.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: प्रान्तीय चिकित्सा सेवा संघ का वार्षिक सम्मेलन सम्पन्न हुआ



कोरोना मरिजों के इलाज के दौरान शहादत देने वाले चिकित्साधिकारियों को श्रद्धांजली दी गई

अतरौलिया: आज़मगढ़: प्रान्तीय चिकित्सा सेवा संघ आजमगढ़ का वार्षिक सम्मेलन सोमवार को देर रात सौ शैय्या युक्त चिकित्सालय अतरौलिया में सम्म्पन्न हुआ।
सम्मेेलन में मुख्य अतिथि डा0 सचिन वैश्य (अध्यक्ष) ‘‘प्रान्तीय चिकित्सा सेवा संघ उत्तर प्रदेश’’ तथा विशिष्ठ अतिथि डा0 अमित सिंह के साथ डा0 ए0 के0 मिश्रा मुख्य चिकित्साधिकारी आजमगढ़, डा0 मंजुला सिंह मुख्य चिकित्सा अधीक्षिका जिला महिला चिकित्सालय आजमगढ़, डा0 के0 के0 झा, डा0 विनय सिंह यादव (अध्यक्ष), डा0 राजनाथ (सचिव) आजमगढ़, डा0 ओम प्रकाश मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, अम्बेडकरनगर, डा0 पी0एन0 यादव (अध्यक्ष), डा0 अशुतोष सिंह (सचिव) अम्बेडकरनगर के साथ-साथ सैकड़ो की सख्या में जिले के चिकित्साधिकारियों ने प्रतिभाग किया।
बैठक में सर्वप्रथम कोरोना मरिजों के इलाज करते-करते स्वंय अपनी शहादत देने वाले चिकित्साधिकारियों को भवभीनी श्रद्धांजली दी गयी, तथा उनके आत्मा की शान्ती के लिये दो मिनट का मौन रखा गया।
सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए महामंत्री डा0 अमित सिंह ने संवर्ग के किये जा रहे प्रयास तथा उनके सम्बन्ध में शासन के रूख के विषय में विस्तार से प्रकाश डाला। अपने व्यक्तव्य में डा0 अमित ने शहादत देने वाले संवर्ग के प्रति शासन की संवेदना अपेक्षाकृत न होने पर असंतोष व्यक्त करते हुए चिकित्सधिकारियों को भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर सभी विकल्पों के लिये तैयार रहने का अह्वाहन किया। डा0 ए0के0 मिश्रा जनपद आजमगढ़ के चिकित्सको द्वारा कोरोना काल में किये गये प्रयासों की भूरि-भूरि प्रशंसा की तथा भविष्य में भी इसी तन्मयता से कार्य करते रहने के लिये प्रेरित किया। 
अध्यक्षीय भाषण में डा0 सचिव वैश्य ने महामंत्री के व्यक्तव्य एवं चिकित्साधिकारियों के द्वारा पूछे गये सवालों का विस्तार के साथ स्पष्ट किया। अध्यक्ष डा0 सचिन वैश्य ने शासन से चिकित्सकों के समस्याओं के लिये सहयोगात्मक पहल की अपेक्षा करते हुए संघ के संवर्ग को स्पष्ट किया कि बहुत ही कम संख्या में चिकित्सकों के बल बूते कोरोना की लड़ाई लड़ी गयी एवं जीती गयी, इस दौरान हमारे 17 साथी शहीद हो गये कई अभी भी अस्वस्थ है। ऐसे में यदि शासन में बैठे लोग अपनी 
निरंकुश मानसिकता का परिचय देते है तो यह निराशाजनक होगा, और संवर्ग को कुण्ठा का शिकार बनायेगा। जिससे जन स्वास्थ्य की सेवायें प्रभावित होगी।
संचालन डा0 विनय कुमार सिंह यादव ने किया तथा धन्यबाद प्रस्ताव डा0 के0के0 झा ने प्रस्तुत किया।
बैठक में डा0 वाई0के0 राय, डा0 चन्द्रहास, डा0 गोविन्द गुप्ता, डा0 विधान चन्द्र विश्वास, डा0 संतोष कुमार, डा0 राजन, डा0 धनन्जय पाण्डेय, डा0 देवेन्द्र सिंह, डा0 राम आशीष यादव, डा0 देवानन्द, डा0 हामीर सिंह, डा0 ए0के0 सिंह सहित सैकड़ों चिकित्सक उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment