.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

बहाल किया जाए विश्वकर्मा पूजा दिवस का सार्वजनिक अवकाश- रामआसरे विश्वकर्मा

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वकर्मा पूजा का अवकाश निरस्त कर समाज का अपमान किया है - पूर्वमंत्री

पूर्वमंत्री के नेतृत्व में विश्वकर्मा समाज के लोगों ने राष्ट्रपति व राज्यपाल को ज्ञापन भेजा

आजमगढ,: पूर्वमन्त्री राम आसरे विश्वकर्मा ने आज आजमगढ कलेक्ट्रेट में भगवान विश्वकर्मा पूजा के दिवस 17 सितम्बर के अवसर पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करने हेतु अपर जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल व राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन प्रेषित किया। पूर्वमन्त्री श्री रामआसरे विश्वकर्मा ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि भगवान विश्वकर्मा का पूजा दिवस विश्वकर्मा समाज के गौरव व स्वाभिमान का प्रतीक है। विश्वकर्मा समाज की पहचान भगवान विश्वकर्मा से है। देश में लगभग पांच, छ: करोड़ विश्वकर्मा समाज के लोग तथा उद्योग शिल्प तकनीकी अभियन्त्रण व्यवसाय तकनीकी शिक्षा वास्तु कारीगर शिल्पी आदि 17 सितम्बर को भगवान विश्वकर्मा की पूजा आरती व आराधना करती है। उन सभी की भावनाएं भगवान विश्वकर्मा जी के मान सम्मान से जुडी है। हमारी मांग है कि सरकार देश की इतनी बड़ी आबादी की भावनाओं का सम्मान करते हुए भगवान विश्वकर्मा जी के पूजा दिवस पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करे। समाजवादी पार्टी की सरकार में मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव तथा मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने विश्वकर्मा पूजा दिवस का सार्वजनिक अवकाश घोषित करके विश्वकर्मा समाज का सम्मान बढाया था।भाजपा सरकार में मुख्यमन्त्री श्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वकर्मा पूजा का सार्वजनिक अवकाश निरस्त कर के विश्वकर्मा समाज का अपमान कर दिया। श्री विश्वकर्मा ने मांग की कि गोमती रिवर फ्रन्ट पर भगवान विश्वकर्मा का भव्य एवं विशाल मन्दिर का निर्माण होना चाहिए। ज्ञापन देने के क्रम मे अखिल भारतीय विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा जिला महासचिव आजमगढ़ दिनेश विश्वकर्मा, विश्वकर्मा ब्रिगेड जिलाध्यक्ष शशिकान्त विश्वकर्मा विश्वकर्मा ब्रिगेड नगर अध्यक्ष दीपक विश्वकर्मा, महासचिव मनीष विश्वकर्मा ,एडवोकेट कैलाश विश्वकर्मा ,अवधेश विश्वकर्मा सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे ।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment