.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: डीआईजी की पहल पर 03 दिन के मासूम की बची जान


गंभीर बीमारी से जूझ रहे मासूम के लिए ओ निगेटिव ब्लड की दरकार थी

डीआईजी ने मऊ पुलिस को अलर्ट किया तो 03 सिपाही ब्लड देने को दौड़ पड़े

आजमगढ़: पुलिस की पहल से तीन दिन के मासूम की जान बच गई। गंभीर बीमारी से जूझ रहे मासूम की जान बचाने के लिए ओ निगेटिव ब्लड की दरकार थी। तीमारदार मशक्कत के बावजूद खून न जुटा सके तो डीआइजी से मदद की गुहार लगाई गई। पता चला कि मासूम का इलाज मऊ में चल रहा है। डीआइजी ने मऊ पुलिस को अलर्ट किया तो तीन सिपाही ब्लड देने को दौड़ पड़े। हालांकि, वहां डॉक्टर ने एक यूनिट ब्लड से ही काम चलने की बात कही, जिसे कांस्टेबल अरुण कुमार रॉय ने उपलब्ध कराया।
गाजीपुर के रिजवान ने पुलिस उपमहानिरीक्षक सुभाष चंद्र दुबे काे फोन से अपने मासूम बच्चे की जान खतरे में पड़ने की जानकारी दी। कहाकि साहब प्रयास के बावजूद ओ निगेटिव ब्लड का इंतजाम नहीं कर पा रहा हूं। डीआइजी ने रिजवान से बात की तो पता चला कि वह तो गाजीपुर का रहने वाला है। जबकि बच्चे का इलाज मऊ में चल रहा है। उन्होंने एसपी मऊ सुशील घुले को फोन पर रिजवान की मदद करने के निर्देश दिए। एसपी ने भी दरियादिली दिखाई और पुलिस लाइंस से तीन सिपाहियों काे रिजवान के पास भेज दिया। डॉक्टर ने एक यूनिट ब्लड की जरूरत बताई तो कांस्टेबल अरुण कुमार रॉय ने अपना खून दिया।
डीआइजी ने मीडिया को बताया कि रक्त से ही जिंदगी डोर बंधी होती है। ऐसे में इससे बड़ा दूसरा कोई दान नहीं हो सकता है। पुलिस का काम सुरक्षा देना ही तो होता है। पुलिस ने एक मासूम की जान बचाकर यही तो किया है। ईश्वर ने माध्यम मुझे बनाया यह मेरे लिए प्रसन्नता की बात है। मऊ के एसपी की जितनी सराहना की जाए कम है। उन्होंने मेरे कहने का तुरंत संज्ञान लेते हुए मदद को कदम बढ़ा दिए। तीनों सिपाहियों को भी आभार, जो रुचि दिखाते हुए पहुंचे अस्पताल और अरुण ने ब्लड देकर जान बचाई।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment