.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

खुलासा: मऊ में फ़र्ज़ी अंकपत्र के आधार पर 9 अभ्यर्थियों को मिला बीटीसी में प्रवेश

मण्डलायुक्त ने मण्डल के तीनों जनपदों में वृहद जाॅंच हेतु कमेटी का किया गठन

आज़मगढ़ 11 मार्च -- जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान मऊ में बीटीसी बैच 2015 में हुए प्रवेश की हुई जाॅंच में 9 अभ्यर्थियों द्वारा कूटरचित ढंग से अंक पत्रों में प्राप्तांक बढ़ाकर प्रवेश लिये जाने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में संलिप्त पाये जाने पर पटल प्रभारी मोहन चैहान व सहायक पटल प्रभारी शुभम मौर्य के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए दोनों कर्मचारियों की क्रमशः एक व दो वेतनवृद्धि स्थायी रूप से रोकते हुए प्रशासनिक आधार पर उनका स्थानान्तरण भी कर दिया गया है। इसके अलावा स्पष्ट रूप से निर्देशित किये जाने के बावजूद सम्बन्धित प्रशिक्षुओं के अंकपत्रों का सत्यापन तत्समय नहीं कराये जाने के कारण जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान मऊ के तत्कालीन प्राचार्य राजीव रंजन मिश्र की भूमिका की भी विस्तृत जाॅंच कराये जाने की संस्तुति की गयी है। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने मण्डल के अन्य जनपदों में तथा अन्य बैच में भी इस प्रकार की कूटरचनाओं की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए वृहद जाॅंच हेतु संयुक्त निदेशक, माध्यमिक शिक्षा की अध्यक्षता में जाॅंच कमेटी का भी गठन करते हुए सुस्पष्ट आख्या संस्तुति सहित उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। प्राप्त विवरण के अनुसार गत दिवस जहानागंज के ग्राम सेवटां निवासी डा. देवेन्द्रनाथ पाण्डेय ने इस आशय का प्रार्थना पत्र दिया था कि जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान मऊ में बीटीसी बैच 2015 में फर्जी अंकपत्र द्वारा ज्येष्ठता उच्च कर डायट मऊ में प्रवेश दिलाने में तत्कालीन प्राचार्य, पटल प्रभारी एवं सहायक पटल प्रभारी द्वारा अभिलेखों में हेरा फेरी कर हाईस्कूल, इण्टर मीडिएट एवं स्नातक में प्रथम श्रेणी दिखाया गया है, जबकि वास्तविक रूप से ऐसा नहीे है। उक्त प्रार्थना पत्र पर संयुक्त निदेशक, माध्यमिक शिक्षा एपी वर्मा ने जाॅंच किया तो पाया कि प्रकरण में तीन सदस्यीय समिति से जाॅंच कराई गयी। समिति द्वारा डायट मऊ में बीटीसी बैच 2015 के 50 अभ्यर्थियों की सत्यापन आख्या प्रस्तुत की गयी जिसके परीक्षण कराने पर स्पष्ट हुआ कि इसमें 9 अभ्यर्थियों प्रमोद कुमार यादव, सीमा यादव, रूबी यादव, रागिनी यादव, सोनम यादव, धर्मेन्द्र यादव, अभय कुमार मौर्य, अंजली सिंह एवं गौरव सिंह द्वारा हाईस्कूल, इण्टर मीडिएट व बीए के कूटरचित अंक पत्र संलग्न कर बीटीसी बैच 2015 में प्रवेश लिया गया है।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने मामले को संज्ञान में लेते हुए कहा कि केवल जनपद मऊ में ही बीटीसी बैच 2015 में 9 अभ्यर्थियों द्वारा कूटरचित अंक पत्र के आधार पर प्रवेश लिया जाना पाया गया है, जिससे अर्ह अभ्यर्थी प्रवेश पाने से वंचित रह गये हैं। उन्होंने कहा कि यह स्थिति आज़मगढ़ एवं बलिया में भी होना संभावित है। इसके अलावा बीटीसी बैच 2016, 2017 एवं 2018 में  भी मण्डल के जनपदों में इस प्रकार की कूटरचनाओं के आधार पर प्रवेश लिये जाने की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है। मण्डलायुक्त ने इन संभावनाओं को देखते हुए बीटीसी बैच 2015 के सम्बन्ध में जनपद आज़मगढ़ एवं बलिया तथा बीटीसी बैच 2016, 2017 एवं 2018 के प्रवेश के सम्बन्ध में तीनों जनपदों की तत्काल वृहद जाॅंच हेतु संयुक्त निदेशक, माध्यमिक शिक्षा एपी वर्मा की अध्यक्षता में जाॅंच कमेटी का गठन किया है। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में अनर्ह अभ्यर्थियों द्वारा प्रवेश लेकर बीटीसी की डिग्री प्राप्त करने के प्रयास को सफल नहीं होने दिया जायेगा। उन्होंने यह भी कहा कि कूटरचनाओं के आधार पर प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थियों के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही हेतु उच्चस्तर पर अवगत करा दिया गया है।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment