.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: बुलडोजर से होता है विकास और माफिया का सफाया- सीएम योगी


अखिलेश यादव को आतंकियों और माफियाओं को प्रश्रय देने से फुर्सत नही है

शराब माफिया गरीबों को मारे हैं उन पर पर भी चलेगा बुलडोज़र- योगी आदित्यनाथ

आजमगढ़: चुनाव प्रचार के अंतिम दिन जिले के दौरे पर पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले की सपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बहराइच में सालार मसूर गाजी को महाराजा सुहेलदेव ने जिंदा दफनाने का काम किया था। भाजपा ने सुहेलदेव के नाम पर विश्वविद्यालय का निर्माण कराया। यह काम सपा भी कर सकती थी,लेकिन उनके पास फुरसत नहीं थी। अखिलेश यादव को आतंकियों और माफियाओं को प्रश्रय देने से फुरसत हो तो। अखिलेश यादव की संवेदना विकास और गरीबों के लिए नहीं, बल्कि संजरपुर के आतंकियों के साथ थी।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यहां मैं आया तो देखा कि यहां बुलडोजर खड़ा है। प्रदेश के विकास के लिए बुलडोजर जरूरी है, तो माफिया के लिए भी बुलडोजर जरूरी है। शराब माफिया जो गरीबों को मार रहे हैं, उन पर भी बुलडोजर चलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास और बुलडोजर साथ-साथ चलेंगे, उसके लिए ज्यादा से ज्यादा विधायक चाहिए। आप लोग आजमगढ़ जिले की 10 सीट जिताएंगे।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आज से माफिया प्रवृत्ति के तमाम लोग विदेश भागने में लगे हैं। छठे चरण में चौके और छक्के लगे हैं। आप लोग जोरदार छक्का लगाइए कि स्कोर 300 के पार हो जाए। कोरोना काल खंड के दौरान आजमगढ़ की जनता ने भले ही मुलायम सिंह को सांसद बनाया हो या सपा सुप्रीमो अखिलेश को सांसद बनाया हो। कोरोना काल में तीन बार मैं आया। क्या अखिलेश यादव एक बार भी आए। हाल-चाल लेने आए थे।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अखिलेश यादव को आजमगढ़ से चुनाव लड़ना चाहिए था, पर उन्हें पता है कि सपा के पैरों तले जमीन खिसक रही है। अब आजमगढ़ में सपा गठबंधन के लिए कोई जगह नहीं है। इस कारण ऊल-जलूल बयानबाजी कर रहे हैं। आजमगढ़ के नौजवानों के सामने पहचान का संकट किसने खड़ा किया गया। आजमगढ़ क्रांतिकारियों, साहित्यकारों और ऋषि-मुनियों की धरती रही है। यहां का नौजवान कहीं जाता है, तो उसके सामने पहचान का संकट समाजवादी पार्टी ने खड़ा किया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment