.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: रणजी ट्राफी में धमाल मचाने वाले क्रिकेटर सरफराज पहुंचे गांव,हुआ स्वागत



टीम इंडिया के लिए कुछ कर गुजरने की है दिली हसरत - सरफराज

जिले का ही नहीं, बल्कि प्रदेश का नाम रोशन हुआ है- एसके सत्येन

आजमगढ़: रणजी ट्राफी के इतिहास में धमाल मचाने वाले जिले के लाल क्रिकेटर सरफराज खान शुक्रवार को अपने पिता और कोच नौशाद खान व रणजी खिलाड़ी छोटे भाई मुशीर के साथ पैतृक आवास सगड़ी तहसील के छतरपुर खुशहाल पहुंचे। इस अवसर पर उनके प्रशंसकों का भारी जमावड़ा लग गया। हर कोई रणजी ट्रॉफी में इस वर्ष मैन ऑफ द सीरीज सरफराज के साथ सेल्फी लेने को बेताब दिखा। इस अवसर पर उनके पारिवारिक मित्र मोहम्मद असफर, नसीम खान के साथ आजमगढ़ विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष एसके सत्येन व अन्य शुभ चिंतकों ने स्वागत करते हुए कहा कि सरफराज ने जिले का ही नहीं, बल्कि प्रदेश का नाम रोशन किया है। जिले के युवाओं को इनसे सीख लेने की जरूरत है। उधर, युवा सरफराज को अपने बीच पाकर काफी उत्साहित दिखे। स्वागत से अभिभूत सरफराज ने कहा कि खेल क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए युवाओं को लगातार प्रयास करना चाहिए। कुछ लोग एक हफ्ते अभ्यास कर दो हफ्ते रेस्ट लेते हैं, ऐसे सफलता नहीं मिलती। कहा कि मैं इंडिया की टीम में खेलकर क्षेत्र का नाम रोशन करना चाहता हूं। सरफराज के पिता नौशाद खान ने कहा कि हर व्यक्ति को अपनी जिंदगी का कोई न कोई मकसद बनाना चाहिए और मुकाम पर पहुंचकर ही रुकना चाहिए। जो लोग बीच में ही रुक जाते हैं, उन्हें कतई सफलता नहीं मिल सकती। इस अवसर पर विनीत सिंह रिशु, वहाब खान, अजमल खान, मुशीर खान, मास्टर एहसान, प्रधान एहसान, फैयाज खान, रहमतुल्ला, सलमान घोसवी आदि थे।
बासूपार बनकट गांव के मूल निवासी सरफराज के पिता नौशाद खान अपनी ससुराल छतरपुर में मकान बनाकर रहते हैं। गांव से उठकर मुंबई पहुंचे नौशाद खान ने क्रिकेट को अपना करियर बनाया और नामचीन क्रिकेट ट्रेनिंग क्लब बनाकर बच्चों को ट्रेनिंग देनी शुरू की। नौशाद ने अपने बड़े बेटे सरफराज का रिजवी स्प्रिंग फील्ड कालेज मुंबई में एडमिशन कराया। इसी विद्यालय परिसर से ही सरफराज ने क्रिकेट की दुनिया में कदम रखा, तो फिर पीछे नहीं हटे। उन्हें 2015 और 2016 में आइपीएल में भाग लेने का भी मौका मिला। सरफराज चार साल तक आरसीबी और तीन साल पंजाब टीम और पिछले वर्ष से दिल्ली के लिए खेल रहे हैं। सरफराज रणजी ट्राफी इतिहास में तीसरे ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने दो अलग-अलग सीजन में 900 से ज्यादा रन बनाए। इसमें प्रथम स्थान पर दिल्ली के अजय शर्मा और दूसरे स्थान पर वसीम जाफर का नाम आता है। वर्तमान समय में रणजी ट्राफी में सरफराज ने जबरदस्त धमाल किया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment