.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: कांग्रेस नेता का दावा, राम मंदिर में चंदा देने की वजह से पार्टी ने पद से हटाया


हाल ही में पंकज मोहन सोनकर को बनाया गया था अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ का प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्वांचल प्रभारी

पार्टी ने 2019 में लालगंज लोकसभा क्षेत्र से लड़ाया था चुनाव

आजमगढ़. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा राम मंदिर का ताला खोलने का दावा कर मंदिर निर्माण का श्रेय लेने की कोशिश कर रही कांग्रेस ने पार्टी के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्वांचल प्रभारी पंकज मोहन सोनकर को सिर्फ इसलिए पद से हटा दिया है कि उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण राशि आरएसएस के माध्यम से दे दी। पार्टी की कार्रवाई से पंकज मोहन ही नहीं बल्कि उनके समर्थक भी स्तब्ध हैं। बता दें कि शहर के हरबंशपुर मोहल्ला निवासी पंकज मोहन सोनकर लंबे समय से कांग्रेस की राजनीति कर रहे हैं। पार्टी ने इन्हें यूवा कांग्रेस का अध्यक्ष व लालगंज का प्रभारी बनाया था। वर्ष 2019 में इन्हें लालगंज लोकसभा क्षेत्र से प्रत्याशी बनाया गया। सपा-बसपा गठबंधन में पंकज मोहन कोई करिश्मा नहीं कर पाए। इसके बाद पार्टी ने इन्हें अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ का प्रदेश उपाध्यक्ष बनाने के साथ ही पूर्वांचल प्रभारी की भी जिम्मेदारी सौंप दी।
बुधवार की रात पंकज मोहन सोनकर को पार्टी मुख्यालय से मेल आया कि निष्क्रियता के कारण उन्हें पद से हटा दिया गया है। पंकज का दावा है कि निष्क्रियता का आरोप पूरी तरह निराधार है। वह पार्टी के सभी कार्यक्रमों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते रहे हैं। वे 23 व 26 जनवरी को पार्टी के कार्यक्रम में रहे। इसके बाद उन्होंने 29 जनवरी को राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण राशि दी। इसके बाद से ही उन्हें वरिष्ठ नेताओं का फोन आने लगा। वरिष्ठ नेता बार बार पूछ रहे थे कि आखिर आरएसएस के माध्यम से समर्पण राशि क्यों दी। ऐसा नहीं करना चाहिए था। फिर उन्हें पद से हटा दिय गया।
उन्होंने कहा कि एक तरफ कांग्रेस राजनीति गांधी के द्वारा मंदिर का ताला खोलने की बात कहकर मंदिर निर्माण का श्रेय लेने की कोशिश कर रही है। प्रियंका गांधी मौनी आमवस्या को संगम में स्नान कर रही हैं और राहुल गांधी खुद को शिवभक्त बताते फिर रहे है और उन्हें सिर्फ पद से इसलिए हटा दिया गया कि मंदिर निर्माण में चंदा दे दिया। कांग्रेस क्या करना चाहती है समझ से परे है। इस कार्रवाई से सिर्फ वहीं नहीं बल्कि उनके समर्थक भी सन्न हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने मंदिर के लिए लंबी लड़ाई लड़ी। आज कोर्ट के आदेश के बाद मंदिर को निर्माण हो रहा है। राम में प्रति उनकी आस्था है इसलिए उन्होंने मंदिर निर्माण में सहयोग किया। इससे पार्टी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment