.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मुख सचिव/नोडल अधिकारी ने मलिन बस्ती एवं जीजीआईसी में इन्टीग्रेटेड कन्ट्रोल रूम का निरीक्षण किया


साफ-सफाई बराकर कराते रहें, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही न करें- के0 रविन्द्र नायक , नोडल अधिकारी

जिला अस्पताल में डाक्टर एवं मरीज के बीच एक शीशा लगायें और अन्दर व बाहर दोनो तरफ माइक की व्यवस्था करें- नोडल अधिकारी 

आजमगढ़ 29 जुलाई-- कोविड-19 महामारी से बचाव के दृष्टिगत प्रमुख सचिव एवं आयुक्त ग्राम्य विकास, उत्तर प्रदेश शासन/नोडल अधिकारी आजमगढ़ के0 रविन्द्र नायक द्वारा सिधारी हाइडिल चौराहे के पास मलिन बस्ती एवं जीजीआईसी आजमगढ़ में बनाये गये इन्टीग्रेटेड कन्ट्रोल रूम का निरीक्षण किया गया।
नोडल अधिकारी द्वारा सिधारी हाइडिल चैराहे के पास मलिन बस्ती में साफ-सफाई का निरीक्षण किया गया। इसी के साथ ही उन्होने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिये कि साफ-सफाई बराकर कराते रहें, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही न करें।
नोडल अधिकारी द्वारा इन्टीग्रेटेड कमाण्ड सेण्टर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा कन्ट्रोल रूम, पंचायती राज विभाग द्वारा निगरानी समिति एवं शिक्षा विभाग द्वारा कन्टैक्ट ट्रेसिंग हेतु अलग-अलग बनाये गये कन्ट्रोल रूम निरीक्षण किया गया।
नोडल अधिकारी द्वारा स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाये गये कन्ट्रोल रूम में कल के पाये गये कोरोना पाजीटिव मरीजों में से 03 पाजीटिव मरीजों का रैण्डम आधार पर संबंधित थानों पर मोबाइल फोन के माध्यम से जांच की गयी कि संबंधित थानो पर कन्टेनमेंट जोन बनाये जाने से संबंधित सूचना प्रेषित की गयी है।
नोडल अधिकारी ने इण्टीग्रेटेड कन्ट्रोल रूम के समस्त संबंधित अधिकारियों/कर्मचारियों को निर्देश दिये कि कोरोना पाजीटिव के मरीजों से संबंधित सूचना प्राप्त होते ही तत्काल इसकी सूचना संबंधित थानो, निगरानी समिति, एमओआईसी, आंगनवाड़ी, आशा एवं एम्बूलेंस को प्रेषित करें।
इसी के साथ ही नोडल अधिकारी के0 रविन्द्र नायक की अध्यक्षता में कोविड-19 महामारी से बचाव के दृष्टिगत कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक सम्पन्न हुई। इस अवसर पर नोडल अधिकारी द्वारा सीएमओ से जानकारी प्राप्त की गई कि एल-1 एवं एल-3 अस्पताल में कितने मरीजों को भर्ती करने की क्षमता है। इसी के साथ ही साथ कोरोना पाजीटिव मरीजों से संबंधित दवाओं की उपलब्धता के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसी के साथ ही नोडल अधिकारी द्वारा पीपीई किट के बारे में जानकारी प्राप्त की गई।
नोडल अधिकारी ने जिला अस्पताल के एसआईसी को निर्देश दिये कि जो डाक्टर मरीजों को देखने के लिए ओपीडी में बैठ रहे हैं, उनकी सुरक्षा के लिए डाक्टर एवं मरीज के बीच एक शीशा लगायें और अन्दर व बाहर दोनो तरफ माइक की व्यवस्था करें। इसी के साथ ही उन्होने यह भी निर्देश दिये कि ओपीडी काउण्टर पर मरीजों की जो भीड़ लगी रहती हैं, उनमें सोशल डिस्टेन्सिंग का अनुपालन कराये जाने एवं असहाय व्यक्ति/महिलाओं की सहायता हेतु एक कर्मचारी की ड्यूटी लगायें, जो ओपीडी में लगे हुए मरीजों की मानिटरिंग करे, यदि कहीं किसी मरीज को असुविधा हो तो उसे वह दूर करे। नोडल अधिकारी ने डीपीआरओ को निर्देश दिये कि वर्तमान समय में जल जनित बिमारियों के बढ़ने की ज्यादा सम्भावना है, इसके लिए पेयजल की व्यवस्था को ठीक करायें एवं शहरी/ग्रामीण क्षेत्रों में भी बराबर सेनिटाइजेशन एवं साफ-सफाई का कार्य कराते रहें।
सीएमओ ने बताया कि प्रत्येक ग्राम पंचायतों मंे स्वास्थ्य समिति का पैसा अण्टाइड फण्ड में 5 हजार रू0 रिलीज कर दिया गया है, जिस पर नोडल अधिकारी ने 03 आशा एवं 03 प्रधान से रैण्डम आधार पर जांच करने के लिए डीपीआरओ को निर्देश दिये कि उक्त आशा एवं प्रधान का मोबाइल नम्बर उपलब्ध करायें।
नोडल अधिकारी ने कोविड-19 महामारी में लगे हुए सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कोविड-19 से संबंधित सूचना प्राप्त होते ही संबंधित को तत्काल सूचित करें, इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न करें।
नोडल अधिकारी ने कहा कि जो भी कर्मचारी कोविड-19 के अन्तर्गत कार्य कर रहे हैं, उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाय, उनके स्वास्थ्य के बचाव के लिए स्वास्थ्य उपकरण उपलब्ध कराये जाने के लिए सीएमओ को निर्देश दिये। उन्होने कहा कि सभी कर्मचारी तन्मयता से कार्य करें।
इसी के साथ ही नोडल अधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि कोविड-19 महामारी से बचाव हेतु व्यापारियों के साथ बैठक करें एवं उनको बतायें कि कोविड-19 से बचाव के लिए अपने प्रतिष्ठानों को सोशल डिस्टेन्सिंग का अनुपालन करायें। इसी के साथ ही नोडल अधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिये कि जो कोरोना पाजीटिव व्यक्ति होम आइसोलेशन में है, उनके घरों पर पर्ची चस्पा करायें। इसी के साथ ही नोडल अधिकारी ने पुलिस के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जो कोरोना पाजीटिव व्यक्ति होम आइसोलेशन में है और कोविड-19 के गाइड लाइन का अनुपालन नही करता है तो उसपर कार्यवाही करें। यदि वह व्यक्ति दोबारा होम आइसोलेशन को नियमों को उल्लंघन करता है तो 5 गुना जुर्माना लगायें।
पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने बताया कि कोविड-19 गाइड लाइन का उल्लंघन करने पर 30000 व्यक्तियों पर जुर्माना लगाया गया है, जिसमें 26,80,000 रू0 की धनराशि जमा करायी गयी है और 2196 व्यक्तियों का चालान किया गया है। इण्टीग्रेटेड कन्ट्रोल रूम का टोल फ्री नम्बर- 05462-356039 है, जिस पर कोई भी व्यक्ति कोविड-19 से संबंधित सूचना दे सकता है।
इस अवसर पर जिलाधिकारी राजेश कुमार, पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह, मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार शुक्ला, मुख्य राजस्व अधिकारी हरी शंकर, अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेन्द्र सिंह, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 गुरू प्रसाद, एसपी ट्रैफिक सुधीर जायसवाल, एसडीएम सदर रावेन्द्र सिंह, पीडी अभिमन्यु सिंह, डीडीओ रवि शंकर राय, डीसी मनरेगा बीबी सिंह, डीसी एनआरएलएम बीके मोहन, डीडी कृषि डाॅ0 आरके मौर्य, एसीएमओ डाॅ0 संजय, डाॅ0 वाईके राय, प्राचार्य डायट अमरनाथ राय, जिला अस्पताल के एसआईसी एसकेजी सिंह सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment