.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

मण्डलायुक्त ने किया मण्डलीय चिकित्सालय का निरीक्षण,मिली खामियां तो दिया सख्त निर्देश

मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने मरीजों से मिलकर इलाज, दवाओं की उपलब्धता एवं खानपान की ली जानकारी

अस्पताल में साफ सफाई की व्यवस्था पर हुईं नाराज, सफाई ठेकेदार को तलब कर सख्त हिदायत दी 

आज़मगढ़ 22 फरवरी -- मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने शनिवार को मण्डलीय जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया तथा कई वार्डों में भर्ती मरीजों से मिल कर जहाॅं उनका कुशलक्षेम पूछा वहीं आपरेशन, दवा, खान पान के साथ ही अस्पताल द्वारा मुहैया कराई जा रही अन्य सुविधाओं आदि के बारे में विस्तार से जानकारी ली। निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि अस्पताल में 57 चिकित्सक के सापेक्ष 36 चिकित्सक तैनात हैं। मण्डलायुक्त के निरीक्षण के समय सभी चिकित्सक अपनी ड्यूटी पर पाये गये। उन्होंने अस्पताल में साफ सफाई की व्यवस्था पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सफाई ठेकेदार को तलब किया तथा सख्त हिदायत दी कि आउट सोर्सिंग के माध्यम से तैनात जो भी सफाई कर्मचारी काम नहीं कर रहे हैं उन्हें तत्काल हटाकर उनके स्थान पर अन्य कर्मचारी को रखें। उन्होंने आगाह किया कि शीघ्र ही पुनः निरीक्षण किया जायेगा यदि सफाई में सुधार नहीं पाया जाता है तो सम्बन्धित फर्म को ब्लैक लिस्टेड कर दिया जायेगा। मण्डलायुक्त श्रीमती त्रिपाठी ने इमेरजेन्सी वार्ड में भर्ती भरौली निवासी सौरभ सिंह, सकिया बकिया निवासी सौरभ तिवारी, जहानागंज निवासी धनपति देवी, पलिया सोफीगंज निवासी रामवृक्ष, तेजपालपुर धुसवा निवासी लालचन्द यादव, जमालपुर निवासी राजनाथ व देवपार निवासी कौशिल्या देवी आदि से विजिट, दवा, खान पान आदि के बारे में पूछा तो सौरभ सिंह ने बताया कि आपरेशन हेतु पैसा दिया गया है तथा दवायें भी बाहर से मंगाई गयी हैं। भोजन भी नियमित रूप से नहीं मिलना बताया गया। इसके अलावा मरीजों द्वारा यह भी अवगत कराया गया कि दूध नहीं मिल रहा है। मण्डलायुक्त ने इस स्थिति पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल इसमें सुधार लाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं को उपलब्ध नहीं कराये जाने से स्पष्ट होता है कि अस्पताल स्टाफ अपने दायित्वों के प्रति पूरी तरह सजग नहीं है। उन्होंने मरीजों की शिकायतों गंभीरता से लेते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इसकी जाॅंच कर तीन दिन के अन्दर आख्या देने का निर्देश दिया। उन्होंने इमरजेन्सी वार्ड की इंचार्ज नर्स इसरावती को भी कार्यों में सुधार लाने की हिदायत दी।
मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी के निरीक्षण के समय एक अन्य वार्ड में भर्ती थाना मुबारकपुर अन्तर्गत ग्राम इब्राहीमपुर निवासी आफताब आलम जिनके सिर और बाॅंह में पट्टी बंधी हुई था तथा उसमें से खून भी बह रहा था, ने अवगत कराया कि गांव में गोकशी की सूचना देने पर गत दिवस उनको बुरी तरह मारा पीटकर अधमरा कर दिया गया था। मारने पीटने वाले गोकशों के विरुद्ध मुबारकपुर थाने में तहरीर दी गयी परन्तु एफआईआर अभी तक दर्ज नहीं हुई है। इस पर मण्डलायुक्त ने तत्काल थानाध्यक्ष मुबाकरपुर से वार्ता किया तो अवगत कराया गया कि अभियुक्तों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर ली गयी है, परन्तु अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है। मण्डलायुक्त ने इस पर असन्तोष व्यक्त करते हुए तत्काल अभियुक्तों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करने हेतु थानाध्यक्ष को निर्देशित किया। अस्पताल परिसर में उपस्थित लोगों द्वारा पोस्ट मार्टम हाउस का फ्रीजर खराब होने, वहाॅं काफी गन्दगी होने तथा कई जाॅंच मशीनों की अनुपलब्धता के सम्बन्ध में अवगत कराया जिस पर मण्डलायुक्त ने इसकी जाॅंच की जिम्मेदारी प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को सौंपते हुए उनसे भी तीन दिन के अन्दर रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। इसके अलावा मण्डलीय जिला चिकित्सालय के कतिपय चिकित्सकों द्वारा प्राइवेट प्रैक्टिस किये जाने की शिकायत पर मण्डलायुक्त ने कहा कि साक्ष्यों के आधार पर ऐसी चिकित्सकों के विरुद्ध अवश्य कार्यवाही की जायेगी।
इस अवसर पर प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. एसकेजी सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके मिश्र, नेत्र सर्जन डा. ओम प्रकाश सहित अस्पताल के अन्य चिकित्सक उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment