.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: अमर शहीद भगवती प्रसाद सिंह के शहादत दिवस पर दी गई श्रद्धांजलि



1962 के भारत चीन युद्ध में शहीद हुए थे भगवती प्रसाद सिंह
 

आज़मगढ़: अतरौलिया : मदियापार अहिरौला मार्ग पर स्थित शहीद उपवन में 1962 के भारत चीन युद्ध में शहीद हुए भगवती प्रसाद सिंह के शहादत दिवस पर आदमकद प्रतिमा पर पुष्प माला अर्पित कर भारत माँ के वीर अमर सपूत को याद किया गया।भगवती प्रसाद सिंह अमर रहे,वंदे मातरम के जयघोष से पूरा वातावरण गूंज उठा। कार्यक्रम की अध्यक्षता जयनाथ सिंह पूर्व जिलाध्यक्ष भाजपा ने किया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजेश प्रताप सिंह पूर्व डीजी सीआरपी रहे तथा विशिष्ट अतिथि उप जिलाधिकारी बूढ़नपुर दिनेश मिश्रा तथा उनकी पत्नी नमिता मिश्रा रही ।कार्यक्रम का संचालन कवि भालचंद्र त्रिपाठी ने किया। सर्वप्रथम ललिता देवी शहीद भगवती सिंह की पत्नी ने पुष्प और माला पहनाकर देश के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले पति शहीद भगवती सिंह को नमन किया । इस अवसर पर उनकी एकमात्र पुत्री सुदामा देवी भी मौजूद रही । भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष जयनाथ सिंह ने मूर्ति पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की ।लोगो को संबोधित करते हुए उपजिलाधिकारी बूढ़नपुर दिनेश मिश्रा ने कहा कि 1962 में भारत चीन युद्ध के दौरान जिनके पति भगवती प्रसाद सिंह जी शहीद हो गए आप कल्पना कीजिए उस मां से पूछिए जिसने पूरी जिंदगी उस शहीद के सम्मान और देश के सम्मान के लिए अर्पित कर दिया। मैं उसी माता के चरणों में नमन करता हूं । उन्होंने ने कहा कि मैं उन लोगों को बधाई का देता हूं जो लग करके इस तरह स्थान पर देश के लिए शहीद लोगों के लिए उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा इनकी जो आगे योजना है ,उसको बनाइए हम इसे अमली जामा पहनाने के लिए तैयार रहेंगे तथा शहीद की याद में एक भवन का निर्माण भी कराया जाय जहाँ इनके जन्म तक कि स्मृतियां रखी जाय जिसे युवा पीढ़ी के लोग देख सके। मुख्य अतिथि राजेश प्रताप सिंह डीजी सीआरपी ने कहा कि यह बहुत ही अच्छी और स्वस्थ परंपरा है। शहीदों ने जिन्होंने देश के लिए कुर्बानी दी, देश को आगे बढ़ाया और इस देश की एकता और अखंडता को एक रखा । उनकी आज शहादत दिवस पर हम उन्हें याद करें और यह सोचे कि जिस देश को आगे बढ़ाने के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी उस देश को कैसे हम लोग मिलकर एक रखें ,अखंड रखें ।आजकल भारत के ऊपर लोगों की बुरी निगाहें हैं उन सब से कैसे महफूज रखते हुए आज दुनिया में विश्व गुरु के पद पर बने रहे ।कार्यक्रम के संयोजक व्यवस्थापक डॉ राजेंद्र सिंह ने आए हुए सभी लोगों का आभार व्यक्त किया। इस मौके पर जय नाथ सिंह, प्रमोद सिंह ,नीरज तिवारी ,अखंड सिंह ,हरीश तिवारी ,रमेश सिंह ,आनंद तिवारी, हिमांशु पांडे ,राम सिंह ,राजेंद्र प्रसाद सिंह ,सूबेदार श्रीराम यादव ,फूलचंद यादव, सीताराम सिंह, प्रमोद यादव ,राजेंद्र प्रसाद यादव तथा सहीद परिवार के रामकेश सिंह,बिपिन सिंह मौजूद रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment