.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आज़मगढ़: लखनऊ में एसटीएफ ने असलहा तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ किया



लखनऊ में आज़मगढ़ और मऊ के 02 युवक गिरफ्तार, 21 पिस्टल बरामद 

आज़मगढ़: एक बार फिर अवैध असलहा तस्करी को लेकर जिले का नाम सुर्खियों में आ गया है । हुआ यह है कि एसटीएफ ने शनिवार को प्रदेश की राजधानी में भारी मात्रा में अवैध पिस्टल की खेप पकड़ी है । जिसमें आजमगढ़ जिले के रहने वाला एक युवक मऊ जिले के अपने एक साथी के साथ लखनऊ में 21 पिस्टल के साथ पकड़ा गया। स्पेशल टास्क फोर्स ने मुखबिर की सूचना पर लखनऊ के कामता तिराहे से दोनों को गिरफ्तार किया। बताया जा रहा है कि दोनों अंतर्राष्ट्रीय असलहा तस्करी गिरोह का संचालन करते है। इस गिरोह में और भी सदस्य शामिल हो सकते है, जिनकी तलाश में एसटीएफ की टीम जुटी हुई है। एसटीएफ को काफी दिनों से प्रदेश में असलहा तस्करी की सूचना मिल रही थी। जिस पर एसटीएफ असलहा तस्करी करने वाले गिरोह पर नजर रखे थी। मुखबिर की सूचना पर लखनऊ के कामता तिराहे से पुलिस ने जिन दो असलहा तस्करों को 21 पिस्टल के साथ पकड़ा उसमें जिले के जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के धनछुला गांव निवासी अमरेश सिंह पुत्र अनिल सिंह भी शामिल है।इसके साथ पकड़ा गया साथी मऊ जिले के रानुपर निवासी प्रिंस कुमार सिंह पुत्र अनिल सिंह है। अमरेश व प्रिंस काफी दिनों से अवैध असलहा कारोबार में जुटे हुए है और मध्य प्रदेश के खंडवा व खरगोन जिले से अवैध असलहे लाकर उसकी प्रदेश ही नहीं देश व विदेश में भी सप्लाई करते थे। एक ओर जिले के रहने वाले युवक की लखनऊ में असलहा तस्कर के रूप में गिरफ्तारी हुई तो यहां भी हलचल हुई है । स्थानीय पुलिस भी लखनऊ में पकड़े गए धनछुला निवासी अमरेश सिंह के रिकार्ड खंगालने में जुट गई है । प्रभारी निरीक्षक जीयनपुर कोतवाली स्वतंत्र सिंह ने बताया कि धनछुला निवासी अमरेश सिंह के जीयनपुर कोतवाली में इसके खिलाफ 2018 में आईपीसी की हत्या के प्रयास का एक मुकदमा पंजीकृत है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment