.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: 06 को फांसी की सजा मिलते ही बस्तियों में पसरा सन्नाटा


फिर सुर्खियों में जिला,अहमदाबाद विस्फोट कांड में जिले के 06 दोषी सिद्ध हुए थे


आजमगढ़ : 2008 में अहमदाबाद में हुए सीरियल ब्लास्ट मामले में आजमगढ़ के 06 दोषियों को कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी। शुक्रवार को भनक लगते ही गुनहगारों के स्वजन परेशान हो उठे तो उनके गांव में सन्नाटा छा गया। बस्तियों में लोगों ने खामोशी की चादर ओढ़ ली तो अन्य स्थानों पर लोगों के एक ही बोल फूटे कि करतूत किसी की और कलंकित पूरा इलाका हुआ है। हालांकि, खुलकर कोई कुछ भी बोलने को तैयार नहीं था।
वर्ष 2008 में हुए अहमदाबाद ब्लास्ट की यादें लोगों के जेहन में 13 साल बीत जाने के कारण धुंधली पड़ने लगी थीं, लेकिन बीते 08 फरवरी को कोर्ट का फैसला आने से फिर से जिला सुर्खियों में आ गया था। आजमगढ़ के नौ आरोपितों में कोर्ट ने 03 को दोषमुक्त करते हुए, 06 आरोपितों को सजा सुनाने की तिथि मुकर्रर कर दी थी। शुक्रवार को कोर्ट ने सरायमीर क्षेत्र के बीनापारा निवासी मुफ्ती अबु बशर, संजरपुर के मोहम्मद सैफ, आरिफ, इसरौली के आरिफ बदर, शहर कोतवाली के बदरका मुहल्ला के सैफुर्रहमान, बाजबहादुर मोहल्ला के मोहम्मद जीशान को फांसी की सजा सुना दी। सजा की भनक लगते ही आतंकियों के स्वजन खुद को घरों में कैद कर लिए तो वहीं गांव में सन्नाटा पसर गया। अबु बशर, सैफ के घर तो ताला बंद पड़ा मिला। संजरपुर, इसरौली, बीनापारा में कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं था। शहर के बदरका और गुलामी का पुरा के लोग भी खुलकर कुछ नहीं बोले, लेकिन दबी जुबां जरूर कहा कि करतूत किसी की और बदनाम पूरा मोहल्ला और गांव हो रहा है। बटला कांड के बाद बनी संजरपुर कमेटी के मसीउद्दीन संजरी एवं रिहाई मंच के जनरल सेक्रेटरी राजीव यादव ने कहाकि मुझे कोर्ट पर भरोसा है। इस फैसले के खिलाफ ऊपर की अदालत का दरवाजा खटखटाने की बात कही है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment