.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

शौचालयों,भवनों के निर्माण में पंचायत सचिवों के कार्यों की करें मानीटरिंग-कमिश्नर


कोविड-19 की टेस्टिंग किसी भी दशा में लक्ष्य से कम नहीं होनी चाहिए - मण्डलायुक्त

आजमगढ़। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने कहा कि मण्डल के जनपदों में पराली जाने की घटना को रोकने के लिए सतर्क दृष्टि रखी जाय तथा पराली जलाये जाने से खेतों की उर्वरा शक्ति पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों एवं वातावरण के दूषित होने के फलस्वरूप होने वाली बीमारियों के प्रति कृषकों को निरन्तर जागरूक किया जाय। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने बुधवार को अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित मण्डलीय समीक्षा बैठक के दौरान तीनों जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया कि सीएचसी एवं पीएचसी पर तैनात चिकित्सकों को रात्रि में तैनाती स्थल पर ही आवासित रहना सुनिश्चित करें। उन्होंने तीनों जनपद के जिलाधिकारियों से कहा कि चिकित्सकों के तैनाती स्थल पर उपस्थिति का अपने स्तर से औचक निरीक्षण भी करायें। श्री पन्त ने निर्देश दिया कि कोविड-19 की टेस्टिंग पर विशेष ध्यान दिया जाय, किसी भी दशा में लक्ष्य से कम टेस्टिंग नहीं होनी चाहिए। आयुष्मान भारत की समीक्षा के दौरान पाया गया कि जनपद बलिया में गोल्डेन कार्ड के लाभार्थियों की संख्या में एक माह के अन्तराल में दो लाख से अधिक वृद्धि हुई है। मण्डल के जनपदों में धान खरीद की समीक्षा में बताया गया कि आजमगढ़ में 69 में से 66 केन्द्रों पर, बलिया में 75 में 29 केन्द्रों पर खरीद जारी है, जबकि मऊ में 15 केन्द्रों पर खरीद नहीं हुई है। उन्होंने कहा जनपद बलिया में धान खरीद के सम्बन्ध में अधिक शिकायतें मिल रही हैं तथा मऊ में भी धान खरीद की स्थिति ठीक नहीं है। उन्होने संभागीय खाद्य नियन्त्रक को निर्देश दिया कि तत्काल आरएमओ, डिप्टी आरएमओ आदि के साथ दोनों जनपदों का भ्रमण कर वस्तुस्थिति से अवगत करायें। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने गावों में सामुदायिक शौचालयों के निर्माण की प्रगति की समीक्षा में पाया कि आजमगढ़ में 104, मऊ में 325 एवं बलिया में 85 सामुदायिक शौचालयों का निर्माण अनारम्भ है। इस सम्बन्ध में बताया गया कि इनमें अधिकांश गांवों में जमीन का चयन नहीं हो पा रहा है। उन्होंने तीनों जनपदों के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि व्यक्गित रूचि लेकर यथाशीघ्र स्थल चयन की कार्यवाही पूर्ण कराते हुए निर्माण कार्य प्रारम्भ कराया जाय। पंचायत भवनों के निर्माण की समीक्षा मंे पाया गया कि केवल आजमगढ़ में 42 पंचायत भवन पूर्ण हैं, जबकि तीनों जनपदों में बड़ी संख्या में पंचायत भवनों का निर्माण कार्य अभी अनारम्भ है। मण्डलायुक्त ने कहा कि जनपदों में बहुत सी ऐसी सड़कें हैं जिसपर निर्माण कार्य अत्यन्त जरूरी था, परन्तु कार्य दूसरी सड़क पर कराये जा रहे हैं। इस सम्बन्ध में उन्होंने तीनों जिलाधिकारियों से कहा कि लोक निर्माण विभाग के जो नये निर्माण कार्य कराये जा रहे हैं उनके चयन के आधार एवं औचित्य की जाॅंच करायें। बैठक में अन्य कार्यों की भी विस्तार से समीक्षा की गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी आजमगढ़ राजेश कुमार, जिलाधिकारी मऊ अमित सिंह बंसल, जिलाधिकारी बलिया श्रीहरि प्रताप शाही, मुख्य विकास अधिकारी आजमगढ़ आनन्द कुमार शुक्ला, मुख्य विकास अधिकारी मऊ रामसिंह वर्मा, वन संरक्षक डा. बोनिक चन्द्र ब्रम्हा,उप निदेशक,अर्थ एंव संख्या अमजद अली अन्सारी, उप निदेशक पंचायत राम जियावन,संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा एपी वर्मा,संयुक्त निदेशक,स्वास्थ्य डा. मुकीमुल्लाह,संयुक्त कृषि निदेशक एसके सिंह, मुख्य अभियन्ता विद्युत सहित अन्य मण्डलीय अधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment