.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
.

आजमगढ़: दो फरवरी को बिहार के राज्यपाल करेंगेे राष्ट्रीय होम्योपैथिक सेमिनार का उद्घाटन

होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन आफ इण्डिया प्रदेश इकाई व राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेज चंडेश्वर के संयुक्त तत्वाधान में है आयोजन 

आजमगढ़: होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन आफ इण्डिया प्रदेश इकाई व श्री दुर्गाजी राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेज चंडेश्वर के संयुक्त तत्वाधान में दो फरवरी को राहुल प्रेक्षागृह सिधारी में आयोजित राष्ट्रीय होम्योपैथिक सेमिनार का उद्घाटन बिहार के राज्यपाल फागू चैहान करेंगेे। इस सेमिनार में देश के माने जाने होमियोपैथिक चिकित्सक भाग लेंगे। आयोजकों का दावा है कि यह सेमिनार मील का पत्थर साबित होगी। सेमीनार में जहां होमियोपैथिक औषधियों और पुस्तकों की प्रदर्शनी लगायी जायेगी वहीं चिकित्सकों को अपने कार्यों को वैज्ञानिक प्रमाणिकता के साथ प्रस्तुत करने का अवसर मिलेगा। कार्यक्रम की तैयारियां जोरशोर से चल रही है। सेमिनार में चिकित्सा के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए दो चिकित्सकों को सम्मानित किया जाएगा।
केन्द्रीय होमियोपैथी परिषद के पूर्व सदस्य एवं सेमिनार आयोजन समिति के अध्यक्ष डा. भक्तवत्सल ने बताया कि राष्ट्रीय होम्योपैथी सेमिनार का उद्घाटन बिहार के राज्यपाल फागू चैहान करेंगे। सेमिनार में होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन आफ इण्डिया के अध्यक्ष व पूर्व अध्यक्ष सीसीएच डा. रामजी सिंह, नेशनल इंस्टीट्यूट आफ होम्योपैथी, कोलकता के निदेशक डा. सुभाष सिंह, उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक निदेशक डा. आनन्द चतृवेदी, अध्यक्ष होम्योपैथिक बोर्ड उत्तर प्रदेश डा. बीएन सिंह, पूर्व उपाध्यक्ष सीसीएच डा. अरूण भस्मे, पूर्व सदस्य सीसीएच डा. अनिरूद्ध वर्मा, डा. तनवीर, डा. सुरेश नदांल, पूर्व सदस्य सीसीएच डा. बीबी सिंह नवाब आदि लोग हिस्सा लेंगे । इसमें होम्योपैथिक शोध एवं अन्य वैज्ञानिक सत्र् पर चर्चा होगी। वैज्ञानिक सत्र् में डा. पवन पारीख, डा. हर्ष निगम, डा. पंकज श्रीवास्तव, डा. निशांत, डा. रीना सिंह प्रमुख वक्ता होंगेे। उन्होंने बताया कि इस दौरान चिकित्सा के क्षेत्र में विशेष योगदान देने वाले दो चिकित्सकों को सीसीआरएच के पूर्व निदेशक ख्यातिलब्ध चिकित्सक डा. डीपी रस्तोगी व डा. महेंद्र प्रताप सिंह मेमोरियल एवार्ड से सम्मानित किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि होमियोपैथी के अस्तित्व पर कड़े प्रहार किये गये है, लेकिन होमियोपैथी अबाध गति से अपनी गुणवत्ता के आधार पर सर्वसमाज द्वारा तेजी से स्वीकार होती आ रही है। वर्तमान समय में चिकित्सकों के लिए वर्तमान परिवेश में सबसे अच्छा यह है कि हम होमियोपैथी की उपयोगिता को प्रमाणित करें। श्री दुर्गाजी राजकीय होम्योपैथिक मेडिकल कालेज चंडेश्वर के प्रचार्य डा. राजेन्द्र सिंह राजपूत ने कहा की राष्ट्रीय होम्योपैथिक सेमिनार में देश के माने जाने 650 होम्योपैथिक चिकित्सक, छात्र छात्राएं हिस्सा लेगें। सेमिनार में होम्योपैथिक औषौधियों व पुस्तकों की प्रदर्शनी लगाई जायेगी। आजमगढ़ में होने वाला यह सेमिनार होम्योपैथिक के क्षेत्र में नया अयाम स्थापित करेगा।
इस मौके पर डा. राजेश तिवारी, डा. देवेश दूबे, डा. प्रमोद गुप्ता, डा. एके राय, डा. नेहा दूबे, डा. चंडी जीवन बनर्जी, डा. मनोज मिश्रा, डा. एसके राय, डा. रणधाीर सिंह, डा. बी पाण्डेय, डा. चमन लाल, डा. राज कुमार राय, डा. सीजे मौर्य, डा. प्रभात यादव, डा. नीरज सिंह, डा. एचएन पाठ्क, डा. नवीन दूबे डा. विरेन्द्र त्रिपाठी, डा. माला पाण्डेय, डा. अभिषेक राय, डा. अनुतोष वत्सल, नरेन्द्र श्रीवास्तव, डा. एससी सैनी आदि लोग उपस्थित थे।

Share on Google Plus

रिपोर्ट आज़मगढ़ लाइव

आजमगढ़ लाइव-जीवंत खबरों का आइना ... आजमगढ़ , मऊ , बलिया की ताज़ा ख़बरें।
    Blogger Comment
    Facebook Comment