.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

लाॅकडाउन में बन्द हुई निर्माणाधीन एवं नई परियोजनाओं को तत्काल शुरू करें : मण्डलायुक्त

मनरेगा कन्वरजेन्स में जिन विभागों ने प्रस्ताव अभी तक नहीं भेजा वह आज ही भेजें, अन्यथा होगी कार्यवाही

समीक्षा बैठक में अनुपस्थित अधिशासी अभियन्ता लघु सिंचाई एवं वन संरक्षक को मिली प्रतिकूल प्रविष्टि

आज़मगढ़ 12 जून -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने मनरेगा कन्वरजेन्स से सम्बन्धित समस्त विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे इस योजना के तहत विभाग द्वारा कराये जाने वालों का प्रस्ताव तत्काल डीसी मनरेगा को उपलब्ध करा दें। उन्होंने कहा कि मनरेगा कन्वरजेन्स के तहत सभी कार्य 15 जून से प्रारम्भ कर दिया जाना है तथा शासन स्तर पर इसे प्राथमिकता दी जा रही है, इसलिए प्रस्ताव उपलब्ध कराने में यदि किसी विभाग द्वारा शिथिलता पाई जाती है तो सम्बन्धित अधिकारी के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। इसी प्रकार उन्होंने जनपद आज़मगढ़, मऊ एवं बलिया में सड़क सहित अन्य समस्त निर्माण कार्यों के सम्बन्ध में भी निर्देशित किया कि लाॅकडाउन घोषित होने के कारण जो निर्माण कार्य बाधित हो गये हैं या अभी तक आरम्भ नहीं हो सकी हैं, उन सभी परियोजनाओं पर तत्काल निर्माण कार्य प्रारम्भ करा दिया जाय। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी शुक्रवार को अपने कार्यालय के सभागार में मण्डल के जनपदों में मनरेगा कन्वरजेन्स में प्राप्त प्रस्तावों एवं उसकी स्वीकृति के साथ ही लाॅकडाउन के कारण बाधित एवं अनारम्भ निर्माण कार्यों की अद्यतन स्थिति की समीक्षा कर रही थीं। उन्होंने मनरेगा कन्वरजेन्स के प्रस्तावों एवं उसकी स्वीकृति की समीक्षा में पाया कि लघु सिंचाई विभाग द्वारा अभी तक कोई प्रस्ताव नहीं उपलब्ध कराया गया है, जबकि इस सम्बन्ध में स्थिति स्पष्ट कराये जाने हेतु अधिशासी अभियन्ता लघु सिंचाई बैठक में उपस्थित भी नहीं थे। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने इस स्थिति पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए अधिशासी अभियनता लघु सिंचाई को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश दिया। इसी प्रकार वन विभाग द्वारा भी प्रस्ताव उपलब्ध नहीं कराये जाने के सम्बन्ध में वस्तुस्थिति से अवगत कराये जाने हेतु वन संरक्षक अनुपस्थित पाये गये। मण्डलायुक्त ने उन्हें भी प्रतिकूल प्रविष्टि देने के साथ ही शासन को पत्र प्रेषित किये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने मनरेगा कन्वरजेन्स में प्राप्त प्रस्तावों की विभागवार समीक्षा के दौरान जनपद आज़मगढ़ में कई विभागों द्वारा लक्ष्य के सापेक्ष प्रस्ताव प्रेषित करने में कमी मिलने पर असन्तोष व्यक्त किया तथा कहा कि 15 जून से सभी स्वीकृत कार्यों को अनिवार्य रूप से प्रारम्भ किया जाना है, इसलिए सम्बन्धित विभाग प्रस्ताव उपलब्ध कराने में तत्परता दिखायें।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने वृक्षारोपण हेतु जनपद मऊ एवं बलिया में गड्ढा खुदाई कार्य की प्रगति काफी खराब मिलने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि वृक्षारोपण के लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत गड्ढों की खुदाई 30 जून तक अनिवार्य रूप पूर्ण किया जाना है। उन्होंने दोनों जनपदों के डीसी मनरेगा को इस ओर व्यक्तिगत ध्यान देकर समय से कार्य पूर्ण कराये जाने का निर्देश दिया। बैठक में अवगत कराया गया कि जनपद बलिया मंे 19 तथा मऊ में 22 ऐसी ग्राम पंचायतें हैं, जहाॅं अभी तक मनरेगा के तहत कार्य प्रारम्भ नहीं कराये गये हैं। इस पर मण्डलायुक्त ने कहा कि वर्तमान में अन्य प्रदेशों से आये प्रवासी मजदूरों को रोजगार मुहैया कराये जाने की दृष्टि से यह स्थिति काफी दयनीय है। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को उन गांवों में तत्काल कार्य प्रारम्भ कराते हुए वस्तुस्थिति से दो दिन में अवगत कराने का निर्देश दिया। उन्होंने मनरेगा में विलम्बित भुगतान आज़मगढ़ एवं बलिया में अधिक पाये जाने पर भी असन्तोष व्यक्त किया। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा के दौरान सभी कार्यदायी संस्थाओं के पदाधिकारियों को निर्देशित किया कि लाॅकडाउन घोषित होने के उपरान्त जिन परियोजनाओं का कार्य अवरुद्ध हो गया है या जिन परियोजनाओं पर अभी कार्य प्रारम्भ नहीं कराया जा सका है, उन सभी परियोजनाओं का निर्माण कार्य तत्काल प्रारम्भ करा दिया जाय, अकारण कार्य बन्द रखने या अनारम्भ रखने पर सम्बन्धित कार्यवादायी संस्था के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। इसी के साथ उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिन जिन विभागों की परियोजनायें निर्माणाधीन हैं उनसे सम्बन्धित अधिकारी कार्य प्रारम्भ होने की जाॅंच अपने स्तर से कर लें। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने कहा कि शासन द्वारा मण्डलीय अधिकारियों के माध्यम से उनके विभागीय कार्यों से सम्बन्धित प्रगति की समीक्षा की जायेगी, इसलिए सभी अधिकारी अपने विभाग से सम्बन्धित सभी कार्यों की निरन्तर मानीटरिंग करते रहें।
इस अवसर पर संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. एनएल यादव, संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा एपी वर्मा, उप निदेशक पंचायत राम जियावन, सचिव आज़मगढ़ विकास प्राधिकरण बैजनाथ, अधीक्षण अभियन्ता लोनिवि आरएन दास, तीनों जनपद के डीसी मनरेगा सहित अन्य विभागों के अधिकारी एवं कार्यदायी संस्थाओं के पदाधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment