.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

प्राथमिकता वाले विकास कार्यों में तेज़ी लाने हेतु निरन्तर मानीटरिंग की जाय: मण्डलायुक्त

मण्डलायुक्त की समीक्षा बैठक से अनुपस्थित मुख्य अभियन्ता विद्युत एवं अधिशासी अभियन्ता ट्रान्सफार्मर से स्पष्टीकरण तलब

आज़मगढ़ 12 मार्च -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने कहा है कि शासन द्वारा निर्धारित विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में अपेक्षित प्रगति लाने हेतु प्रत्येक स्तर पर उसकी निरन्तर मानीटरिंग की जाय। उन्होंने कहा कि योजनाओं का क्रियान्वयन शासन द्वारा निर्गत दिशा निर्देशों के अनुरूप करते हुए समयबद्ध रूप से पूरा कराना सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने यह भी कहा कि जिन योजनाओं की हेतु धनराशि उपलब्ध है उन योजनाओं को इस माह के अन्त तक अनिवार्य रूप से पूर्ण कर लेें। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी वृहस्पतिवार को अपने कार्यालय के सभागार में शासन के विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों की समीक्षा कर रही थीं। समीक्षा बैठक में मुख्य अभियन्ता विद्युत तथा अधिशासी अभियन्ता ट्रान्सफार्मर के अनुपस्थित रहने पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए इन दोनों अधिकारियों को स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। श्रीमती त्रिपाठी ने शासन की प्राथीमिकताओं से सम्बन्धित कार्यक्रमों की बिन्दुवार समीक्षा में पाया कि आईजीआरएस पोर्टल पर जनपद बलिया में बड़ी संख्या में सन्दर्भ डिफाल्टर हैं। उन्होंने सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को इस ओर व्यक्तिगत ध्यान देकर तत्काल निस्तारित करने का निर्देश दिया। उन्होंने यह भी कहा कि भविष्य में सन्दर्भ डिफाल्टर मिलने पर सम्बन्धित विभाग के मण्डलीय अधिकारी को जिम्मेदार मानते हुए उनके विरुद्ध कार्यवाही की जायेगी। जनपदों में डिजिटल सिग्नेचर बनाये जाने के सम्बन्ध में उप निदेशक पंचायत ने अवगत कराया कि इसमें राज्य स्तर पर आज़मगढ़ 48वें, मऊ 49वें एवं बलिया 54वें स्थान पर है। इसी प्रकार आपरेशन कायाकल्प जिसके अन्तर्गत पंचायत भवन का अनुरक्षण, प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों, आगनबाड़ी केन्द्रों, एएनएम सेन्टरों, शासकीय विद्यालयों मंे शौचालय का निर्माण का कार्य कराया जाना हैं। इसमें राज्य स्तर की रैंकिंग में आज़मगढ़ 53वें, मऊ 65वें एवं बलिया 75वें स्थान पर है। मण्डलायुक्त ने पंचायत राज विभाग के कार्यों में प्रगति अपेक्षा से कम पाये जाने पर उप निदेशक पंचायत को निर्देशित किया कि निरन्तर मानीटरिंग कर विभागीय कार्यों में अपेक्षित प्रगति लाना सुनिश्चित किया जाय।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने समीक्षा के दौरान विद्युत विभाग के कार्यों पर असन्तोष व्यक्त करते हुए कहा कि विद्युत विभाग से सम्बन्धित बहुत अधिक शिकायतें प्राप्त हो रही हैं जिसमें मुख्य रूप से बिजली के बिलों में गड़बड़ी की शिकायत अधिक हैं। उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं द्वारा इस आशय की भी शिकायत की जा रही है कि गलत मीटर रीडिंग के कारण अधिक धनराशि की बिलें प्राप्त हो रही हैं, वैध कनेक्शन लिये जाने के बावजूद विद्युत बिल प्राप्त नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि बिलें अनियमित आने उपभोक्ताओं को काफी परेशानी होती है। उन्होंने इस बात पर नाराजगी व्यक्त किया कि बार बार निर्देश दिये जाने के बावजूद विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। पूर्व में दिये गये निर्देश के क्रम में की गयी कार्यवाही से अवगत कराने हेतु मुख्य अभियन्ता विद्युत उपस्थित नहीं थी, जिसपर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए मण्डलायुक्त ने उनसे स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। इसी प्रकार जिलाधिकारी मऊ ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी द्वारा एक माह से अधिक समय से जले ट्रान्सफार्मर के सम्बन्ध में मण्डलायुक्त को अवगत कराया कि उक्त ट्रान्सफार्मर अभी तक बदला नहीं गया है परन्तु रिपोर्टिंग में उसे बदल दिया जाना बताया गया है। इस सम्बन्ध में स्थिति स्पष्ट कराये जाने हेतु अधिशासी अभियनता, ट्रान्सफार्मर उपस्थित नहीं थे। मण्डलायुक्त ने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त किया तथा उनसे स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। उन्होंने बैठक में उपस्थित आज़मगढ़ के अधीक्षण अभियन्ता, विद्युत को निर्देश दिया ट्रान्सफार्मर के सम्बन्ध में गलत रिपोर्टिंग की जाॅंच करें तथा गलत रिपोर्टिंग करने वाले के विरुद्ध कार्यवाही करते हुए अवगत करायें। इसी प्रकार राजकीय नलकूपों की समीक्षा में पाया गया कि तीनों जनपद में बड़ी संख्या में राजकीय नलकूप विद्युत दोष के कारण बन्द हैं। इस सम्बन्ध में भी उन्होंने अधीक्षण अभियन्ता विद्युत को निर्देशित किया कि अपने स्तर से समीक्षा करें तथा जिन-जिन क्षेत्रों का नलकूप विद्युत दोष के कारण बन्द है उसका पूरा विवरण तैयार कर सम्बन्धित अधिकारी को उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए अपनी स्पष्ट आख्या उपलब्ध करायें। बैठक में अन्य बिन्दुओं की भी विस्तार से समीक्षा की गयी।
इस अवसर पर जिलाधिकारी आज़मगढ़ नागेन्द्र प्रसाद सिंह, जिलाधिकारी मऊ ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, जिलाधिकारी बलिया श्रीहरि प्रताप शाही, संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, मुख्य विकास अधिकारी आज़मगढ़ आनन्द कुमार शुक्ला, मुख्य विकास अधिकारी बलिया बीएन सिंह, उप निदेशक अर्थ एवं संख्या अमजद अली अन्सारी, अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. एनएल यादव, आरएफसी राजेश कुमार, संयुक्त कृषि निदेशक एसके सिंह, सीएमओ आज़मगढ़ व मऊ सहित अन्य सम्बन्धित विभागों के मण्डलीय एवं जनपदीय अधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment