.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: गुणवत्ता बनाये रखने को निर्माण कार्यों की टेक्निकल जाॅंच अवश्य हो: मण्डलायुक्त


मण्डलायुक्त ने की 50 लाख से अधिक तथा 50 करोड़ से अधिक लागत वाले निर्माण कार्यों की समीक्षा

आज़मगढ़ 7 जनवरी -- मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने मण्डल के जनपदों में 50 लाख तथा उससे अधिक लागत की निर्माणाधीन परियोजनाओं एवं 50 करोड़ से अधिक लागत के कार्यों की समीक्षा बैठक के दौरान समस्त कार्यदायी विभागों को निर्देश दिया कि जो भी निर्माण कार्य कराये जा रहे हैं वह मानक के अनुसार गुणवत्तापूर्ण होने चाहिए। उन्होंने कहा कि भवन निर्माण में बुनियाद डालने तथा छत ढलाई के समय मौके पर टेक्नीशियन, सहायक अभियन्ता, अवर अभियन्ता आदि का होना जरूरी है। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने बुधवार को देर सायं अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित बैठक में 50 लाख तथा उससे अधिक लागत की निर्माणाधीन परियोजनाओं के साथ ही 50 करोड़ से अधिक लागत के निर्माण कार्यो की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में अवगत कराया गया कि मण्डल के जनपदों में 50 लाख तथा उससे अधिक लागत के कुल 395 कार्य हैं, जिसमें आज़मग़ में 165, मऊ में 86 एवं बलिया में 144 कार्य हैं। इसमें से आज़मगढ़ में 18, मऊ में 7 एवं बलिया में 8 कार्य अभी अनारम्भ हैं, जबकि आज़मगढ़ में 16, मऊ में 8 एवं बलिया में 18 कार्य पूर्ण हो चुके हैं। मण्डलायुक्त ने कहा कि जिन विभागों के कार्य बजट के अभाव में बन्द हैं अथवा अनारम्भ हैं, उससे सम्बन्धित अधिकारी अपने विभाग से तत्काल बजट की मांग कर लें तथा उन्हें भी अवगत करायें। जनपद मऊ पैकफेड द्वारा कराये जा रहे कार्यों की भौतिक एवं वित्तीय प्रगति अत्यन्त खराब मिलने पर मण्डलायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए संयुक्त विकास आयुक्त को निर्देश दिया कि जाॅंच करें तथा खराब प्रगति के लिए जिम्मेदार अधिकारी का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए वस्तुस्थिति से अवगत करायें। इसी प्रकार कई कार्यदायी विभागों द्वारा प्रस्तुत प्रगति रिपोर्ट गत माह की पाये जाने पर भी उन्होंने असन्तोष व्यक्त किया तथा इसकी भी जाॅंच कर आख्या उपलबध कराने हेतु संयुक्त विकास आयुक्त को निर्देश दिया। सिंचाई विभाग द्वारा मऊ में 4 कार्य तथा बलिया में 10 कराया जाना है, जिसमें बलिया की स्थिति सन्तोषजनक पाई गयी परन्तु मऊ में कार्य बन्द होने के कारण प्रगति काफी कम पाई गयी। मण्डलायुक्त ने इस सम्बन्ध में सिंचाई विभाग को निर्देशित किया तत्काल कार्य प्रारम्भ कराया जाय। पैकफेड द्वारा एक कार्य के लिए गत सितम्बर माह में धनराशि प्राप्त होने तथा दिसम्बर में उसका टेण्डर करा दिये जाने के सम्बन्ध में अवगत कराये जाने पर मण्डलायुक्त ने इसे संदिग्ध मानते हुए इसकी भी जाॅंच संयुक्त विकास आयुक्त को करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होंने प्रत्येक कार्यदायी संस्थाओं के 4-5 निर्माण कार्यों की जाॅंच टीम बनाकर कराने हेतु उप निदेशक अर्थ एवं संख्या को निर्देश दिया तथा कहा कि जाॅंच हेतु जो भी टीम जाये वह निर्माण में प्रयुक्त मैटेरियल का नमूना अवश्य लें, ताकि उसका परीक्षण कराया जा सके। उन्होंने मण्डलीय अर्थ एवं संख्या अधिकारी को निर्देश दिया कि जिन कार्यदायी विभाग का कार्य लगातार दो माह बन्द पाया जाता है तो उसका अलग विवरण तैयार कर बैठक में प्रस्तुत करें। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने 50 करोड़ से अधिक लागत के निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान पाया कि मण्डल के जनपदों में कुल 18 कार्य 50 करोड़ से अधिक लागत के हैं, जिसमें एनएचएआई, यूपीडा एवं लोक निर्माण विभाग के 4-4 कार्य, सेतु निगम के 5 एवं उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड का एक कार्य है। प्रान्तीय खण्ड, लोक निर्माण विभाग मऊ द्वारा कराये जा रहे लखनऊ-बलिया मार्ग के फोरलेन चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य में मऊ में चैनेज 285.00 से 316.506 तक की प्रगति अत्यन्त खराब है तथा रिपोर्टिंग भी गलत की गयी है। इस पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए सम्बन्धित अधिशासी अभियन्ता एवं अधीक्षण अभियन्ता के विरुद्ध शासन को अवगत कराये जाने का निर्देश दिया। इसी प्रकार सेतु निगम द्वारा आज़मगढ़ में घाघरा नदी पर पुल निर्माण के साथ ही अन्य कार्य की प्रगति भी सन्तोषजनक नहीं पाई गयी। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने इस सम्बन्ध में भी शासन को अवगत कराने का निर्देश दिया। उन्होंने उप परियोजना प्रबन्धक, सेतु निगम को निर्देश दिया कि थर्ड पार्टी द्वारा उनके कार्यों के किये गये सत्यापन की रिपोर्ट उपलब्ध करायें। बैठक में अन्य सभी कार्यदायी विभागों के कार्यों की विस्तार से समीक्षा की गयी। इस अवसर पर संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, उप निदेशक, अर्थ एवं संख्या अमजद अली अन्सारी, मुख्य अभियन्ता, लोक निर्माण विभाग रमाशंकर, अधीक्षण अभियन्ता लोनिवि मऊ एवं बलिया एके मणि, अधीक्षण अभियन्ता लोनिवि आज़मगढ़ आरएन दास, अपर निदेशक, स्वास्थ्य डा. मुहिब्बुल्लाह, उप निदेशक समाज कल्याण सुरेश चन्द, मण्डलीय अर्थ एवं संख्या अधिकारी डा. नीरज श्रीवास्तव, एनएचएआई के ओपी सिंह, यूपीडा के सतीश कुमार, बीएस सिंह, विपिन वर्मा सहित सभी कार्यदायी विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।



------जि0सू0का0 आज़मगढ़ द्वाराप्रसारित:ः दिनांक 07.01.2021------

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment