.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: अभियान चला बच्चों को घरेलू व यौन हिंसा के प्रति जागरूक करें - अनीता अग्रवाल


राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग सदस्य ने प्रशासनिक अधिकारियों संग की बैठक

स्कूलों के पास नशे के समान व गुटखे न बिकने दें,गरीब बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिलाएं

आजमगढ़ 06 मई-- श्रीमती अनीता अग्रवाल, सदस्य, राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग की अध्यक्षता में आज सर्किट हाउस में अपर जिलाधिकारी प्रशासन अनिल कुमार मिश्र, एसपी सिटी शैलेन्द्र लाल, जिला प्रोबेशन अधिकारी शशांक सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 आईएन तिवारी, जिला महिला अस्पताल की सीएमएस, डीपीआरओ लालजी दूबे, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, मद्य निषेध अधिकारी तथा अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की गयी।राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग की
सदस्य ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि अभियान चलाकर श्रम करने वाले बच्चों को चिन्हित किया जाये। उन्होने कहा कि शासन के निर्देशानुसार पुलिस विभाग की सूचना पर बच्चों को बीएसए एवं डीआईओएस के माध्यम से स्कूलों में प्रवेश दिलाने की कार्यवाही की जाये। उन्होने कहा कि गरीब घर के बच्चों के परिवार को मुख्य विकास अधिकारी एवं जिला पंचायत राज अधिकारी तथा अन्य विभाग से समन्वय स्थापित कर सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जाये। उन्होने कहा कि जो भी बच्चे पकड़े जायें, उन्हें पहले सीडब्ल्यूसी के समक्ष प्रस्तुत करें, उसके बाद अग्रिम कार्यवाही की जाए।
उन्होंने कहा कि अभियान चलाकर बच्चों को घरेलू हिंसा, बाल विवाह, यौन हिंसा के प्रति जागरूक किया जाये। उन्होने कहा कि गांव-गांव रैली निकालें तथा पोस्टर, बैनर तथा होर्डिंग आदि के माध्यम से जन जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाये। उन्होने कहा कि जन जागरूकता हेतु दीवालों पर वाल पेंटिंग भी करायी जाये। उन्होने आबकारी विभाग को निर्देश दिया कि बच्चों को नशे के प्रति जागरूकता हेतु एक युद्ध नशे के विरूद्ध अभियान चलाया जाय। उन्होने कहा कि स्कूलों के 100 मीटर के दायरे में मदिरा की दुकान नही होनी चाहिए तथा दुकानों पर बच्चों को शराब न दिये जाने का पोस्टर भी लगवायें। उन्होने कहा कि प्रत्येक शराब की दुकान पर सीसी टीवी कैमरा लगाना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि स्कूल के आस-पास टाफी की दुकानों पर नशे एवं पान मसाला के गुटखे न रखे जायें।
सदस्य ने निर्देश दिया कि गरीब परिवार की बच्चियों को कस्तूरबा गांधी विद्यालय में प्रवेश दिलाया जाये। उन्होने कहा कि गांवों में जाकर कमजोर एवं गरीब परिवार को चिन्हित कर उनके बच्चों का प्रवेश दिलाना सुनिश्चित करें। उन्होने अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रत्येक विद्यालय में चाइल्ड हेल्प लाइन नम्बर अवश्य प्रिण्ट कराया जाये।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment