.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: मां राणी सती के सामने झुकते रहे शीश और लगता रहा जयकारा



मां राणी सती की अलौकिक झांकी देख भक्त हुए निहाल

गायक संजू शर्मा ने मंच संभाला तो देर रात तक झूमते रहे भक्त

आजमगढ़ : राणी सती महोत्सव में श्रद्धालु भक्ति गीतों की गंगा में आधी रात बाद तक गोता लगाते रहे। मारवाड़ी धर्मशाला में आधी रात तक झुकते रहे शीश और लगता रहा जयकारा। मां का आशीर्वाद लेने के लिए महिलाएं, पुरुष, बच्चों में होड़ सी मची रही। महोत्सव के माहौल को अपने भक्ति गीतों से कलाकार सराबाेर रहे थे। लोकप्रिय धुनों पर मां से जुड़ी गीतों की लाइन मां की चुनरी ने लोगों को तालियां बजाने, झूमने, कलाकार का साथ देने को उठ खड़ा होने काे मजबूर कर दिया। राणी शक्ति श्याम भक्त मंडल के अध्यक्ष शोभित अग्रवाल ने दीप प्रज्वलन के साथ के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की। उसके बाद मां राणी सती की अलौकिक झांकी देखते ही बन रही थी। मां का दर्शन कर भक्त निहाल उठे। महिलाएं, पुरुष अलग-अलग कतार में बैठे तो गायक संजू शर्मा ने मंच संभाल लिया। उसके बाद भजन की गंगा में भक्त गोता लगाना शुरू किए तो आधी रात बाद तक जारी रहा। हालांकि, महोत्सव की तैयारियां सुबह से ही चल रहीं थी। लेकिन शाम होते ही भक्तों की भीड़ उमड़नी शुरू हुई तो विशालकाय कार्यक्रम स्थल पर जगह कम पड़ती हुई प्रतीत हुई। दरअसल, भक्त मां के दर्शन को व्याकुल हुए जा रहे थे। ऐसे में कार्यक्रम निर्धारित समय से पूर्व ही शुरू करना पड़ गया। भक्तों की आस्था देख इस बात की चर्चा प्रबल हो उठी कि विज्ञान की ऊंचाइयों को दुनिया के लोग चाहे जितना भी छू लें, लेकिन आज भी बात जब धर्म-कर्म की होती है तो फिर भक्तों को कोई दुश्वारियां रोक नहीं पाती हैं। मास्क लगाकर ही लेकिन लोग पत्नी-बच्चों के साथ महोत्सव में पहुंचे हुए थे। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि मां की कृपा पूरे इलाके पर ऊपर वाले की कृपा बरस रही है। श्री राणीसती श्याम भक्त मंडल द्वारा सुबह से ही तैयारियां शुरू कर दी गई थीं। मारवाड़ी धर्मशाला को भव्य मंदिर के रूप में सजाया था जो भक्तों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा था। प्रमुख रूप से सौरभ डालमिया, संजय डालमिया, अभिषेक खंडेलिया, परितोष रुंगटा, अरुण कुमार आदि उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment