.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: नदी हो या सरोवर, सभी घाटों पर उमड़ी आस्था की लहरें





एक साथ लाखों लोगों ने अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया
 

आजमगढ़ : लोक आस्था के महापर्व पर्व छठ पर निराजल व्रत रखने वाली महिलाओं के साथ ही पूरे परिवार में एक अलग तरह की ऊर्जा का संचार होते दिखा। सभी के चेहरे पर उत्साह के भाव थे। इंतजार था घाटों पर पहुंचने का। नदी हो या सरोवर, सभी घाटों पर आस्था की लहरें हिलोरें ले रही थीं। शाम होने के साथ अ‌र्घ्यदान का क्रम शुरू हुआ, तो एक साथ लाखों लोगों ने भगवान भास्कर को नमन किया। खास बात यह कि जिनके घरों में छठ की पूजा नहीं होती, उन लोगों ने भी बिना बुलाए पूजा में अपनी हिस्सेदारी की। उत्साह ऐसा कि तीन दिन का व्रत रखने वाली महिलाओं के चेहरे को देख लग रहा था कि भगवान भास्कर की कृपा है। उनके चेहरे पर कहीं से थकावट के भाव नहीं दिख रहे थे। साथ में चल रहे परिवार के सदस्यों व अन्य परिचितों के दिल में आस्था तो चेहरे पर गजब का उत्साह था। बुधवार को दोपहर बाद से ही व्रती महिलाओं व उनके परिवार के सदस्यों के कदम चल पड़े थे नदी व सरोवरों के घाटों की ओर। हर तरफ खुशी और जुबां पर छठ मइया से जुड़े गीत। यह अद्भुत नजारा देख लग रहा था कि मानों भगवान भास्कर ने अपने भक्तों में अतिरिक्त ऊर्जा का संचार कर दिया हो।

शाम होने के साथ श्रद्धालुओं की भीड़ से नदी-सरोवरों के घाट पट गए थे। घाटों के किनारे शाम होने के साथ विद्युत रोशनी से नहा उठे। सूर्यास्त होने के पहले सूर्य के सिंदूरी रूप का दर्शन करने के साथ अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य शुरू हो गया। अंधेरा होते-होते उसी उत्साह के साथ सिर पर पूजा का सामान लिए परिवार के लोग चल पड़े घरों की ओर। व्रती महिलाएं हाथ में कलश लिए चल रही थीं। शाम के अंधेरे में कलश पर जलता दीपक लेकर चल रही व्रती महिलाओं को देख ऐसा लग रहा था मानों आगे-आगे देवी और उसके पीछे उसके भक्तों की भीड़ चल रही हो। घर पहुंचने पर व्रती महिलाओं ने आंगन में पूजा की। इस पूजा में घर के सभी सदस्यों की संख्या के अनुसार मिट्टी के पात्र में फल आदि रखकर सूर्य भगवान के नाम से अर्पित किया गया। कुछ घरों में व्रती महिलाओं ने रात्रि जागरण भी किया। वहीं कुछ व्रती महिलाओं ने कठिन संकल्प के चलते घर से घाट तक कि यात्रा दण्डवत तय की ।

इससे पूर्व घाटों पर व्रती महिलाओं ने अस्ताचलगामी भगवान भास्कर की विधि-विधान से पूजा कर उनसे अपने पति के दीर्घायु और पुत्रों के यशस्वी व वीरवान होने की कामना की। नगर क्षेत्र में तीन तरफ से बहने वाली तमसा नदी के दलालघाट, गौरीशंकर घाट, कदम घाट, भोला घाट, सिधारी, नरौली, हरबंशपुर शाही पुल के पास समेत कई घाटों पर मेला लगा रहा। कई स्थानों पर छठ मइया और सूर्य भगवान की प्रतिमा भी स्थापित की गई थी। वहीं नदी के घाट फुल हुए तो व्रतियों के समूह ने घर के पास ही पानी के तालाब बनवा अर्घ्य दिया।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment