.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: गुरु दरबार में श्रद्धालुओं ने लगाई हाजिरी


सुंदर गुरुद्वारा में धूमधाम से मना गुरु गोविद सिंह का 355 वां प्रकाशोत्सव

कीर्तन, प्रसाद वितरण व लंगर में दिखी सामाजिक एकता

आजमगढ़: ठंड के बावजूद सिख परिवारों में रविवार सुबह से ही उत्साह का माहौल था। स्नान आदि के बाद सुंदर वस्त्र धारण कर हर कदम चल पड़े थे गुरुद्वारे की ओर। गुरु दरबार में लोगों ने हाजिरी लगाने के बाद प्रसाद ग्रहण किया। मौका था दसवें और अंतिम गुरु गोविद सिंह के 355वें प्रकाशोत्सव का। नगर के मातवरगंज स्थित सुंदर गुरुद्वारे में सुबह से ही लोगों के पहुंचने का सिलिसला शुरू हो गया था। यहां पहुंचने वाले किसी भी धर्म से जुड़े हों, सबसे पहले सिर ढककर गुरुग्रंथ साहिब के समक्ष शीश झुकाया। जिसके पास सिर ढकने के लिए साफ रुमाल नहीं थे उसे गुरुद्वारा की ओर से उपलब्ध कराया जा रहा था। प्रकशोत्सव पर गुरुद्वारा में सहज पाठ रखा गया। सुबह पाठ समाप्ति के बाद तीन बजे तक कीर्तन दरबार सजा जिसमें गुरुवाणी सुन संगत निहाल हो उठी। एक के बाद एक कीर्तन सुनकर लोग आनंदित हो उठे। अरदास के बाद कड़ाह प्रसाद का वितरण किया गया और उसके बाद लंगर शुरू हुआ जिसमें सभी धर्मों के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और सामाजिक एकता का संदेश दिया।
सिख परिवार से जुड़े लोगों ने अपनों को गुरुद्वारा पहुंचकर लंगर के लिए आमंत्रित भी किया। सुबह 10:30 बजे सहज पाठ की समाप्ति ज्ञानी सुनील सिंह द्वारा किया गया जिसके पश्चात अरदास हुई।कीर्तन दरबार में मुगलसराय से आए रागी जत्था भाई जयपाल सिंह द्वारा कीर्तन कर संगत को निहाल किया गया। इस अवसर पर संगम अरोड़ा, परमजीत सिंह, गगनदीप सिंह रिकू, सतनाम सिंह, करतार सिंह, श्याम सुंदर अरोड़ा, सुरेंद्र सिंह, गुरप्रीत सिंह, राजू सिंह, हरविदर सिंह, अमनदीप सिंह, कैलाश सिंह, रंजीत सिंह, राजेश अरोड़ा आदि उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment