.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: लेखपाल व पत्नी की जघन्य हत्या का पुलिस ने किया पर्दाफाश,07 गिरफ्तार



प्रेमी के साथ मिल बहू ने कराई थी सास-ससुर की हत्या,मुख्य आरोपित पर 25 हजार का इनाम

ब्लाइंड डबल मर्डर की गुत्थी सुलझाने वाली पुलिस टीम को 15 हजार का इनाम घोषित

आजमगढ़ : तरवां थाना क्षेत्र के पित्थौरपुर गांव में 28 नवंबर की रात लेखपाल और उनकी पत्नी की हत्या का राजफाश करते हुए पुलिस ने मृतक की बहू समेत सात आरोपिताें को गिरफ्तार कर लिया, जबकि घटना का मुख्य आरोपित पंकज यादव अभी पकड़ से दूर है। पकड़े गए लोगों में कई मुख्य आरोपितों को शरण देने वाले भी हैं। एसपी ने उसकी गिरफ्तारी के लिए 25 हजार का इनाम घोषित किया है। वहीं पुलिस टीम को 15 हजार इनाम दिया जाएगा। पुलिस लाइन स्थित सभागार में शनिवार को आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी अनुराग आर्य ने बताया कि मुख्य आराेपित पंकज यादव व मृतक की बहू ज्योति का शादी के पहले से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इसका विरोध करने पर ज्योति के पति के साथ पूर्व में मारपीट भी की गई थी। ग्राम पित्थौरपुर के समीप से गिरफ्तार अखिलेश यादव निवासी गेलवारा, थाना सिधारी ने पूछताछ में बताया कि पंकज और जेके मलिक से मेरी दोस्ती काफी दिनों से है। घटना से पांच दिन पहले झारखंडे मंदिर पर पंकज बोला कि मेरी प्रेमिका ज्योति के ससुर की हत्या करनी है। उसके बाद उसके पति को नौकरी मिल जाएगी और कुछ दिनों बाद पति की हत्या कर देने पर नौकरी ज्योति को मिल जाएगी फिर हम और ज्योति मौज करेंगे। लालच दिया कि वहां जो गहना मिलेगा वह तुम ले लेना। फिर घटना से दो दिन पहले बताया कि 28 तारीख को चलना है। 28 तारीख को उसने एक दूसरे मोबाइल से फोन कर मुझे झारखंडेय मंदिर पर बुलाया। शाम को पंकज अपनी मोटरसाइकिल से आया। वहां से हम लोग छतवारा, बोंगरिया बाजार से होते हुए नहर पकड़कर ग्राम पित्थौरपुर की तरफ चल दिए।रास्ते में चनरा देवी कालेज के पास बीयर पीये तथा कुछ बीयर को मोटरसाइकिल के नंबरप्लेट पर गिराकर उसपर धूल पोत दिए, ताकि नंबर प्लेट पढ़ने में न आए। रात में लेखपाल के नए मकान से पहले नहर पुलिया के पास चकरोड पर अंदर ले जाकर मोटरसाइकिल खड़ी कर दिए। कुछ देर बाद लेखपाल अपनी पत्नी के साथ पुरान घर से नए घर में पहुंचे। करीब एक-डेढ घंटे बाद पंकज ने डिग्गी से बांका निकाला और मैंने राड लिया। उसके बाद घर में घुसे, जहां लेखपाल रामनगीना और उनकी पत्नी मंशा एक ही चौकी पर मच्छरदानी लगाकर गहरी नींद में सो रहे थे। मैंने राड से मच्छरदानी हटाकर लेखपाल के सिर पर वार किया, जबकि पंकज यादव ने बांका से ताबडतोड़ गर्दन व चेहरे पर कई बार वार किया। उनकी पत्नी जाग गईं तो उनका हाथ पकड़कर जमीन पर पटक दिया और तब तक पंकज यादव ने लेखपाल को छोड़कर लेखपाल की पत्नी मंशा देवी के ऊपर कई बार वार कर दिया। उसके बाद हम दोनों लोग धीरे से खिड़की के रास्ते निकलकर भाग लिए।
इस दोहरे हत्याकांड में पकड़े गए आरोपित में
अखिलेश यादव निवासी गेलवारा, थाना सिधारी,
जितेंद्र कुमार मलिक उर्फ जेके मलिक निवासी हमीरपुर सैदवारा, गोलू उर्फ सर्वेश यादव निवासी तमौली, दोनो थाना रानी की सराय, सिंटू यादव निवासी गेलवारा, थाना सिधारी,ज्योति पत्नी कौशल प्रताप निवासी पित्थौरपुर, थाना तरवां।
धर्मेंद्र यादव निवासी रुपाली कालोनी, थाना कंधरापुर, रमाकांत यादव निवासी कोठिया, थाना रानी की सराय हैं। इनके अलावा पुलिस मुख्य आरोपी पंकज यादव निवासी कोठिया, थाना रानी की सराय। (25000 का इनाम घोषित) और बबलू यादव निवासी रुपाली कालोनी, थाना कंधरापुर की तलाश में जुटी है।
मामले का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम में
थानाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार सिंह, एसओजी टीम प्रभारी निरीक्षक अनिल सिंह, सर्विलांस सेल के राजकुमार सिंह व उनके हमराह शामिल रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment