.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

पूर्वांचल विकास निधि के अन्तर्गत धनराशि अवमुक्त करने में देर नहीं होना चाहिएः मण्डलायुक्त

सभी कार्यों की चेकिंग एवं क्रास चेकिंग मण्डलीय अधिकारियों के माध्यम से कराई जायेगी- कनक त्रिपाठी,आयुक्त आजमगढ़  

आज़मगढ़ 29 फरवरी -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने कहा है कि पूर्वांचल विकास निधि के अन्तर्गत जो भी कार्य कराये जा रहे हैं उन सभी कार्यों की चेकिंग एवं क्रास चेकिंग मण्डलीय अधिकारियों के माध्यम से कराई जायेगी। उन्होंने सभी कार्यदायी संस्थाओं को सचेत किया कि धनराशि प्राप्त होने पर कार्यों में समयबद्धता के साथ ही मानक एवं गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होंने आगाह किया सत्यापन में यदि गुणवत्ता के अनुरूप कार्य नहीं पाया जाता है तो सम्बन्धित अधिकारी को जिम्मेदार मानते हुए उनके विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी सोमवार को अपने कार्यालय के सभागार में पूर्वांचल विकास निधि के अन्तर्गत में कराये जा रहे कार्यों की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति की समीक्षा कर रही थीं। उन्होंने इस निधि के अन्तर्गत ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग द्वारा जनपदों मंे कराये गये कार्यों की गुणवत्ता के सत्यापन हेतु गत 22 फरवरी को गठित चारों टीमों की समीक्षा में पाया कि मात्र टीएसी (प्राविधिक परीक्षक, ग्राम्य विकास) केआर प्रजापति के द्वारा ही सत्यापन रिपोर्ट उपलब्ध कराई गयी है, जबकि उप निदेशक पंचायत, उप निदेशक दिव्यांगजन कल्याण एवं उप निदेशक पिछड़ा वर्ग कल्याण के स्तर से सत्यापन रिपोर्ट प्राप्त नहीं है। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इन अधिकारियों को आगाह करते हुए कहा कि भविष्य में इस प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। इसी प्रकार जनपद के तीनों जनपद में गड्ढामुक्त की गयी सड़कों में से कतिपय सड़कों के सत्यापन की रिपोर्ट भी नामित अधिकारियों द्वारा उपलब्ध नहीं कराई गयी। इसी प्रकार बैठक में यह भी अवगत कराया गया कि जनपद आज़मगढ़ में सांसद निधि के अन्तर्गत विगत वर्षों के अवशेष 48 कार्यों में से 14 कार्य हेतु कार्यदायी संस्था यूपी सिड्को द्वारा मांग पत्र डीआरडीए को कई माह पूर्व प्रेषित कर दिया गया है परन्तु धनराशि उपलब्ध होने के बावजूद अभी तक धनराशि अवमुक्त नहीं की गयी है। मण्डलायुक्त ने इस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि इन सभी कार्यों की पुनः विधिवत समीक्षा 4 मार्च को अपरान्ह 5 बजे कैम्प कार्यालय पर की जायेगी, जिसमें मुख्य विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक डीआरडीए एवं सम्बन्धित कार्यदायी संस्थायें धनराशि मांग के तिथिवार विवरण एवं तत्सम्बन्धी समस्त पत्रावली के साथ प्रतिभाग करना अनिवार्य है।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने पूर्वांचल विकास निधि की समीक्षा में पाया कि जिलांश में जनपद बलिया में वर्ष 2018-19 के स्वीकृत 35 में से 27 कार्य पूर्ण हैं जबकि 8 कार्य धनाभाव के कारण अपूर्ण हैं। अपूर्ण कार्यों में ग्रामीण अभियन्त्रण के 4, लोनिवि का 1 एवं जिला पंचायत के 3 कार्य हैं, जबकि राज्यांश में बलिया में स्वीकृत सभी 42 अपूर्ण हैं। उन्होंने निर्देश दिया कि धनाभाव के कारण बन्द कार्यों को पूर्ण करने हेतु शासन को तत्काल डिमाण्ड भेजी जाय। उन्होंने उप निदेशक अर्थ एवं संख्या अमजद अली अन्सारी को निर्देश दिया कि पूर्वांचल विकास निधि के अन्तर्गत कराये जा रही सभी कार्यों का परीक्षण कर उसकी आख्या दें। इसी प्रकार उन्होंने विभिन्न कार्यों के सत्यापन हेतु नामित अधिकारियों को भी निर्देशित किया कि जो भी जाॅंच की करें उसका प्रमाण पत्र भी दें।
इस अवसर पर उप निदेशक अर्थ एवं संख्या अमजद अली अन्सारी, अधीक्षण अभियन्ता लोनिवि बलिया एके मणि, अधीक्षण अभियन्ता ग्रामीण अभियन्त्रण बीके सिंह गौर, उप श्रमायुक्त रोशन लाल, अपर सांख्यिकीय अधिकारी डा. नीरज श्रीवास्तव सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment