंधक हैं

आजमगढ़: जनपद के 3 लोगों समेत अलग अलग क्षेत्रों के 6 लोग इथोपिया के दुक्कम शहर में एक स्टील कंपनी में पिछले पांच माह से बंधक बना लिए गए हैं। पीड़ितों ने वहीं से किसी प्रकार से अपना वीडियो बना कर जल्द निकलवाने की गुहार लगाते हुए घर भेजा। इस पर आजमगढ़ में पीड़ित परिवार जहां एक एक पल बेचैनी से काट रहा है और प्रशासनिक मशीनरी के भरोसे बंधक बने लोगों के जल्द सकुशल लौटने की उम्मीद लगा रहा है। इसी क्रम में पीड़ित परिवार ने सोमवार को आजमगढ़ कलेक्ट्रेट पहुंच कर डीएम से गुहार लगाई है। निजामाबाद क्षेत्र के चंदाभारी गांव के राजबहादुर चौबे, रौनापार थाना के बेलकुंडा बैजाबारी गांव के संजय मिश्रा, जहानागंज थाना के जुड़ारामपुर के संदीप सिंह अपने अन्य 3 साथियों के साथ इथोपिया में फंस गए हैं। जिस कंपनी में मशीनरी की फिटिंग करने गए थे उसी के मालिक ने उनके सभी साथियों के साथ बंधक बना लिया है। राज बहादुर चौबे, संजय मिश्रा, संदीप के अलावा झारखंड, हरियाणा व बलिया के एक-एक मैकेनिक हैं। इन सभी ने एक कमरे में बंधक बनाए जाने के दौरान किसी प्रकार से मोबाइल से अपना वीडियो बनाकर अपने कष्ट को बयां करते हुए भेजा है। संजय मिश्रा की पत्नी रीना मिश्रा ने बताया कि प्रीति मशीनरी गाजियाबाद ने तीन माह के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर इथोपिया के दुक्कम शहर में टडास स्टील कंपनी में मशीनरी की फिटिंग के लिए पांच माह पहले भेजा था। तीन माह के एग्रीमेंट के अनुसार काम पूरा करने के बाद जब भारत आना चाहा तो स्टील कंपनी के मालिक ने पासपोर्ट जब्त करते हुए सभी को बंधक बना लिया। उसने कहा कि तुम लोग चले जाओगे तो हमारे प्लांट को कौन चलाएगा। इधर, तय समय पर भारत न आने पर गाजियाबाद की कंपनी के मालिक ने संपर्क किया और निर्धारित तिथि पर न आने का कारण पूछा, तो कामगारों ने बंधक बनाने की जानकारी दी।
गाजियाबाद की कंपनी ने मदद के लिए विदेश मंत्रालय से संपर्क किया, तो इथोपिया स्थित भारतीय दूतावास के लोग जाकर बंधक बनाए गए लोगों से मिलकर समस्या के निदान के लिए आश्वस्त किए, लेकिन अभी तक राहत नहीं मिल सकी है। परिजनों के अनुसार अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है हालांकि एसडीएम 1 दिन पहले घर गए थे लेकिन जब तक बंधक बने लोग वापस नहीं आते हैं तब तक परिजनों में बेचैनी है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment