.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: सरकारी बस से गांव में ड्राइविंग सिखाना पड़ा महंगा, चालक बर्खास्त


डिपो की जगह गांव में बस ले जा कर युवकों को सिखाने का वीडियो हुआ था वायरल

जीपीएस की जांच में सच्चाई उजागर, आरएम ने उठाया सख्त कदम

आजमगढ़ : रोडवेज बस से अपने परिचितों को गाड़ी चलाने की बारीकियां सिखाना एक चालक को महंगा पड़ गया। उसकी करतूत उजागर होने पर विभाग ने उसे बर्खास्तगी का पत्र पकड़ा दिया। जीपीएस लगी बस शहर से दूर जा पहुंचने के बावजूद अधिकारियों के अनभिज्ञ बने रहने से पूरे सिस्टम की किरकिरी हो रही थी। 
आजमगढ़ की डिपो की एक बस को राजेश कुमार पांडेय चला रहा था। वह कुछ दिनों पूर्व बस लेकर अपने गांव कंधरापुर लेकर पहुंच गया। वहां रोडवेज बस की स्टेयरिंग गांव के युवकों को सौंप दी। उन्हें अपनी देख रेख में गाड़ी चलाना सिखाने लगा। उसका वीडियो किसी तरह वायरल हुआ तो मीडिया को भनक लग गई। वीडियो रोडवेज प्रशासन तक पंहुचा तो जांच कराई गई , फिर चौकाने वाली सच्चाई सामने आई। बस में लगे जीपीएस (ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम) सिस्टम ने विभाग की आंखें खोल दीं । दरअसल, चालक चाहकर भी अधिकारियों काे बरगला नहीं सका। क्यों कि जीपीएस के जरिये अधिकारी बस का एक-एक मूवमेंट निकाल लिए थे। रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक अतुल त्रिपाठी ने बताया कि मामले की जांच कराई गई तो चालक का दोष सामने आ गया। ऐसे में उसे माफ करने का सवाल ही नहीं उठता था। उसे बर्खास्त कर दिया गया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment