.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: ‘आपरेशन दस्तक’ में मंडल के 10200 बदमाशों की बन रही कुंडली


क्राइम-कंट्रोल को आजमगढ़ मंडल में पुलिस ने शुरू किया बड़ा अभियान

मऊ के 2900, बलिया के 3200 व जिले के 4300 घरों में पहुंचेगी पुलिस

आजमगढ़ : क्राइम कंट्रोल को पुलिस बदमाशों की नए सिरे से कुंडली तैयार करने जा रही है। बदमाशों की जड़ तक पहुंच सूचनाएं इकट्ठा करने को पुलिस ने ‘आपरेशन दस्तक’ अभियान का नाम दिया है। आजमगढ़ मंडल में 10200 बदमाश पुलिस के निशाने पर हैं। बदमाशों की कुंडली त्रिनेत्र ऐप पर लोड की जाएगी। मिशन पूरा होने के बाद पुलिस की बदमाशों तक पहुंच आसानी हो जाएगी। आपरेशन दस्तक में पुलिस बदमाशों के घर पहुंचेगी। उनके बारे में 28 बिंदुओं पर सूचनाएं जुटाएगी। मसलन, बदमाश उसके माता, पिता, भाई, बहन, नाते, रिश्तेदार का नाम, पता, लेटेस्ट फोटो, मोबाइल नंबर, आय का जरिया इत्यादि। पुलिस बदमाशों के घर तब तक जाएगी, जब तक कि उनके बारे में विस्तृत ब्यौरा मिल न जाए। पुलिस के इस विशेष अभियान में चोरी, हत्या, लूट, डकैती, गैंगस्टर, गौकशी करने वाले बदमाश पुलिस के निशाने पर होंगे। मंडल में आज़मगढ़ पुलिस ने 4300, मऊ पुलिस ने 2900 व बलिया ने 3200 बदमाशों को चिन्हित किया है। पुलिस के रोजाना बदमाशों के घर जा धमकने से बदमाश भी सहमे हैं। पुलिस इस भरोसे के साथ तन्मयता से ‘आपरेशन दस्तक’ अभियान में जुटी है कि फिर अपराध में कमी जरूर आ सकेगी। डीआइजी आज़मगढ़ मंडल अखिलेश कुमार ने कहा कि ‘बदमाशों के बारे में सूचनाएं अपडेट की जाएंगी तो उनमें भी भय होगा। पुलिस के पास बदमाशों उनके नाते, रिश्तेदारों के नए नंबर, लोकेशन, कारोबार इत्यादि के बारे में जानकारी होगी। ऐसे में किसी घटना के बाद उन तक पहुंचना आसान हो जाएगा। मेरा मानना है कि आपरेशन दस्तक अभियान पूरा होने के बाद मंडल में अपराध का रेसियो 40 फीसद गिर जाएगा। त्रिनेत्र एप पर सूचनाएं एक बार अपलोड हुईं तो बदमाशों के लिए कहीं भाग पाना भी मुश्किल हो जाएगा।’

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment