.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़ :निजामाबाद इंस्पेक्टर लाइन हाजिर,एडीजी की बैठक में अधिकारियों के छूटे पसीने

वाराणसी जोन के एडीजी बृजभूषण शर्मा ने जिले की कानून व्यवस्था की गहन समीक्षा किया 

सीओ सगड़ी, शहर कोतवाल, देवगांव कोतवाल व एसओ दीदारगंज को कड़ी चेतावनी दे  15 दिनों में सुधार लाने का निर्देश

आजमगढ़ :जिले की कानून व्यवस्था की समीक्षा के लिए वाराणसी जोन के एडीजी बृजभूषण शर्मा शनिवार को पुलिस लाइन आए। उन्होंने एक-एक बिदु पर समीक्षा शुरू की तो सभी के पसीने छूटने लगे। तीन घंटे तक चली समीक्षा में एडीजी ने इधर पांच-छह माह में जिले में हुई लूट, छिनैती, दुराचार, छेड़खानी, हत्या आदि की घटनाओं में अभी तक की कार्रवाई के बारे में जानकारी ली। कार्रवाई में शिथिलता पाए जाने पर एडीजी जोन वाराणसी ने निजामाबाद थाना के प्रभारी निरीक्षक को लाइनहाजिर कर दिया। घटना का सही पर्यवेक्षण न करने पर सीओ सगड़ी को अल्टीमेटम देते हुए 15 दिन का समय दिया है। लूट आदि की घटनाओं में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी न करने पर शहर कोतवाल केके गुप्त, देवगांव कोतवाल विमलेश मौर्य, दीदारगंज थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह व मुबारकपुर इंस्पेक्टर अखिलेश मिश्रा को भी फटकार लगाते हुए 15 दिन का समय देते हुए कार्रवाई की चेतावनी दी। एडीजी ने कहा कि गांव स्तर पर भूमि विवाद को लेकर अधिकतर विवाद सामने आ रहे हैं।
इन समस्याओं के समाधान के लिए उन्होंने ए, बी, सी की कटेगरी बनाई है। ए श्रेणी की घटनाओं का पर्यवेक्षण सीओ स्वयं करेंगे, जबकि बी श्रेणी में थानेदार व सी श्रेणी के विवादों को हल्का प्रभारी हल कराने का प्रयास करेंगे। कहा कि जहां भी इस प्रकार के विवाद में घटनाएं होने की आशंका है वहां ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई कराएं, अगर नहीं मान रहे हैं तो 122 के तहत संपत्ति की रिकवरी कराएं। एडीजी ने कहा कि जो भी अवारा तत्व व सांप्रदायिक गुंडे हैं जो गांव में कोई सांप्रदायिक, छेड़खानी, कानून व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं उनके भी खिलाफ सख्त कार्रवाई करें, ताकि वह दोबारा इस प्रकार की घटनाएं करने की हिम्मत न कर सकें। इस प्रकार की घटनाओं की समीक्षा वे स्वयं अपने स्तर से भी करेंगे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment