.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: प्रोफेसर ने पंजीकृत किया प्रदेश का पहला साइबर क्राइम गैंग, 24 की खुलेगी हिस्ट्रीशीट

आजमगढ़ और जौनपुर के युवा संगठित तरीके से कर रहे थे एटीएम कार्ड क्लोनिंग और स्वैपिंग - प्रो0 त्रिवेणी सिंह ,एसपी 

गैंग के लीडर पर पहले से दर्ज है साइबर अपराध के 14 मामले:  साइबर सेल,स्वाट टीम व दीदारगंज पुलिस ने पकड़ा 

आजमगढ़: साइबर कॉप के रूप ख्याति प्राप्त जिले के पुलिस अधीक्षक प्रो0 त्रिवेणी सिंह ने आज एक अलग ही काम किया। आजमगढ़ में अपने 16 महीनो के कार्यकाल में उन्होंने पाया की जिला साइबर क्राइम के मामले में बहुत ही आगे चल रहा है। हर बार उनकी पुलिस इन साइबर अपराधियों के जाल तो तोड़ती थी तो फिर से नए मामले सामने आ जाते थे। प्रोफेसर ने जब गहराई से तफ्तीश किया तो पता चला जिले में भारी संख्या में युवा साइबर अपराध विशेष कर बैंक खातों से रुपये उड़ाने में सक्रिय हैं, वो भी एक संगठित तरीके से काम कर रहे हैं। बुधवार को पुलिस को भारी सफलता भी मिली जब इस गैंग के 05 लोगों को धर दबोचा। एसपी ने बताया इस गिरफ्तारी के साथ साइबर क्रिमिनलों के समूह का पर्दाफाश हो गया। उन्होंने बताया की दीदारगंज पुलिस ने एटीएम की क्लोनिंग और कार्ड बदलकर बैंकों से पैसा निकालने वाले अन्तर्जनपदीय गिरोह के 5 शातिर साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। इनसे पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि इस गैंग में 24 लोग शामिल हैं, ये आजमगढ़ और जौनपुर के युवा हैं, जो साइबर अपराध में शामिल हैं। पकड़ा गया गैंग का लीडर तो कई बार साइबर क्राइम में जेल जा चुका है ,उस पर 14 मुकदमें दर्ज हैं । इसे गंभीरता से लेते हुए एसपी के निर्देश पर उत्तर प्रदेश में पहले साइबर अपराधी गैंग के रूप में इन्हें रजिस्टर कर लिया गया है। अब इस गैंग के सभी सदस्यों की हिस्ट्रीशीट खोले जाने के साथ ही गैंगस्टर और कुर्की की कार्रवाई होगी।
एसपी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि नवीन गौतम गैंग का लीडर है, ये कई बार साइबर क्राइम केस में जेल जा चुका है. आज हमने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनसे पता चला है कि आजमगढ़ और जौनपुर के 24 लड़के इस गैंग में शामिल हैं, ये सभी नई उम्र के पढ़े-लिखे नौजवान हैं। अब इन सभी की हिस्ट्रीशीट खोली जाएगी और सभी पर गैगस्टर लगाकर इनकी प्रॉपर्टी कुर्क की जाएगी। एसपी ने बताया कि इनका इंटर रेंज गैंग खोला जा रहा है, क्योंकि ये गैंग आजमगढ़ और वाराणसी दो रेंजों में ऑपरेट कर रहा है। एसपी ने बातया कि ये साइबर क्रिमिनल्स का पहला गैग रजिस्टर्ड है। दरअसल आजमगढ़ सहित यूपी के विभिन्न जिलो में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग तथा एटीएम कार्ड बदलकर मासूम जनता के बैंक खाते से पैसा निकालने की शिकायतें काफी दिनों से लगातार मिल रही थीं. मामले में पुलिस अधीक्षक ने पुलिस अधीक्षक अपराध सुधीर जायसवाल और क्षेत्राधिकारी सदर मो अकमल खां के नेतृत्व में साइबर सेल व स्वाट प्रभारी व थानाध्यक्ष दीदारगंज को गैंग का खुलासा और गिरफ्तारी करने के लिए लगाया गया था। 17 जून को पुलिस ने सुरहन तिराहे पर 5 संदिग्ध व्यक्तियों को पकड़ने की कोशिश की तो वे भागने लगे. इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ में पता चला कि ये आजमगढ़ का नवीन गौतम पुत्र सोचन गौतम, शिवम, सिकंदर राजभर, अविनाश और जौनपुर का रहने वाला प्रवेश है। इनके पास से पुलिस ने 12 एटीएम कार्ड बरामद किए, वहीं प्रवेश के पास से एक तमंचा और कारतूस भी बरामद हुआ।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment